ताज़ा खबर
 

INDvsAUS: जानिए कौन है स्‍टीव ओ’कीफी, जिसकी फिरकी के आगे चक्‍करघिन्‍नी हो गए टीम इंडिया के सितारे

स्‍टीव ओ'कीफी ने पुणे टेस्‍ट में कुल 70 रन दिए और 12 भारतीय बल्‍लेबाजों को चलता किया।

पुणे टेस्‍ट में स्‍टीव ओ’कीफी की फिरकी के चलते भारत पहली पारी में 105 और दूसरी में 107 रन पर सिमट गया। ( Photo:PTI)

पुणे टेस्‍ट में ऑस्‍ट्रेलिया ने भारत को ढाई दिन के अंदर ही चित कर सीरीज में 1-0 से बढ़त बना ली। इस जीत के नायक रहे बाएं हाथ के स्पिनर स्‍टीव ओ’कीफी। उन्‍होंने मैच में कुल 70 रन दिए और 12 भारतीय बल्‍लेबाजों को चलता किया। उनकी फिरकी के चलते ही भारत पहली पारी में 105 और दूसरी में 107 रन पर सिमट गया। नतीजा यह रहा कि उसे 333 रन से हार मिली जो कि साल 2012 के बाद भारत की घर में पहली शिकस्‍त है। साथ ही विराट कोहली की कप्‍तानी में पहली बार टीम इंडिया घर में हारी। बता दें कि ओ’कीफी को ऑस्‍ट्रेलिया टीम की सबसे कमजोर कड़ी बताया जा रहा था। ऑस्‍ट्रेलिया के दिग्‍गज लेग स्पिनर शेन वार्न ने भी ओ’कीफी को टीम में चुने जाने पर सवाल उठाया था। लेकिन इस स्पिनर ने पुणे टेस्‍ट में अपने प्रदर्शन से सबका मुंह बंद कर दिया।

पुणे टेस्‍ट में मैन ऑफ द मैच चुने जाने के बाद उन्‍होंने बताया कि पहली पारी में थोड़ी गड़बड़ थी। पहले छह विकेट सामान्‍य थे। बता दें कि भारत की पहली पारी में लंच से पहले उनका प्रदर्शन काफी साधारण था। सात ओवर में उन्‍होंने 23 रन दे दिए थे और उन्‍हें कोई विकेट नहीं मिला था। लेकिन लंच के बाद वे बिलकुल बदले हुए अंदाज में नजर आए। अगले छह ओवर में उन्‍होंने केवल 12 रन देकर 6 विकेट ले लिए। लंच के दौरान ओ’कीफी ने भारत के पूर्व क्रिकेटर एस श्रीराम से टिप्‍स लिए। श्रीराम को ऑस्‍ट्रेलियन टीम का स्पिन सलाहकार नियुक्‍त किया गया है। ओ’कीफी का पुणे टेस्‍ट में किया गया प्रदर्शन किसी विदेशी गेंदबाज का दूसरा सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन है। यह रिकॉर्ड इंग्‍लैंड के इयान बॉथम के नाम हैं जिन्‍होंने 1980 में मुंबई टेस्‍ट में 106 रन देकर 13 विकेट लिए थे।

32 साल के इस स्पिनर को जब भारत दौरे के लिए ऑस्‍ट्रेलियाई टीम में चुना गया था तो उन्‍होंने तैयारी के लिए बिग बैश लीग से अपना नाम वापस ले लिया था। उन्‍होंने मुथैया मुरलीधरन, मोंटी पनेसर, रंगना हेराथ और डेनियल वेट्टोरी से भी स्पिन के टिप्‍स लिए। उन्‍होंने 2014 में पाकिस्‍तान के खिलाफ दुबई टेस्‍ट के जरिए डेब्‍यू किया था। लेकिन वे 219 रन खर्च करने के बाद चार विकेट ले पाए। इसके दो साल बाद उन्‍हें दूसरा टेस्‍ट खेलने का मौका मिला। वे लगातार चोटों से भी जूझते रहे। जब भी उन्‍होंने अच्‍छा प्रदर्शन किया तब वे चोटिल हो गए लेकिन उन्‍होंने हार नहीं मानी। माना जा रहा है कि भारत दौरा उनके लिए भाग्‍यशाली साबित हो सकता है। पुणे टेस्‍ट से इसकी शुरुआत भी हो गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App