ताज़ा खबर
 

Ind vs Aus 2nd Test: भारत की नज़र सिरीज़ में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वापसी पर, मैच के दूसरे दिन बारिश की आशंका

Ind vs Aus 2nd Test: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ इस स्थल पर खेले गये आखिरी टेस्ट मैच में केवल पहले दिन का खेल हो पाया था और बाकी दिन बारिश हावी रही थी।

Author बेंगलुरु | March 3, 2017 5:52 PM
बेंगलुरु के चिन्नास्वामी स्टेडियम में भारतीय कप्तान विराट कोहली साथी खिलाड़ियों के साथ अभ्यास सत्र के दौरान। (PTI Photo by Shailendra Bhojak/3 March, 2017)

भारतीय टीम आत्मविश्वास से भरी ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ शनिवार (4 मार्च) को यहां जब दूसरा टेस्ट क्रिकेट मैच खेलने के लिये मैदान पर उतरेगी तो वह श्रृंखला के शुरुआती मैच में शर्मनाक हार से आहत विराट कोहली की कप्तान के रूप में सबसे कठिन परीक्षा भी होगी। भारतीय टीम ने ऐसे कम मौके देखे हैं जबकि घरेलू टेस्ट श्रृंखला में उसे शुरू में ही हार का सामना करना पड़ा हो और इसलिए चिन्नास्वामी स्टेडियम में होने वाला मैच अधिक दिलचस्प बन गया है। कोहली और उनकी टीम का चिंतित होना और साथ ही सतर्कता बरतना जायज है क्योंकि पुणे की स्पिन लेती पिच पर स्टीव ओकीफी की स्पिन गेंदबाजी के सामने भारतीय बल्लेबाजों ने नतमस्तक होने में देर नहीं लगायी और टीम को 333 रन के भारी अंतर से हार का सामना करना पड़ा। इस हार से भारतीय टीम का 19 मैचों तक चला अजेय अभियान भी समाप्त हो गया और अब पिछली हार से सबक लेकर नये सिरे से शुरुआत करने का समय है। अनिल कुंबले की देखरेख में खेल रही टीम चिन्नास्वामी की पिच पर जीत दर्ज करके चार मैचों की श्रृंखला में वापसी करने की कोशिश करने के लिये प्रतिबद्ध है। यहां की पिच पुणे की तुलना में कुछ बेहतर दिख रही है।

भारतीय बल्लेबाजों को ऑस्ट्रेलिया की नयी स्पिन जोड़ी नाथन लियोन और ओकीफी से तो निबटना होगा साथ ही तेज गेंदबाजी की जोड़ी मिशेल स्टार्क और जोश हेजलवुड के खिलाफ भी सतर्कता बरतनी होगी जो उनके लिये परेशानी खड़ी कर सकते हैं। इसी तरह से भारतीय अभी तक स्टीव स्मिथ को सस्ते में आउट करने का तरीका नहीं ढूंढ पाये हैं। ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने पहले मैच की मुश्किल पिच पर दूसरी पारी में शतक जड़ा और वह अपनी इस फॉर्म को जारी रखना चाहेंगे। रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा निश्चित तौर पर पुणे के मैच को भुलाना चाहेंगे क्योंकि वह ऐसा मैच था जहां उनके लिये कुछ भी सकारात्मक नहीं रहा और क्षेत्ररक्षकों ने भी उनका साथ नहीं दिया। डीआरएस का सही उपयोग एक अन्य मसला है। पहले टेस्ट मैच में भारतीय इसका सही तरह से उपयोग नहीं कर पाये थे। कोहली निश्चित तौर पर टास जीतना चाहेंगे जो पुणे में काफी अहम साबित हुआ था। वह स्वयं एक ‘फाइटर’ हें और उनका लक्ष्य ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों पर हावी होना रहेगा जैसा कि वह इससे पहले ऑस्ट्रेलिया के पिछले दौर में कर चुके हैं।

कप्तान कोहली हर हालत में चाहेंगे कि बल्लेबाज कोहली तेज गेंदबाज स्टार्क की रिवर्स स्विंग और ओकीफी की आर्म बॉल का सही तरह से अनुमान लगायें। पिच एक मसला है कि बेंगलुरु का मौसम भी गुल खिला सकता है क्योंकि मैच के दूसरे दिन यानि रविवार को बारिश की भविष्यवाणी की गयी है। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ इस स्थल पर खेले गये आखिरी टेस्ट मैच में केवल पहले दिन का खेल हो पाया था और बाकी दिन बारिश हावी रही थी। पिछले कुछ वर्षों में भारतीय टीम का सकारात्मक पहलू उसकी ‘बेंच स्ट्रेंथ’ और एक ही स्थान के लिये कई विकल्प रहा है और ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि भारतीय टीम प्रबंधन इस खास मैच के लिये किस तरह के टीम संयोजन को पंसद करता है। धोनी से कप्तानी हासिल करने के बाद कोहली की टीम का संयोजन बदलता रहा है। उन्होंने अब तक जिन 24 टेस्ट मैचों में कप्तानी की उनमें से अधिकतर में अलग अलग टीम संयोजन आजमाये। इस बार भी अंतिम एकादश में एक या दो बदलाव संभव हैं लेकिन यह पिच पर निर्भर करेगा जो पुणे की तुलना में बेहतर दिख रही है।

कोहली पांच गेंदबाजों के साथ खेलने के पक्षधर रहे हैं और उनकी यह रणनीति पिछले 18 महीनों में कारगर साबित हुई है। हालांकि ऑस्ट्रेलियाई स्पिनरों ने अनुकूल पिच पर भारतीय बल्लेबाजों की कमजोरी उजागर कर दी है जिससे भारतीय टीम की व्यवस्था थोड़ा संदेहास्पद बन गयी है। इसलिए यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या भारत की तरफ से टेस्ट मैचों में तिहरा शतक जड़ने वाले दूसरे बल्लेबाज बने करूण नायर को अतिरिक्त बल्लेबाज के रूप में एकादश में शामिल किया जाता है या नहीं। नायर कामचलाऊ स्पिनर की भूमिका भी निभा सकते हैं। अगर नायर को चुना जाता है तो फिर जयंत यादव को बाहर बैठना पड़ेगा। पिछले मैच में भारत की कमजोर कड़ी आफ स्पिनर जयंत यादव थे और वह गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों में कमजोर नजर आये। उनकी बल्लेबाजी पर किसी को गौर नहीं करना चाहिए क्योंकि बाकी बल्लेबाज भी नाकाम रहे थे। जब दिग्गज बल्लेबाज नहीं चल पाये हों तब नौवें नंबर के बल्लेबाज को दो और पांच रन बनाने के लिये दोष नहीं दिया जा सकता है।

यदि नायर खेलते हैं तो भारत को चार विशेषज्ञ गेंदबाजों के साथ उतरना होगा। अश्विन, जडेजा और उमेश यादव तो स्वाभाविक पसंद हैं। इशांत शर्मा ने खराब गेंदबाजी नहीं की लेकिन वह विकेट भी नहीं ले पाये। दूसरी पारी में हालांकि उन्हें केवल तीन ओवर ही दिये गये थे। भुवनेश्वर कुमार ने अपनी तेजी बढ़ायी है और वह रिवर्स स्विंग भी करने लगे हैं। इसके अलावा वह निचले क्रम में बल्लेबाजी भी कर सकते है। ऐसे में वह एक अच्छी पसंद हो सकते हैं। हार्दिक पंड्या ऑलराउंडर हैं लेकिन लंबी अवधि के प्रारूप में उनकी बल्लेबाजी को अभी आजमाया नहीं गया है। राष्ट्रीय कोच कुंबले ने अंतिम एकादश के बारे में कुछ भी बताने से इन्कार कर दिया जबकि दोनों टीमों के पूर्व कप्तानों ने इसको लेकर अपने विचार जरूर व्यक्त किये हैं। पूर्व भारतीय कप्तान मोहम्मद अजहरूद्दीन चाहते हैं कि इशांत और जयंत को बाहर कर देना चाहिए जबकि माइकल क्लार्क का मानना है कि दिल्ली के तेज गेंदबाज को टीम में बनाये रखना चाहिए।

अंजिक्य रहाणे एक अन्य खिलाड़ी हैं जिन पर अच्छा प्रदर्शन करने का दबाव है। रहाणे को पिछले पांच टेस्ट मैचों में नाकाम रहने के बावजूद टीम प्रबंधन का पूरा समर्थन हासिल है। हैदराबाद की सपाट पिच पर बांग्लादेश के खिलाफ एक अर्धशतकीय पारी को छोड़ दिया जाए तो रहाणे को इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला शुरू होने के बाद से रनों के लिये जूझना ही पड़ा है। जहां तक ऑस्ट्रेलिया का सवाल है तो पहले टेस्ट में बड़ी जीत के बाद अगर चोट की समस्या नहीं आती है तो वह अपनी विजयी टीम को बरकरार रख सकता है। स्मिथ को उम्मीद होगी कि प्रतिभाशाली सलामी बल्लेबाज मैट रेनशॉ मैच के लिये पूरी तरह फिट रहें। अगर पिच बल्लेबाजी के लिये अनुकूल होती है तो इसका फायदा डेविड वॉर्नर को भी मिलेगा जो अपनी नैसर्गिक आक्रामकता दिखा सकते हैं।

टीमें इस प्रकार हैं- भारत : केएल राहुल, मुरली विजय, चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली (कप्तान), अंजिक्य रहाणे, रिद्धिमान साहा (विकेटकीपर), रविचंद्रन अश्विन, रविंद्र जडेजा, जयंत यादव, उमेश यादव, इशांत शर्मा, अभिनव मुकुंद, करूण नायर, भुवनेश्वर कुमार, हार्दिक पंड्या और कुलदीप यादव में से।

ऑस्ट्रेलिया : मैट रेनशॉ, डेविड वॉर्नर, शॉन मार्श, स्टीव स्मिथ (कप्तान), पीटर हैंड्सकाम्ब, मिशेल मार्श, मैथ्यू वेड (विकेटकीपर), मिशेल स्टार्क, नाथन लियोन, जोश हेजलवुड, स्टीव ओकीफी, ग्लेन मैक्सवेल, मिशेल स्वेपसन, उस्मान ख्वाजा, जैकसन बर्ड और एस्टन एगर में से।

मैच सुबह नौ बजकर 30 मिनट पर शुरू होगा।

भारत- ऑस्ट्रेलिया के बीच 5 टॉप स्लेजिंग मोमेंट्स

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App