ताज़ा खबर
 

धोनी को नहीं मिला बल्लेबाजी का मौका, तो दर्शकों ने लगाया सौरव तिवारी हाय-हाय का नारा

सौरभ तिवारी की हूटिंग इसलिए हुई क्योंकि महेंद्र सिंह धोनी को बल्लेबाजी का मौका ही नहीं मिल पाया। मैदान में मौजूद फैंस धोनी की बल्लेबाजी देखना चाहते थे, इसलिए वे तिवारी की हूटिंग कर रहे थे

विजय हजारे ट्रॉफी में सर्विसेज के खिलाफ मुकाबले में सौरभ तिवारी ने शतकीय पारी खेली। महेंद्र सिंह धोनी को इस मैच में बल्लेबाजी का मौका ही नहीं मिला।(Photo: BCCI)

झारखंड के बल्लेबाज सौरव तिवारी ने विजय हजारे ट्रॉफी में सर्विसेज के खिलाफ शानदार शतक जमाकर अपनी टीम को जीत दिलायी। जीत के लिए 277 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी झारखंड टीम को अपने कैप्टन कूल की बल्लेबाजी की जरूरत ही नहीं पड़ी, क्योंकि सौरभ तिवारी (103 गेंद में नाबाद 102 रन, तीन चौके और छह छक्के) और इशांक जग्गी (92 गेंद में नाबाद 116 रन, 10 चौके और चार छक्के) ने मिल कर 214 रन की भागीदारी निभायी, जिससे टीम ने 22 गेंद रहते जीत दर्ज कर ली। लेकिन, शतक लगाने के बाद भी झारखंड के सौरभ तिवारी की हूटिंग हुई और कारण जानकर आप चौंक जाएंगे। झारखंड ने यह मुकाबला 7 विकेट से जीता।

सौरभ तिवारी की हूटिंग इसलिए हुई क्योंकि महेंद्र सिंह धोनी को बल्लेबाजी का मौका ही नहीं मिल पाया। मैदान में मौजूद फैंस धोनी की बल्लेबाजी देखना चाहते थे, इसलिए वे तिवारी की हूटिंग कर रहे थे। उन्होंने सौरभ तिवारी हाय हाय के नारे भी लगाए। तिवारी ने कहा, मैंने अपनी हूटिंग का बुरा नहीं माना, क्योंकि दर्शक माही भाई की बैटिंग देखना चाहते थे। इससे पहले सेना की टीम गौरव कोचर (50 रन) और नकुल वर्मा (48 रन) के बीच 104 रन की मजबूत सलामी साझेदारी का फायदा नहीं उठा सकी, जिससे टीम नौ विकेट पर 276 रन ही बना सकी।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Space Grey
    ₹ 25799 MRP ₹ 30700 -16%
    ₹3750 Cashback
  • Apple iPhone SE 32 GB Gold
    ₹ 25000 MRP ₹ 26000 -4%
    ₹0 Cashback

धोनी ने भले ही बल्लेबाजी नहीं की, लेकिन ड्रिंक्स ब्रेक के दौरान उनके टिप्स ने टीम की जीत में अहम भूमिका अदा की। इसका खुलासा जग्गी ने मैच के बाद किया। जग्गी ने कहा, ‘धोनी भाई ने भले ही बल्लेबाजी नहीं की, लेकिन ड्रिंक्स के दौरान उनकी टिप्स हमारे काम आई। माही भाई ने हमें संयम बरतते हुए खेलते रहने को कहा।’ तिवारी ने कहा, हम इसलिए भी ज्यादा चिंतित नहीं थे क्योंकि धोनी भाई की बल्लेबाजी बाकी थी। हम खुलकर खेले और टीम को जीत ‍दिलाने में सफल रहे। झारखंड ने 17 ओवरों में 65 रनों पर 3 विकेट खो दिए थे, लेकिन इसके बाद सर्विसेज के फील्डरों ने दोनों बल्लेबाजों को जीवनदान दिए। जिसका फायदा उठाते हुए सौरभ तिवारी और इशांक जग्गी ने शतक ठोक दिया।

क्रिकेट के 5 ऐसे रिकार्डस्, जो कर देंगे आपको हैरान

इस टीम को केविन पीटरसन की सलाह, ' स्पिन खेलना सीखो वरना भारत को दौरा रद्द कर दो'

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App