ताज़ा खबर
 

तीसरे स्थान पर पुजारा पर विलियमसन भारी

किसी भी क्रिकेट मैच में तीसरे क्रम के बल्लेबाज की खास अहमियत होती है। विश्व टैस्ट चैंपियनशि के फाइनल में भी होगी। भारतीय टीम के लिए इस क्रम में बल्लेबाजी का जिम्मा चेतेश्वर पुजारा निभाते हैं।

चेतेश्‍वर पुजारा, विलियमसन।

किसी भी क्रिकेट मैच में तीसरे क्रम के बल्लेबाज की खास अहमियत होती है। विश्व टैस्ट चैंपियनशि के फाइनल में भी होगी। भारतीय टीम के लिए इस क्रम में बल्लेबाजी का जिम्मा चेतेश्वर पुजारा निभाते हैं। वहीं न्यूजीलैंड की ओर से इस स्थान पर कप्तान केन विलियमसन बल्लेबाजी के लिए आते हैं। हालांकि आंकड़ों के मुताबिक कई मामलों में विलियमसन पुजारा पर भारी दिख रहे हैं।

दरअसल, पुजारा हों या विलियमसन दोनो ही बल्लेबाज तकनीक के मामले में काफी मजबूत और मिजाज के मामले में शांत नजर आते हैं। यह दोनों ही खिलाड़ियों की मजबूती है। पुजारा ने टैस्ट करिअर में 46.59 के औसत से 6,244 रन बनाए हैं इसमें 18 शतक शामिल हैं। इसमें नंबर तीन पर बल्लेबाजी करते हुए 126 पारियों में 47.33 के औसत से 5727 रन नबाए हैं। इसमें 17 शतक शामिल हैं।

दूसरी तरफ केन विलियमसन ने अपने करिअर में ओवरआॅल 145 पारियों में 52.09 के औसत से 7128 रन बनाए हैं। इसमें 24 शतक शामिल हैं। नंबर तीन पर बल्लेबाजी करते हुए 126 पारियों में उन्होंने 57.31 के औसत से कुल 6534 रन बनाए हैं। इसमें 22 शतक शामिल हैं। इन आंकड़ों से साफ हो जाता है कि विलियमसन, पुजारा से मजबूत हैं। इन दोनों खिलाड़ियों की कुछ मजबूती है तो कुछ कमजोरियां भी हैं। टैस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला इंग्लैंड में होना है और इन दोनों खिलाड़ियों का बल्ला यहा ज्यादातर खामोश ही रहा है। केन ने यहां पांच टैस्ट मैच की नौ पारियों में 28.88 के औसत से 260 रन बनाए हैं। वहीं पुजारा ने नौ टैस्ट की 18 पारियों में 29.41 के औसत से 500 रन बनाए हैं।
इन दोनों खिलाड़ियों ने इंग्लैंड में एक-एक शतक जमाए हैं।

Next Stories
1 विदेश में 2019 से चुप है कोहली का बल्ला
2 पाकिस्तानी फैंस यूनिस खान को मैदान से बाहर भेजने के लिए करने लगे थे हंगामा, पूर्व कप्तान ने सुनाई भारत के खिलाफ मैच की कहानी
3 CSK के ओपनर फाफ डुप्लेसिस के बिगड़े बोल, पाकिस्तान के PSL को बताया IPL से बेहतर
ये पढ़ा क्या?
X