ताज़ा खबर
 

आईसीसी महिला विश्व कप क्वालीफाईंग: दक्षिण अफ्रीका से भिड़ने को तैयार है अजेय भारतीय महिला टीम

भारत ने अपने आखिरी मैच में पाकिस्तान को सात विकेट से हराया।

Author कोलंबो | February 20, 2017 22:08 pm
मैच के दौरान शॉट लगातीं भारत की महिला क्रिकेटर मिताली राज। (Cricinfo File Photo)

आईसीसी महिला विश्व कप में अपनी जगह सुरक्षित करने के बाद भारत और दक्षिण अफ्रीका की टीमों के पास क्वालीफाईंग टूर्नामेंट के मंगलवार (21 फरवरी) को यहां होने वाले फाइनल में बड़े मैचों में स्वच्छंद होकर खेलने और अपना सर्वश्रेष्ठ कौशल दिखाने का सुनहरा मौका रहेगा। भारत सुपर सिक्स के बाद अंकतालिका में शीर्ष पर रहा जबकि दक्षिण अफ्रीका ने दूसरे नंबर पर रहकर फाइनल में जगह बनायी। दस टीमों के इस टूर्नामेंट में इन दोनों टीमों का शुरू से ही अच्छा प्रदर्शन रहा है। टूर्नामेंट में चोटी पर रहने वाली चार टीमों ने न सिर्फ आईसीसी महिला विश्व कप के लिये क्वॉलीफाई किया बल्कि उन्होंने आईसीसी महिला चैंपियनशिप में भी अपनी जगह सुनिश्चित की।

श्रीलंका और पाकिस्तान विश्व कप के लिये क्वालीफाई करने वाली अन्य टीमें रहे। ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड और वेस्टइंडीज ने आईसीसी महिला चैंपियनशिप में शीर्ष चार में रहकर इस टूर्नामेंट के लिये क्वॉलीफाई किया था। बांग्लादेश और आयरलैंड ने सुपर सिक्स में पहुंचकर अगले चार साल के लिये वनडे का अपना दर्जा बनाये रखा है। भारत अभी तक टूर्नामेंट में अजेय रहा है जबकि दक्षिण अफ्रीका ने अपना एकमात्र मैच मिताली राज की अगुवाई वाली टीम से गंवाया। भारत ने अपने आखिरी मैच में पाकिस्तान को सात विकेट से हराया जबकि दक्षिण अफ्रीका ने भी आयरलैंड को बारिश से प्रभावित मैच में 36 रन से पराजित किया था।

दक्षिण अफ्रीका ने टूर्नामेंट से पहले अभ्यास मैच में भारत को हराया था लेकिन बाद में सुपर सिक्स में भारतीय टीम अपने इस प्रतिद्वंद्वी पर 49 रन से जीत दर्ज करने में सफल रही। भारत ने पी सारा ओवल में 205 रन के स्कोर का सफलतापूर्वक बचाव किया। इस टूर्नामेंट के वनडे मैचों में 207 रन बनाने वाली भारतीय कप्तान मिताली ने उस मैच में 64 रन बनाकर भारतीय जीत की नींव रखी थी। भारतीय टीम के लिये यह भी अच्छी बात है और उसके तेज और स्पिन गेंदबाजों दोनों ने अच्छा प्रदर्शन किया है। नयी गेंद की गेंदबाज शिखा पांडे और बायें हाथ की स्पिनर एकता बिष्ट ने विरोधी टीमों की बल्लेबाजों को काफी परेशान किया है।

मिताली ने कहा, ‘हमारी गेंदबाजी अच्छी दिख रही है विशेषकर स्पिन आक्रमण। बल्लेबाजी में हमारी सलामी जोड़ी भागीदारी नहीं निभा पायी है जो कि चिंता का विषय है। चाहे हम बल्लेबाजी करें या क्षेत्ररक्षण हमें अच्छी शुरुआत की दरकार है। मध्यक्रम की हमारी बल्लेबाजों अच्छा प्रदर्शन करना भी जरूरी है।’ उन्होंने कहा, ‘इन पिचों पर स्पिनर प्रभावशाली रहेंगे लेकिन यदि तेज गेंदबाज अनुशासित गेंदबाजी करें तो फिर रन बनाना आसान नहीं होगा। हमने इस टूर्नामेंट में इसी चीज पर ध्यान दिया। इन विकेट पर बल्लेबाज के कौशल की परीक्षा होती है।’

दक्षिण अफ्रीका की तरफ से 17 वर्षीय ओपनर लौरा वोल्वार्ट और चोले ट्रायन ने अच्छा प्रदर्शन किया है जबकि कप्तान डेन वान नीकर्क और सुन लुस की स्पिन जोड़ी को भी सफलता मिली है। तेज गेंदबाज शबनीम इस्माइल और मारिजेन कैप ने भी प्रभाव छोड़ा है। दक्षिण अफ्रीका के लिये हालांकि सबसे बड़ी चुनौती भारतीय स्पिनरों बिष्ट, राजेश्वरी गायकवाड़, पूनम यादव और दीप्ति शर्मा से निबटना होगा।

IPL 2017: ये 5 रहे सबसे महंगे, इन 5 को नहीं मिला खरीदार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App