ताज़ा खबर
 

World cup में खेलने को लेकर डिविलियर्स ने दी सफाई, कहा मैंने डुप्लेसी से खुद को टीम में शामिल करने की मांग नहीं की

डिविलियर्स ने कहा है कि उन्होंने कभी भी टीम में जबरन "अपना रास्ता" बनाने की इच्छा नहीं जताई। डिविलियर्स ने एक बयान में कहा, "मेरे संन्यास की घोषणा के दिन, मुझसे निजी तौर पर पूछा गया था कि क्या विश्व कप में खेलने के लिए 'दरवाजा अभी भी खुला है'।"

Author नई दिल्ली | July 12, 2019 5:41 PM
World cup 2019: डिविलियर्स ने डुप्लेसी के दावे को झूठा बताया, कहा जबरन वर्ल्ड कप टीम में एंट्री पाने की बात गलत। (Source: Reuters)

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान और दिग्गज बल्लेबाज एबी डिविलियर्स ने खुलासा किया है कि जिस दिन उन्होंने मई 2018 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की थी, उस दिन उन्हें निजी तौर पर क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका के एक व्यक्ति ने पूछा था कि क्या वे अभी भी विश्व कप खेलना चाहते हैं। डिविलियर्स ने तब हां कहा, लेकिन जोर देकर कहा कि विश्वकप से पहले उन्होंने फाफ डु प्लेसिस से संपर्क किया था। लेकिन उन्होंने कभी वर्ल्ड कप टीम में शामिल होने की मांग नहीं की।

डिविलियर्स उस व्यक्ति का नाम नहीं बताना चाहते जिसने उनसे पूछा था कि क्या वह विश्व कप के लिए उपलब्ध हैं, लेकिन उन्होंने कहा कि वे विश्व कप चयन के लिए उपलब्ध थे लेकिन “केवल यदि उनकी आवश्यक है तो। यह बातचीत दक्षिण अफ्रीका के विश्व कप टीम के चयन से कुछ दिन पहले हुई थी। दक्षिण अफ्रीका चयन पैनल के अध्यक्ष लिंडा ज़ोंडी ने कहा कि डिविलियर्स को टीम में शामिल किए जाने की “इच्छा” न केवल उनके बल्कि डु प्लेसिस और दक्षिण अफ्रीका के कोच ओटिस गिब्सन के लिए एक झटका था।

हालांकि, डिविलियर्स ने कहा है कि उन्होंने कभी भी टीम में जबरन “अपना रास्ता” बनाने की इच्छा नहीं जताई। डिविलियर्स ने एक बयान में कहा, “मेरे संन्यास की घोषणा के दिन, मुझसे निजी तौर पर पूछा गया था कि क्या विश्व कप में खेलने के लिए ‘दरवाजा अभी भी खुला है’।” उन्होंने मुझे से पूछा था मैंने इच्छा नहीं जताई। उस वक़्त मैंने जल्दी से ‘हां’ में जवाब दिया था। शायद मुझे सिर्फ ना कहना चाहिए था, लेकिन मेरी सहज वृत्ति हमेशा से ही जब भी संभव हो, उपकृत करने का मार्ग खोजती रही है।

“इसके बाद कुछ हफ्तों और महीनों तक क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका या प्रोटियाज़ और मेरे बीच कोई औपचारिक संपर्क नहीं हुआ। मैंने उन्हें फोन नहीं किया, न ही उन्होंने मुझे फोन किया। मैंने अपना फैसला कर लिया और प्रोटियाज़ आगे बढ़ गए। डीविलियर्स ने आगे कहा ‘फाफ डुप्लेसी और मैं बचपन से दोस्त हैं, हम साथ में स्कूल में पढ़े हैं। वर्ल्ड कप टीम के ऐलान से दो दिन पहले मैंने उन्हें फोन किया था। मैंने ये कहा था कि अगर मेरी जरूरत होगी तो मैं खेल सकता हूं, लेकिन सिर्फ जरूरत पड़ने पर। मैंने कोई मांग नहीं की। मैंने जबरन वर्ल्ड कप में एंट्री पाने की बात नहीं की।

बता दें वर्ल्ड कप में वेस्टइंडीज से मैच के बाद साउथ अफ्रीका के कप्तान डुप्लेसी ने दावा किया था कि एबी डीविलियर्स ने वर्ल्ड कप में खेलने के लिए उन्हें फोन किया था, लेकिन तब तक वर्ल्ड कप के लिए टीम का सेलेक्शन हो गया था। डु प्लेसी ने वेस्टइंडीज के साथ दक्षिण अफ्रीका के मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘डीविलियर्स के जब मुझे कॉल किया तो मैंने कहा कि मुझे लगता है कि अब बहुत देर हो चुकी है, लेकिन मैं कोच और चयनकर्ताओं के साथ से बात करता हूं, हालांकि टीम सेलेक्शन हो चुका है।’ उन्होंने कहा, ‘हर कोई इस बात से सहमत था कि स्क्वॉड में बदलाव के लिए बहुत देर हो चुकी है।’ डी विलियर्स के अनुसार, जब यह मामला सामने आया तो उन्होंने इस पर कमेंट करना सही नहीं समझा। उन्होंने कहा वह दक्षिण अफ्रीका के लड़खड़ाते हुए विश्व कप अभियान को विचलित नहीं करना चाहते थे। कई प्रशंसक, पूर्व क्रिकेटर और मीडिया डिविलियर्स के इस कदम की आलोचक कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App