ताज़ा खबर
 

सरकारों का रवैया रहा है उदासीन: नौटियाल

उत्तराखंड क्रिकेट एसोसिएशन (यूसीए) के प्रदेश सचिव दिव्य नौटियाल क्रिकेट खिलाड़ी रहे हैं। वे 17 साल से उत्तराखंड क्रिकेट संघ को बीसीसीआइ से मान्यता दिलवाने की लड़ाई लड़ रहे हैं। उनसे हुई बातचीत का ब्योरा पेश है
Author December 14, 2017 02:01 am
उत्तराखंड क्रिकेट एसोसिएशन (यूसीए) के प्रदेश सचिव दिव्य नौटियाल क्रिकेट खिलाड़ी

उत्तराखंड के शिक्षा मंत्री अरविन्द पांडेय का कहना है कि उनकी सरकार क्रिकेट संघ की मान्यता को लेकर अत्यंत गंभीर है। पिछली सरकारों ने क्रिकेट संघ की मान्यता को लेकर क्या रवैया अपनाया, इसमें उलझने की बजाए उनकी सरकार बीसीसीआइ से उत्तराखंड को क्रिकेट की मान्यता दिलाने के प्रयास गंभीरतापूर्वक कर रही है। अब किसी भी क्रिकेट एसोसिएशन को इस मामले में अड़ंगा नहीं डालने दिया जाएगा, जो भी एसोसिएशन इस मामले में बाधा डालेगी, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

सवाल : उत्तराखंड राज्य बनने के बाद बीसीसीआइ से मान्यता न मिलने के क्या कारण थे ?
’ उत्तराखंड राज्य के गठन के 17 साल में लगातार हमारा एसोसिएशन मान्यता के लिए प्रयास कर रहा है। राज्य गठन के बाद से ही कई खेल एसोसिएशन राज्य में सक्रिय है। निजी हित और स्वार्थों के कारण तमाम एसोसिएशनों का ध्यान राज्य क्रिकेट की मान्यता में कभी नहीं रहा। हमारी संस्था के अलावा किसी अन्य एसोसिएशन या समिति ने मान्यता के लिए न तो बीसीसीआइ के बुलाने और मांगने पर कोई दस्तावेज ही प्रदेश सरकार या बीसीसीसआई को सौंपा।

सवाल : 17 साल में प्रदेश सरकारों का क्या रवैया रहा ?
’ उत्तर प्रदेश से अलग होकर नए राज्य के तौर पर उभरे उत्तराखंड में सरकार भले ही किसी भी दल की रही हो लेकिन राज्य क्रिकेट की मान्यता के मामले में सभी सरकारों का रवैया एक जैसा ही रहा है। इस लम्बी अवधि में इक्का-दुक्का प्रयास ही प्रदेश सरकार की ओर से किए गए। लेकिन सरकार और सरकारी अमले ने जानने-बूझने के बाद भी मान्यता के मामले में अड़ंगा लगाने वाले संघों के प्रति कोई सख्ती नहीं की और न ही मान्यता के मामले को आगे बढ़ाने में दिलचस्पी दिखाई। हमारे संघ के प्रयास के कारण इस लम्बी अवधि के बाद प्रदेश की त्रिवेन्द्र सिंह रावत सरकार अब कुछ हरकत में आई है।

सवाल : मान्यता को लेकर यूपीसीए व डीडीसीए की क्या भूमिका है ?
’ उत्तराखंड राज्य क्रिकेट को मान्यता मिलने में हो रही देरी और बाधाओं को बढ़ाने में उत्तर प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन (यूपीसीए) व डीडीसीए नकारात्मक भूमिका निभा रहे हैं। इसके कारण ये दोनों एसोसिएशनों ने राज्य में भ्रम की स्थिति पैदा कर रखी है। वहीं राज्य के क्रिकेटरों को गुमराह करने का काम भी ये दोनों कर रही हंै। यूपीसीए ने गलत तरीके से देहरादून जिले की एक जिला क्रिकेट एसोसिएशन को मान्यता देकर यूपी का 12वां जोन बना रखा है। जो कि नियम के प्रतिकूल है। वहीं डीडीसीए के संरक्षण में एक क्रिकेट एसोसिएशन मनमाने तरीके से टूर्नामेंट के आयोजन से लेकर मान्यता में रोड़े अटकाने का काम कर रही है।

उत्तराखंड क्रिकेट एसोसिएशन (यूसीए) के प्रदेश सचिव दिव्य नौटियाल क्रिकेट खिलाड़ी रहे हैं। वे 17 साल से उत्तराखंड क्रिकेट संघ को बीसीसीआइ से मान्यता दिलवाने की लड़ाई लड़ रहे हैं। उनसे हुई बातचीत का ब्योरा पेश है

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.