ताज़ा खबर
 

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन के बेटे को गोवा क्रिकेट टीम में मिली जगह

असाउद्दीन ने अभी तक एक भी रणजी ट्रॉफी मैच नहीं खेला है और ऐसे में उनका चयन जीसीए को बैकफुट पर धकेल रहा है। जीसीए के सचिव दया पाजी ने आईएएनएस से कहा, "असाउद्दीन उनके बेटे हैं और वह अब टीम का हिस्सा हैं तो अजहरुद्दीन मुफ्त में टीम के सलाहकार होंगे। भारत के पूर्व कप्तान की सलाह मिलना टीम के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है।

(फोटो सोर्स- GCA )

अपने बेटे असाउद्दीन के गोवा की राणजी टीम में चयन होने पर भारतीय टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन ने बिना किसी फीस के गोवा टीम का सलाहकार बनने की पेशकश की है। गोवा क्रिकेट संघ (जीसीए) के अधिकारी ने यह जानकारी दी। वहीं, गोवा के लिए अभी तक सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज शादाब जकाती ने हालांकि असाउद्दीन के टीम में आने की खिलाफत की है। असाउद्दीन ने अभी तक एक भी रणजी ट्रॉफी मैच नहीं खेला है और ऐसे में उनका चयन जीसीए को बैकफुट पर धकेल रहा है। जीसीए के सचिव दया पाजी ने आईएएनएस से कहा, “असाउद्दीन उनके बेटे हैं और वह अब टीम का हिस्सा हैं तो अजहरुद्दीन मुफ्त में टीम के सलाहकार होंगे। भारत के पूर्व कप्तान की सलाह मिलना टीम के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है।”उन्होंने हालांकि कहा कि अजहर और संघ के बीच कोई लिखित करार नहीं हुआ है। पाजी ने कहा, “असाउद्दीन गेस्ट प्लेयर की तरह टीम में जुड़ रहे हैं। हमने उन्हें एक भी पैसा नहीं दिया है। हम पैसों की तंगी से गुजर रहे हैं और इसलिए हमने यह रास्ता चुना।”

इंडियन क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद अजहरुद्दीन

इससे पहले जकाती ने असाउद्दीन को टीम में शामिल करने के जीसीए के फैसले की आलोचना की है। जकाती ने शुक्रवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “इसलिए क्योंकि वह भारतीय टीम के पूर्व कप्तान के बेटे हैं, जो एक महान खिलाड़ी थे। क्या यह उन्हें गोवा की टीम में जगह दिला सकता है।” उन्होंने कहा, “असाउद्दीन की उम्र 28 साल की है और उन्होंने अभी तक एक भी रणजी ट्रॉफी या प्रथम श्रेणी मैच नहीं खेला। वह अपने राज्य के लिए आखिरी मैच 2009 में खेला था।

उन्होंने उत्तर प्रदेश से खेलने की कोशिश की, उन्होंने कई और राज्यों से खेलने की कोशिश की लेकिन मौका नहीं मिला।” बाएं हाथ के स्पिनर ने कहा, “यह गोवा है आप आओ आपका स्वागत है। गोवा के खिलाड़ियों का क्या ? हम भी संघर्ष कर रहे हैं। हम भी काफी मेहनत कर रहे हैं। हम भी गोवा के लिए खेलना चाहते हैं।” (आईएएनएस इनपुट के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App