ताज़ा खबर
 

कपिल देव ने क्‍यों कहा, जसप्रीत बुमराह ने मुझे गलत साबित कर दिया

क्या बुमराह की तरह पहले भी भारतीय तेज गेंदबाजों को इस तरह बेहद कम वक्त में कामयाबी मिली है? इस सवाल के जवाब में कपिल देव ने कहा कि श्रीनाथ भी बुमराह की तरह बेहद कम वक्त में लाइमलाइट में आ गए थे।

जसप्रीत बुमराह। (Photo Courtesy: ICC)

ऑस्ट्रेलिया में जारी टेस्ट सीरीज के तीसरे मैच में मेजबान टीम के खिलाफ जबर्दस्त प्रदर्शन करने वाले भारतीय पेसर जसप्रीत बुमराह की अब दिग्गज कपिल देव ने भी तारीफ की है। कपिल ने एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत में कहा कि बुमराह ने उन्हें गलत साबित किया है। बुमराह की हटकर बोलिंग ऐक्शन के बारे में बातचीत करते हुए कपिल देव ने कहा, ‘मुझे आपसे कहना पड़ेगा कि बुमराह ने मुझे गलत साबित किया है। जब मैंने उन्हें पहली बार देखा था, मैंने सोचा था कि इस तरह के ऐक्शन के साथ वह कितनी दिन चलेंगे, लेकिन वह बने रहे। उनको सलाम करता हूं, मैं ऑस्ट्रेलिया में उनके शानदार प्रदर्शन की तारीफ करता हूं। उनका माइंडसेट बेहद मजबूत होना चाहिए।’

बता दें कि एमसीजी में मिली हालिया जीत से पहले भारत को इस मैदान पर आखिरी बार कामयाबी फरवरी 1981 में मिली थी। उस वक्त जीत के सूत्रधार थे कपिल देव, जिन्होंने दूसरी पारी में 28 रन देकर 5 विकेट झटके थे। द टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में कपिल ने कहा कि बुमराह के 9 विकेटों की बदौलत भारत ने 37 साल बाद यह जीत हासिल की है। कपिल ने बुमराह को ‘स्पेशल कंधों’ वाला बताया। कपिल ने कहा, ‘मुझे लगता है कि वह शानदार हैं। इतने छोटे रन अप के साथ वह लगातार 140 किमी प्रति घंटे से ज्यादा की रफ्तार से गेंदबाजी कर रहे हैं। आपको इस बात के लिए उनका सम्मान करना होगा। उनके पास स्पेशल कंधे हैं। इस तरह के गेंदबाज बेहद खास होते हैं।’ कपिल ने आगे कहा, ‘बुमराह नई और पुरानी, दोनों ही तरह की गेंदों से प्रभावशाली हैं। उनके पास अच्छे बाउंसर्स हैं, जो विरोधी खेमे को चौंका सकते हैं। वह बेहद सटीक लाइनलेंथ पर गेंदबाजी करते हैं और उन्हें पता है कि गेंद कहां डालनी है। वह अपने दिमाग का भी अच्छा इस्तेमाल करते हैं। यह सारी खासियतें मिलकर उन्हें दुनिया के सबसे अग्रणी गेंदबाजों में शुमार करती हैं।’

क्या बुमराह की तरह पहले भी भारतीय तेज गेंदबाजों को इस तरह बेहद कम वक्त में कामयाबी मिली है? इस सवाल के जवाब में कपिल देव ने कहा, ‘श्रीनाथ भी बुमराह की तरह बेहद कम वक्त में लाइमलाइट में आ गए थे। जहीर ने कुछ वक्त लिया था। तेज गेंदबाजी के बारे में एक ही चीज खास है। ये गेंदबाज जब अच्छा करना शुरू करते हैं तो वे टीम के लिए बेहद फायदेमंद नजर आते हैं, लेकिन इन्हें लगने वाली चोटें खेल बिगाड़ देती हैं। इसकी वजह से कुछ गेंदबाज अपनी चमक खो देते हैं तो वहीं कुछ मोहम्मद शमी की तरह जोरदार वापसी करते हैं। दरअसल, ये चोटें शरीर पर भारी पड़ती हैं लेकिन शमी जैसे गेंदबाजों को इतनी शानदार वापसी के लिए क्रेडिट दिया जाना चाहिए।’ बुमराह पर बहुत ज्यादा निर्भरता के सवाल पर कपिल ने कहा, ‘जब आप भारत में खेलते हैं तो क्या अश्विन पर निर्भर नहीं होते? यहां तक कि जडेजा भी ऐसे खिलाड़ी हैं, जिनपर टीम होम ग्राउंड पर खेलते हुए बहुत ज्यादा निर्भर रहती है। जब कोई टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन करना शुरू करता है तो टीम भी उस खिलाड़ी पर निर्भर होने लगती है।’

Next Stories
1 ढोल की थाप पर नाचे कोहली, रवि शास्‍त्री के हाथ में दिखी बीयर की बोतल, भड़के फैंस
2 हरमनप्रीत कौर को आईसीसी महिला टी20 की कमान, टीम में मंधाना और पूनम भी शामिल
3 भारत की स्मृति मंधाना बनीं ICC ‘वुमन क्रिकेटर ऑफ द ईयर’ और ‘वुमन वनडे क्रिकेटर ऑफ द ईयर’
ये पढ़ा क्या?
X