ताज़ा खबर
 

300 मारुति ऑल्‍टो कॉरों से भी ज्‍यादा है विराट कोहली के बल्‍ले की वैल्‍यू!

विराट कोहली को बल्‍ले पर एमआरएफ का स्टिकर लगाने के लिए मिलने वाली रकम से मारुति की 300 ऑल्‍टो कारें खरीदीं जा सकती हैं।
वेस्‍टइंडीज के खिलाफ मैच के दौरान शॉट लगाते विराट कोहली। (Source: PTI)

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्‍तान विराट कोहली फेसबुक पर दूसरी सबसे ज्‍यादा फॉलो की जाने वाली शख्सियत हैं। 2008 में श्रीलंका के खिलाफ डेब्‍यू करने वाले कोहली ने अब तक 57 टेस्‍ट्स, 187 एकदिवसीय और 48 टी-20 मैच खेले हैं। क्रिकेट के सभी फॉरमेट्स को मिलाकर कोहली ने अब तक 14,000 से भी ज्‍यादा रन बनाए हैं। वह मद्रास रबर फैक्‍ट्री (एमआरएफ) प्रायोजित बल्‍ले का इस्‍तेमाल करते हैं। जिसके लिए कंपनी उन्‍हें हर साल 12 करोड़ रुपए से ज्‍यादा की रकम का भुगतान करती है। इकॉनमिक टाइम्‍स की रिपोर्ट केअनुसार, कोहली ने 8 साल तक अपने बल्‍ले पर एमआरएफ का स्टिकर लगाने के लिए 100 करोड़ रुपए की डील साइन की है। इस लिहाज से हर साल उन्‍हें 12 करोड़ रुपयों से ज्‍यादा की रकम हासिल होती है। इससे पहले तीन साल के लिए एमआरएफ के साथ उनकी डील 8 करोड़ रुपए में हुई थी। कोहली और एमआरएफ के बीच 100 करोड़ रुपयों की डील, क्रिकेट बैटों की स्‍पांसरशिप की सबसे बड़ी डील है। विराट कोहली ने लाइफस्‍टाइल ब्रांड प्‍यूमा के साथ भी 110 करोड़ रुपये का करार कर रखा है।

विराट कोहली को बल्‍ले पर एमआरएफ का स्टिकर लगाने के लिए मिलने वाली रकम से मारुति की 300 ऑल्‍टो कारें खरीदीं जा सकती हैं। कोहली के अलावा, एमआरएफ शिखर धवन और दक्षिण अफ्रीका के विस्‍फोटक खिलाड़ी एबी डिविलियर्स के बल्‍लों को स्‍पांसर करती है। एमआरएफ ने इससे पहले सचिन तेंदुलकर, ब्रायन लारा और स्‍टीव वॉ जैसे दिग्‍गजों के बल्‍लेों को प्रायोजित किया है।

विराट कोहली इन दिनों खेल के तीनों संस्‍करणों में भारतीय टीम के कप्‍तान हैं। टीम वेस्‍टइंडीज के दौरे पर गई हैं जहां पांच मैचों की वनडे सीरीज का आखिरी मैच गुरुवार (6 जुलाई) को खेला जाएगा। सीरीज में 0-2 से पिछड़ने के बाद विंडीज ने चौथा मैच जीत सीरीज में अपनी बराबरी की उम्मीदों को जिंदा रखा है।

पहला मैच बारिश के कारण रद्द हो गया था। इसके बाद भारत ने लगातार दो मैच जीतते हुए सीरीज में 2-0 की बढ़त ले ली, लेकिन चौथे वनडे में मिली अप्रत्याशित हार के चलते उसे पांचवें मैच तक सीरीज जीतने का इंतजार करना पड़ रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.