ताज़ा खबर
 

क्रिकेट के अलावा चैरिटी में भी ‘बूम-बूम’ हैं आफरीदी, दुबई में बंद 30 PAK कैदियों को रिहा कराने में की मदद

आफरीदी ने अपनी संस्था 'शाहिद आफरीदी फाउंडेशन' की मदद से दुबई में बंद 30 पाकिस्तानी नागरिकों को रिहाई दिलवाई है। शाहिद आफरीदी पाकिस्तान में अस्पतालों बनाने में भी आर्थिक मदद करते हैं।

शाहिद आफरीदी ने दुबई पुलिस डिपार्टमेंट से मिलकर वहां बंद 30 पाकिस्तानी कैदियों को रिहाई दिलाने में मदद की है। (Photo: FB)

अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी के लिए विख्यात पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेट कप्तान शाहिद आफरीदी अपने करियर के आखिरी कुछ सालों में कोई ऐसा प्रदर्शन नहीं कर सके जिससे उनकी टीम विपरीत परिस्थियों से निकलकर जीत हासिल कर सके। लेकिन, अब वो क्रिकेट के मैदान से बाहर लोगों को बचाने और उन्हें नई जिंदगी देने का काम बखूबी कर रहे हैं। क्रिकेट जगत में ‘बूम बमू आफरीदी’ के नाम से मशहूर शाहिद आफरीदी पाकिस्तान में इस समय सूर्खियों में बने हुए हैं। इसके पीछे वजह उनके द्वारा किया गया एक नेक काम है। दरअसल, आफरीदी ने अपनी संस्था ‘शाहिद आफरीदी फाउंडेशन’ की मदद से दुबई में बंद 30 पाकिस्तानी नागरिकों को रिहाई दिलवाई है।

इन पाकिस्तानी नागरिकों को अलग अलग अपराध में संलिप्त होने के कारण हवालात में डाला गया था और ये सभी बंदी अपनी सजा काट चुके थे, यदि आफरीदी ने इनकी मदद नहीं की होती तो इन बंदियों को ज्यादा दिन जेल में रहना पड़ता। शाहीद आफरीदी ने अपने प्रभाव और संस्था की मदद से इनकी रिहाई सुनिश्चित कराई। इन बंदियों की रिहाई के बाद शाहिद आफरीदी ने फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर किया और पाकिस्तानी नागरिकों की रिहाई सुनिश्चित करने में सहयोग और उदारता के लिए दुबई पुलिस डिपार्टमेंट के प्रति धन्यवाद प्रकट किया। शाहिद आफरीदी ने इन नागरिकों के बारे में लिखा कि वे अब अपने देश लौटकर फिर से एक नई जिंदगी शुरू कर सकेंगे।

क्रिकेट से अब उतनी नजदीकियां नहीं रह जाने के बाद शाहिद आफरीदी लोक-हितैषी कामों में काफी सक्रिय दिखते हैं। शाहीद आफरीदी प्रमुख मुद्दों पर खुलकर अपने विचार भी प्रकट करते हैं। हाल ही में भारत में अपने एक फैन को गिरफ्तार किए जाने को लेकर शाहिद आफरीदी ने काफी मुखर होकर इसको शर्मनाक घटना करार दिया था और इस मुद्दे को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने उठाने की बात कही थी। शाहिद आफरीदी पाकिस्तान में अस्पतालों बनाने में भी आर्थिक मदद करते हैं। वह बच्चों को मुफ्त शिक्षा मुहैया कराने और पाकिस्तान के दूर दराज वाले इलाकों में कुंए खुदवाने में आर्थिक मदद करते हैं।

वीडियो:विकेटकीपर ने किया धोनी के अंदाज में रनआउट, अब नियम पर उठ रहे हैं सवाल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App