ताज़ा खबर
 

एशियाई क्रिकेट की चौथी ताकत से रहें खबरदार

इस विश्व कप में बांग्लादेश के अब तक खेले गए छह मैचों में तीन मैचों में न्यूजीलैंड से दो विकेट से, इंग्लैंड से 106 रन से और आस्ट्रेलिया से 48 रन से उसे हार का सामना करना पड़ा।

Author June 27, 2019 2:38 AM
बांग्लादेश ने बल्लेबाजी में तीन बार 300 से ज्यादा रनों का आंकड़ा पार किया है।

आत्माराम भाटी

ग्लैंड में क्रिकेट जगत की सबसे बड़ी स्पर्धा का 12वां संस्करण 30 मई से खेला जा रहा है। हर साल की तरह इस बार भी कमजोर समझी जाने वाली टीमों ने बड़ी टीमों को हराकर सनसनी फैलाई है। यह कारनामा कोई पिछले दो-तीन विश्व कप से नहीं है, बल्कि दूसरे विश्व कप 1979 से चला आ रहा है। अपने पहले ही विश्व कप में श्रीलंका ने भारत को, केन्या ने वेस्ट इंडीज को, आयरलैंड ने इंग्लैंड को, जिंबाब्वे ने आस्ट्रेलिया को अप्रत्याशित रूप से हराकर चौंकाया था। इसी कड़ी में एक नाम और है बांग्लादेश का।

इस टीम ने भी अपने पहले ही विश्व कप (1999) में उपविजेता रहने वाली टीम पाकिस्तान को लीग चरण में 62 रन हरा कर सनसनी फैला दी। वहीं 2007 में उसने भारत को अपना शिकार बनाया। उसने भारत को पांच विकेट से हराया। इसी तरह 2011 व पिछले विश्व कप 2015 में इंग्लैंड को 15 रनों से पटकनी देकर क्वार्टर फाइनल में कदम रखा था। बांग्लादेश की टीम का यह छठा विश्व कप है। 1999 में ऐसोसिएट देश के रूप में इंग्लैंड में पहली बार आइसीसी ने इस टीम को विश्व कप में जगह दी। तब से लेकर अब तक सेमी फाइनल में तो यह टीम कदम नहीं रख पाई है। हां, अपने कभी-कभार के अप्रत्याशित बेहतरीन खेल से बड़ी टीमों का गणित जरूर बिगाड़ती रही है।

बांग्लादेश के विश्व कप में अब तक के सफर के बारे में बात करें तो 1999, 2003 और 2007 के विश्व कप में लीग चरण से आगे नहीं बढ़ पाई। 2011 में भारत, पाकिस्तान के साथ मेजबानी का लाभ उठाते हुए जरूर अपने घर में इंग्लैंड, आयरलैंड को हराकर क्वार्टर फाइनल की आस बंधाई, लेकिन रन औसत में वेस्ट इंडीज से पिछड़ने के कारण पहली बार क्वार्टर फाइनल खेलने का इसका सपना पूरा नहीं हो पाया। इस टीम ने 2015 में आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की मेजबानी में हुए 11वें विश्व कप में लीग चरण के छह में से तीन मैचों में अफगानिस्तान, इंग्लैंड और स्कॉटलैंड को हराया। उसने आस्ट्रेलिया के साथ बारिश के कारण रद्द हुए मैच से मिले बराबरी अंक से पहली बार विश्व कप क्वार्टर फाइनल में कदम रखने में कामयाबी हासिल कर ली। लेकिन क्वार्टर फाइनल में बांग्लादेश की इस टीम का विजय रथ भारत ने 109 रन से हराकर रोक दिया।

इस विश्व कप में बांग्लादेश के अब तक खेले गए छह मैचों में तीन मैचों में न्यूजीलैंड से दो विकेट से, इंग्लैंड से 106 रन से और आस्ट्रेलिया से 48 रन से उसे हार का सामना करना पड़ा। लेकिन, अफ्रीका को 21 रन से और वेस्ट इंडीज को सात विकेट से पराजित करने के साथ-साथ जिस तरह से बल्लेबाजी में तीन बार 300 से ज्यादा रनों का आंकड़ा पार किया है, उससे साफ जाहिर है कि बांग्लादेश टीम में अब परिपक्वता आने लग गई है। उसके पास बेहतरीन फॉर्म में चल रहे शाकिब अल हसन हैं जो अब तक दो शतक जड़ने के साथ डेविड वार्नर के बाद सबसे ज्यादा 425 रन बनाए हैं। इसके साथ ही उसके पास महमुदुल्लाह, कप्तान मशरेफी मुर्तजा, और शब्बीर रहमान जैसे आॅलराउंडर हैं जो किसी भी समय मैच का रुख बदल सकते हैं। बल्लेबाजी में भी टीम के पास लिटन दास, तमीम इकबाल, सौम्य सरकार और मुशफिकर रहीम जैसे जोरदार बल्लेबाज हैं।

यदि बांग्लादेशी गेंदबाज अपनी गेंदबाजी में निखार और धार लाकर जल्द से जल्द विकेट निकालने में माहिर हो जाएं तो कोई बड़ी बात नहीं कि यह टीम आने वाले समय में विश्व खिताब की रेस में अपने को भी अन्य बड़ी व अनुभवी टीमों के साथ शामिल करने का दावा कर सकती है। बांग्लादेश इस बार भी लीग चरण के अपने अंतिम तीन मैचों में अफगानिस्तान, भारत व पाकिस्तान को हराने में कामयाब हो जाती है तो 11 अंकों के साथ बेहतर रन औसत के सहारे टीमों का फैसला होने की दशा में उसके सेमी फाइनल खेलने का सपना पूरा हो सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App