ताज़ा खबर
 

बीसीसीआइ ने मनोहर को आइसीसी के वित्तीय पुनर्गठन पर चर्चा करने को कहा

पुराने ढांचे के अनुसार इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया के क्रिकेट बोर्ड के साथ बीसीसीआइ को राजस्व में से 80 फीसद हिस्सा मिलता है क्योंकि ये संस्था में राजस्व लाने वाले देश हैं।

Author मुंबई | February 19, 2016 11:40 PM
बीसीसीआइ के पूर्व अध्यक्ष शशांक मनोहर। (फाइल फोटो)

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आइसीसी) में भारत, आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के एकाधिकार को खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध बीसीसीआइ अध्यक्ष शशांक मनोहर से कार्य समिति ने कहा है कि वे आइसीसी में वित्तीय पुनर्गठन के संदर्भ में उठाए गए कदमों की जानकारी उसे देंं। पुराने ढांचे के अनुसार इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया के क्रिकेट बोर्ड के साथ बीसीसीआइ को राजस्व में से 80 फीसद हिस्सा मिलता है क्योंकि ये संस्था में राजस्व लाने वाले देश हैं। मनोहर ने हालांकि आइसीसी चेयरमैन के रू प में स्पष्ट कर दिया है कि वे समान वितरण चाहते हैं।

इससे जहां बीसीसीआइ को राजस्व का नुकसान होगा वहीं कुछ सदस्यों को यह सही नहीं लगा कि मनोहर ने दुबई में आइसीसी बैठक में जाने से पहले बीसीसीआइ की किसी बैठक में इस मुद्दे को नहीं उठाया। कार्यकारी समिति ने हालांकि शुक्रवार को फैसला किया कि मनोहर और सचिव अनुराग ठाकुर को ऐसे किसी भी कदम के वित्तीय नतीजों पर चर्चा करनी चाहिए। बीसीसीआइ ने कहा कि सदस्यों ने अध्यक्ष और मानद सचिव को अधिकार दिया है कि वे आइसीसी के संचालन और वित्तीय पुनर्गठन पर चर्चा करें।

एक प्रभावी राजस्य संघ के सदस्य और बीसीसीआइ के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा- उदार होने में कोई परेशानी नहीं है। लेकिन उचित तरीका यह है कि सदस्यों को ऐसे किसी कदम के नतीजों की जानकारी दी जाए। हमें पता होना चाहिए कि अगर बीसीसीआइ राजस्व से समझौता करना है जो राज्य संघों पर क्या प्रभाव पड़ेगा। यह भी पता चला है कि सदस्यों ने अध्यक्ष और मानद सचिव को 2016 से 2023 के भविष्य दौरा कार्यक्रम पर दोबारा काम करने को कहा है और सुनिश्चित करने को कहा है मैचों का बराबर वितरण हो।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App