ताज़ा खबर
 

8 गेंद पर चाहिए थे 46 रन, फिर भी पाकिस्तान को चटा दी धूल, वीडियो में देखें कंगारू बल्लेबाजों का पराक्रम

क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप टी-20 को बल्लेबाजों का खेल कहा जाता है। बहुत कम टी-20 ऐसे मैच होते हैं जिनमें गेंदबाजों का करिश्मा देखने को मिलता है। ज्यादातर मैचों में गेंदबाज बल्लेबाजों के सामने बेबस ही नजर आते हैं।

इस मैच को जीतने के लिए ऑस्ट्रेलिया को 133 रन बनाने थे। (फोटो सोर्स- AP/File)

क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप टी-20 को बल्लेबाजों का खेल कहा जाता है। बहुत कम टी-20 ऐसे मैच होते हैं जिनमें गेंदबाजों का करिश्मा देखने को मिलता है। ज्यादातर मैचों में गेंदबाज बल्लेबाजों के सामने बेबस ही नजर आते हैं। टी-20 मैचों में कुछ गेंदें ही मैच का रुख बदल देती हैं। आईपीएल से लेकर इंटरनेशनल लेवल तक आपने कई ऐसे मैच देखें होंगे जिनमें बल्लेबाजों ने शानदार प्रदशन कर आपका दिल जीत लिया होगा। आज हम आपको एक ऐसे ही मैच के बारे में बताने जा रहे हैं जहां 8 गेंद पर जीत के लिए 46 रन चाहिए थे। इसके बावजूद भी बल्लेबाजी वाली टीम एक गेंद शेष रहते ही मैच जीत गई। दरअसल, पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के बीच टी-20 मैच खेला जा रहा था। इस मैच को जीतने के लिए ऑस्ट्रेलिया को 133 रन बनाने थे। लेकिन मैच खत्म होने से 8 गेंद पहले तक आस्ट्रेलिया तीन विकेट पर महज 87 रन ही बना पाई थी।

आगे आने वाले आठ गेंदों में ऑस्ट्रेलिया को हर गेंद में एक बड़े हिट की जरूरत थी। ओवर के अंतिम दो गेंदो पर बल्लेबाज ने एक चौका और छक्का जड़ कर टीम की उम्मीदों को बनाए रखा। अब ऑस्ट्रेलिया को अंतिम ओवर में 36 रनों की जरूरत थी। यानी कि यहां से हर गेंद पर एक सिक्स मारना जरूरी था।

पाकिस्तानी की तरफ से अंतिम ओवर डालने मोहम्मद इरफान मैदान पर आए। इरफान से टीम को उम्मीद थी कि वह इतने रन तो आसानी से बचा लेंगे। लेकिन इरफान ने पाकिस्तानों की उम्मीदों पर पानी फेरते हुए अपने ओवर ना सिर्फ वाइड गेंद दिए बल्कि नो बॉल भी फेंके। इरफान की इस मदद से ऑस्ट्रेलिया ने आसानी से जीत हासिल कर ली।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App