ताज़ा खबर
 

IPL संचालन परिषद 10वां चरण विदेश में कराने पर करेगी चर्चा: अनुराग ठाकुर

2009 में लीग पूरे चरण के दौरान दक्षिण अफ्रीका में करायी गयी थी जबकि 2014 में यह पहले 15 दिन के लिये संयुक्त अरब अमीरात में आयोजित की गयी थी।

Author नई दिल्ली | April 21, 2016 7:58 PM
बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर (पीटीआई फाइल फोटो)

बीसीसीआई सचिव अनुराग ठाकुर ने गुरुवार (21 अप्रैल) को खुलासा किया कि इंडियन प्रीमियर लीग की संचालन परिषद के इस बात पर विचार विमर्श करने की संभावना है कि इस लुभावने टूर्नामेंट का 2017 चरण विदेश में आयोजित कराया जाये या नहीं। ठाकुर ने बीसीसीआई के दिल्ली मुख्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए गुरुवार को कहा, ‘‘आईपीएल संचालन परिषद भारत और विदेश में स्थलों को देखेगी। हमें स्थलों की उपलब्धता और वहां के ताजा हालात को देखना होगा।’’

आईपीएल दो बार भारत के बाहर खेला जा चुका है, दोनों बार विधानसभा चुनाव वर्ष में हुआ था। 2009 में लीग पूरे चरण के दौरान दक्षिण अफ्रीका में करायी गयी थी जबकि 2014 में यह पहले 15 दिन के लिये संयुक्त अरब अमीरात में आयोजित की गयी थी। बीसीसीआई के शीर्ष अधिकारी इस मुद्दे पर विचार कर रहे हैं, यह तभी स्पष्ट हो गया था जब बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष अनिरुद्ध चौधरी ने चार दिन पहले ट्वीट किया था, ‘‘अगर ऐसा ही होता रहा तो जल्द ही आईपीएल देश के बाहर खेला जा सकता है। सकल घरेलू उत्पाद में कमी नहीं होगी।’’

आईपीएल अपने शुरुआती वर्ष से ही एक के बाद एक विवाद में फंसा रहा है लेकिन इस साल विभिन्न संस्थाओं द्वारा दायर की गयी जनहित याचिकाओं ने इसके कार्यक्रम को अव्यवस्थित कर दिया। पहले ही 12 आईपीएल मैच सूखा ग्रसित महाराष्ट्र से बाहर कर दिये गये हैं, ऐसा बम्बई उच्च न्यायालय के आदेश के बाद किया गया है। एक जनहित याचिका में दावा किया गया था कि राज्य में विभिन्न क्रिकेट स्टेडियमों की पिच के रखरखाव के लिये काफी पानी का इस्तेमाल किया जायेगा।

ठाकुर ने कहा, ‘‘मैंने राज्य इकाईयों को जल-संचयन ढांचे को देखने को कहा गया है। ’’बीसीसीआई सचिव ने यह भी कहा कि अगर लोढ़ा समिति की विज्ञापनों में कटौती करने की सिफारिशों को लागू किया गया तो इसका बीसीसीआई के राजस्व ढांचे पर बहुत नकारात्मक असर पड़ेगा। ठाकुर ने कहा, ‘‘हमें पूर्व खिलाड़ियों (पूर्व टेस्ट और प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों) को दी जाने वाली पेंशन के बारे में दोबारा विचार करना होगा।’’

अगर बीसीसीआई लोढ़ा समिति की सिफारिशों को इनके मूल रूप में लागू करता है तो 2017 के बाद प्रसारण अधिकारों की कीमत बहुत कम होगी। यह भी समझा जा सकता है कि मौजूदा खिलाड़ियों के वेतन और आईपीएल फ्रेंचाइजी के लिये भी कटौती की जा सकती है। खिलाड़ियों को बीसीसीआई की सालाना कमाई का 26 प्रतिशत अपने वेतन के रूप में मिलता है। आईपीएल फ्रेंचाइजी को भी बीसीसीआई के राजस्व का हिस्सा मिलता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App