ताज़ा खबर
 

आखिरी पारी में इतिहास बना गए एलिस्टर कुक, ब्रायन लारा और संगाकारा जैसों को छोड़ा पीछे

Ind vs Eng, India vs England 5th Test Match: कुक ने भारत के खिलाफ दूसरी पारी में अपने टेस्ट करियर के 12400 रन पूरे किए। इसके साथ ही उन्होंने श्रीलंका के दिग्गज बल्लेबाज कुमार संगाकारा को पीछे छोड़ दिया। टेस्ट क्रिकेट में लेफ्ट हैंडेड बल्लेबाजों की बात करें तो सबसे अधिक रन 12400 कुमार संगाकारा के नाम था, जिसे तोड़ते हुए एलिस्टर कुक अब इस मामले में टॉप पर पहुंच गए हैं।

एलिस्टर कुक।

Ind vs Eng, India vs England 5th Test Match: भारत के खिलाफ जारी पांचवें और अंतिम टेस्ट मैच के बाद एलिस्टर कुक ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट जगत से संन्यास की घोषणा की है। अपने आखिरी मैच के दूसरी पारी में कुक ने एक और रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है। कुक ने भारत के खिलाफ दूसरी पारी में शानदार शतक जड़ा और अपने टेस्ट करियर के 12400 से अधिक रन पूरे किए। कुक ने अपने टेस्ट करियर का 33वां शतक जड़ा। इसके साथ ही उन्होंने श्रीलंका के दिग्गज बल्लेबाज कुमार संगाकारा को पीछे छोड़ दिया। टेस्ट क्रिकेट में लेफ्ट हैंडेड बल्लेबाजों की बात करें तो सबसे अधिक रन 12400 कुमार संगाकारा के नाम था, जिसे तोड़ते हुए एलिस्टर कुक अब इस मामले में टॉप पर पहुंच गए हैं। वहीं 11953 रन बनाने वाले वेस्टइंडीज के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज ब्रायन लारा इस लिस्ट में नंबर तीन पर हैं। जबकि वेस्टइंडीज के ही एस चंदरपॉल इस मामले में चौथे नंबर पर हैं। एस चंदरपॉल ने अपने टेस्ट करियर में कुल 11867 रन बना चुके हैं।

एलिस्टर कुक। (Photo Courtesy: ICC)

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी एलन बॉर्डर इस मामले में 11174 रन बनाकर पांचवें स्थान पर हैं। एलिस्टर कुक को लेकर सहायक कोच पॉल फारब्रेस ने कहा कि पूर्व कप्तान एलिस्टर कुक के न होने पर टीम में उनकी अहमियत पता चलेगी। वेबसाइट ‘ईएसपीएन’ की रिपोर्ट के अनुसार, पॉल ने कहा कि टीम में, खासकर ड्रेसिंग रूम में कुक की आगामी श्रीलंका दौरे पर महसूस होगी। भारत के खिलाफ जारी पांचवें और अंतिम टेस्ट मैच के बाद कुक ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट जगत से संन्यास की घोषणा की है।

सहायक कोच पॉल ने कहा, “वह काफी शांत इंसान हैं। उनके जाने से ड्रेसिंग रूम में काफी कुछ बदल जाएगा। टीम के साथी खिलाड़ियों के साथ उनका समर्थन हमेशा रहता था।”पॉल ने कहा, “मुझे लगता है कि इस खेल में अभी तक उन्होंने दर्शा दिया है कि वह क्या हैं। ऐसे मैचों में खेल पाना आसान नहीं होता लेकिन उन्हें देखकर लगता है कि वह बस खेल का आनंद ले रहे हैं। वह अपने सामने खड़ी हर परिस्थिति के साथ सहज हो जाते हैं। श्रीलंकी दौरे पर सभी को मैदान पर उनकी कमी खलेगी। वह हर किसी के लिए प्रेरणा का स्रोत रहे हैं और ऐसे में लोगों को महसूस होगा कि टीम में उनकी अहमियत कितनी अहम थी।” (एजेंसी इनपुट के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App