ताज़ा खबर
 

देहरादून में बांग्‍लादेश से क्रिकेट खेल रहा अफगानिस्‍तान, फैन्स ने ढूंढ़ निकाला सदियों पुराना कनेक्‍शन

देहरादून के इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम पर अफगानिस्तान और बांग्लादेश के बीच 3 मैचों की टी20 सीरीज खेली जा रही है। मजे की बात यह है कि अफगानिस्तान के फैन्स को देश के बाहर खेले जा रहे मैच घर जैसा अहसास करा रहे हैं।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है। (सोर्स- Faceboo/Afghanistan Cricket Board)

देहरादून के इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम पर अफगानिस्तान और बांग्लादेश के बीच 3 मैचों की टी20 सीरीज खेली जा रही है। मजे की बात यह है कि अफगानिस्तान के फैन्स को देश के बाहर खेले जा रहे मैच घर जैसा अहसास करा रहे हैं। इन फैन्स ने देहरादून के साथ अफगानिस्तान का सदियों पुराना कनेक्शन ढूंढ़ निकाला है। एचटी की रिपोर्ट के मुताबिक देहरादून से 35 किलीमीटर ऊपर पहाड़ों की रानी मसूरी में कभी अफगानिस्तान के प्रमुख शासकों में से एक और बराकजई वंश के संस्थापक दोस्त मोहम्मद खान रहा करते थे। 20वीं सदी की शुरुआत में अफगानिस्तान के निर्वासित शासकों के लिए देहरादून में काबुल पैलेस और मसूरी में बलाहीस्सर पैलेस बनाया गया था। 1839-1842 के बीच एंग्लो-अफगान युद्ध में अंग्रेजों से हारने के बाद दोस्त मोहम्मद खान ने 6 वर्षों से ज्यादा समय तक मसूरी में शरण ग्रहण की थी। दोस्त के पोते याकूब मोहम्मद को भी 1879 में भारत में निर्वासित कर दिया गया था।

अपने दादा की तरह याकूब मोहम्मद ने भी दून घाटी को अपना घर बनाया था, वह देहरादून में औपचारिक रूप से घर बसाने वाले पहले अफगान बने थे। देहरादून और मसूरी में इस प्रकार अफगानिस्तान की जड़े काफी गहरी हैं। इस पर अफगान क्रिकेट फैन्स फूले नहीं समा रहे हैं। कुछ अफगान क्रिकेट फैन्स ने मीडिया से अपने जज्बात साझा किए और कहा कि जहां कभी उनके शासक रहे वहां पढ़ाई करना अद्भुत अहसास देता है और अफगानिस्तान की टीम इस जगह को अपना घरेलू मैदान बना रही है। छात्रों ने कहा कि उत्तराखंड के इस इलाके में वे अपने घर जैसा अहसास करते हैं। इसकी वजह यह भी है कि हाल में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने भारत का दौरान करने वाली सभी अंतरराष्ट्रीय टीमों के लिए यह अनिवार्य कर दिया है कि वे अफगानिस्तान के साथ अभ्यास मैच खेलेंगी।

बता दें कि बीसीसीआई ने अफगानिस्तान क्रिकेट को सशक्त करने के लिए यह कदम उठाया है। पहले अफगाविस्तान के लिए ग्रेटर नोएडा के स्टेडियम को उसके लिए बतौर घरेलू मैदान रखा गया था और इसमें अब देहरादून का स्टेडियम भी शामिल हो गया है। अफगानिस्तान भारत के साथ अपना पहला टेस्ट मैच खेलने जा रहा है। यह मैच 14 जून को बैंगलोर के चिन्ना स्वामी स्टेडियम में खेला जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App