scorecardresearch

भारतीय दिग्गज बोला- ऋषभ पंत ने काफी मौके गंवाए, टीम इंडिया की बेस्ट टी-20 प्लेइंग 11 में जगह नहीं

भारत की टीम के अन्य विकेटकीपर इशान किशन और दिनेश कार्तिक ने प्रोटियाज के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया, जिससे पंत पर आगामी टी 20 विश्व कप से पहले दबाव बढ़ गया है। चोपड़ा ने टी 20 आई में पंत के संघर्ष पर प्रकाश डाला और कहा कि उन्होंने टेस्ट प्रारूप में कोड को तोड़ दिया है, लेकिन सफेद गेंद वाले क्रिकेट में उन्होंने काफी मौके गंवाए हैं।

ऋषभ पंत।(फोटो- बीसीसीआई)

टीम इंडिया के पूर्व ओपनर आकाश चोपड़ा को लगता है कि भारत की बेस्ट टी20 प्लेइंग इलेवन में ऋषभ पंत की जगह को लेकर अनिश्चितता है। पंत टी 20 प्रारूप में खराब दौर से गुजर रहे हैं। दिल्ली कैपिटल्स (DC) के लिए आईपीएल 2022 में उन्होंने 14 मैचों में 340 रन बना थे। दक्षिण अफ्रीका टी20ई में खराब प्रदर्शन जारी रहा, जहां उन्होंने पांच मैचों की सीरीज में 14.50 की औसत से केवल 58 रन बनाए।

भारत की टीम के अन्य विकेटकीपर इशान किशन और दिनेश कार्तिक ने प्रोटियाज के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया, जिससे पंत पर आगामी टी 20 विश्व कप से पहले दबाव बढ़ गया है। चोपड़ा ने टी 20 आई में पंत के संघर्ष पर प्रकाश डाला और कहा कि उन्होंने टेस्ट प्रारूप में कोड को तोड़ दिया है, लेकिन सफेद गेंद वाले क्रिकेट में उन्होंने काफी मौके गंवाए हैं।

चोपड़ा ने स्पोर्ट्सकीडा से कहा, “मैं ऋषभ पंत को वर्तमान में भारत की सर्वश्रेष्ठ टी20 प्लेइंग इलेवन में नहीं देखता। बहुत सारी चिंताएं हैं, खासकर सबसे छोटे प्रारूप में। वह दिल्ली कैपिटल्स के लिए टॉप ऑर्डर में खेलते हैं, लेकिन जब भारतीय टीम की बात आती है, तो मुझे नहीं लगता कि यह उनके लिए आदर्श भूमिका होगी। हमने देखा है कि उन्होंने कई मौके गंवाए हैं। उन्होंने टेस्ट कोड तोड़ा है, लेकिन अभी भी उनका पता नहीं है कि सीमित ओवरों के क्रिकेट में कैसे खेलना है।

पंत फिलहाल इंग्लैंड के खिलाफ स्थगित पांचवें टेस्ट मैच के लिए इंग्लैंड में हैं। भारत इस समय इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की सीरीज में 2-1 से आगे चल रहा है और दोनों टीमों के लिए चीजें पिछली बार से थोड़ी अलग होंगी। दोनों टीमों के कप्तान और कोच बदल गए है। इंग्लैंड की कमान बेन स्टोक्स और भारत की रोहित शर्मा के हाथों में हैं। वहीं कोच की भूमिका में राहुल द्रविड़ और ब्रेंडन मैकुलम हैं।

चोपड़ा ने कहा कि इंग्लैंड की मौजूदा टीम वैसी नहीं है, जिसका भारत ने पिछले साल सामना किया था और वे मैकुलम और स्टोक्स के नेतृत्व में एक अच्छी टीम बन गई हैं। इंग्लैंड की यह टीम पिछले साल खेले गए मुकाबले से सौ फीसदी ज्यादा मजबूत है। उनके पास तब एक अच्छा गेंदबाजी आक्रमण था और अब भी यही स्थिति है। गेंदबाजी उनके लिए कभी चिंता का विषय नहीं रही। उनकी बल्लेबाजी परेशानी का सबब था और बेन स्टोक्स भी सीरीज में नहीं थे। उनकी बल्लेबाजी लाइनअप अब बेहतर दिख रही है और वे मजबूत दिख रहे हैं।

पढें क्रिकेट (Cricket News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट