ताज़ा खबर
 

भ्रष्टाचार मुक्त विश्व कप का आयोजन बड़ी चुनौती: आईसीसी

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के मुख्य कार्यकारी डेविड रिचर्डसन का मानना है कि विश्व कप को सुरक्षित और भ्रष्टाचार मुक्त रखना आयोजकों के लिये सबसे बड़ी चुनौती है। विश्व कप की शुरुआत ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड तथा इंग्लैंड और श्रीलंका के बीच 14 फरवरी को होने वाले मुकाबलों से होगी। रिचर्डसन का कहना है कि इस बार […]

Author February 4, 2015 3:18 PM

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के मुख्य कार्यकारी डेविड रिचर्डसन का मानना है कि विश्व कप को सुरक्षित और भ्रष्टाचार मुक्त रखना आयोजकों के लिये सबसे बड़ी चुनौती है। विश्व कप की शुरुआत ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड तथा इंग्लैंड और श्रीलंका के बीच 14 फरवरी को होने वाले मुकाबलों से होगी।

रिचर्डसन का कहना है कि इस बार सबसे ज्यादा खर्च सुरक्षा पर किया गया है। उन्होंने कल कहा,‘‘वैश्विक परिदृश्य को देखते हुए सुरक्षा हमारे लिये बहुत बड़ी चुनौती है। इस विश्व कप में सुरक्षा पर सबसे ज्यादा खर्च किया गया है।’’

उन्होंने कहा,‘‘पहले यात्रा और रहने पर सबसे ज्यादा खर्च होता था लेकिन इस बार सुरक्षा पर अधिक व्यय किया गया है। विश्व कप में ईनामी राशि के बाद सबसे ज्यादा खर्च सुरक्षा पर हुआ है।’’

रिचर्डसन ने कहा,‘‘यह एक चुनौती है लेकिन हमारी तैयारी बहुत अच्छी है और टूर्नामेंट को कोई खतरा नहीं है लेकिन हम वैश्विक परिदृश्य से वाकिफ हैं।’’

उन्होंने कहा,‘‘दूसरा पहलू मैच फिक्सिंग और स्पॉट फिक्सिंग है। इस तरह का कोई भी वाक्या टूर्नामेंट के लिये बड़ी विफलता होगी। मेरा मानना है कि इस बार विश्व कप की अभूतपूर्व तैयारियां की गई है।’’

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व विकेटकीपर ने कहा कि यह विश्व कप भ्रष्टाचार मुक्त होगा क्योंकि भ्रष्टाचार निरोधक ईकाई और स्थानीय पुलिस ने काफी मेहनत की है।

रिचर्डसन ने कहा,‘‘एसीयू पिछले दो तीन साल से न्यूजीलैंड पुलिस और ऑस्ट्रेलियाई पुलिस के साथ मिलकर काफी मेहनत कर रहा है।’’

उन्होंने कहा,‘‘पिछले विश्व कप की तुलना में हमारा खुफिया विभाग काफी बेहतर हुआ है। पिछले विश्व कप में हमें पता ही नहीं था कि फिक्सर कौन है और अपना काम कैसे करते हैं। अब हमारे पास उनका विस्तृत डाटाबेस है।’’

उन्होंने कहा,‘‘ऑस्ट्रेलिया में आव्रजन और पुलिस विभाग को ऐसे सौ से अधिक नाम दिये जायेंगे ताकि इन खिलाड़ियों के टूर्नामेंट के करीब पहुंचने की हर कोशिश को नाकाम किया जा सके।’’

उन्होंने कहा,‘‘हर वेन्यू में एसीयू के दो अधिकारी तैनात होंगे। वे सिर्फ मैदानों ही नहीं बल्कि होटलों की भी निगरानी करेंगे।’’

रिचर्डसन ने कहा,‘‘खिलाड़ियों के लिये भी जागरूकता कार्यक्रम शुरू किया गया है जिसके नियमित सत्र होंगे। उनके लिये यह उबाऊ हो सकता है लेकिन फिक्सिंग करने वाले लोग हमेशा नये तरीके तलाशते रहते हैं और हम खिलाड़ियों को इसे लेकर अपडेट रखना चाहते हैं।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘फ़ाइनल से पहले फ़ाइनल होगा भारत-पाक विश्व कप मैच’
2 विश्व कप में नहीं खेल पाने से निराश हैं युवराज सिंह
3 आईसीसी विश्व कप सेमीफाइनल में पहुंचेगा भारत: वीरेंद्र सहवाग
ये पढ़ा क्या?
X