ताज़ा खबर
 

मेरे बल्लेबाजी तकनीकी में कोई खामी नहीं: चेतेश्वर पुजारा

पूर्व भारतीय टेस्ट टीम के ओपनिंग बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने कहा कि उनके खेल में कोई तकनीकी खामी नहीं है और यार्कशर में काउंटी क्रिकेट खेलकर वह आधुनिक क्रिकेट की जरूरतों के लिये मानसिक रूप से तैयार हो गए हैं।

Author July 21, 2015 4:37 PM
पूर्व भारतीय टेस्ट टीम के ओपनिंग बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने कहा कि उनके खेल में कोई तकनीकी खामी नहीं है और यार्कशर में काउंटी क्रिकेट खेलकर वह आधुनिक क्रिकेट की जरूरतों के लिये मानसिक रूप से तैयार हो गए हैं।

पूर्व भारतीय टेस्ट टीम के ओपनिंग बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने कहा कि उनके खेल में कोई तकनीकी खामी नहीं है और यार्कशर में काउंटी क्रिकेट खेलकर वह आधुनिक क्रिकेट की जरूरतों के लिये मानसिक रूप से तैयार हो गए हैं।

गौरतलब है पुजारा भारत ए टीम के कप्तान हैं। पुजारा इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया में टेस्ट श्रृंखला में खराब प्रदर्शन के बाद भारतीय टेस्ट टीम से बाहर हो गए थे। विशेषज्ञों का मानना है कि तकनीकी खामियों के कारण वह विदेशी हालात में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते।

आस्ट्रेलिया ए के खिलाफ अनधिकृत टेस्ट श्रृंखला में भारत ए की कप्तानी करने जा रहे पुजारा को यकीन है कि वह जल्दी ही फार्म में लौटेंगे।

उन्होंने कहा ,‘‘ यार्कशर में खेलने से काफी मदद मिलेगी क्योंकि वहां हालात चुनौतीपूर्ण थे।’’

उन्होंने कहा ,‘‘ वहां रन बनाने के लिये तकनीकी तौर पर आपको सही होना पड़ता है और एकाग्रता बनाकर खेलना पड़ता है । मैने अपनी तकनीक में कोई बड़ा बदलाव नहीं किया है । मानसिक तैयारी अधिक जरूरी थी जिससे मुझे बल्लेबाजी में मदद मिलेगी । यह एक दौर है कि मैं ज्यादा रन नहीं बना पा रहा ।’’

पुजारा ने कहा ,‘‘ मैने इसी तकनीक से हमेशा रन बनाये हैं । मेरी तकनीक में कोई खराबी नहीं है और मैं उसी पर अडिग रहूंगा । मैं अपने खेल पर कड़ी मेहनत करूंगा और उम्मीद है कि कामयाबी मिलेगी ।’’

पुजारा को यकीन है कि इस श्रृंखला में वह बड़ी पारियां खेल सकेंगे ।

उन्होंने कहा ,‘‘ मैं अपने खेल का पूरा मजा लेना चाहता हूं । मैं रन बनाकर टीम को जिताना चाहता हूं । यहां मुझ पर कप्तानी की अतिरिक्त जिम्मेदारी है । मैं नेट पर अच्छी बल्लेबाजी कर रहा हूं और उम्मीद है कि रन बना सकूूंगा ।’’

यह पूछने पर कि क्या उन पर भारतीय टीम में वापसी का दबाव है, उन्होंने कहा ,‘‘ एक क्रिकेटर के तौर पर मुझे हमेशा प्रदर्शन में सुधार करना है, चाहे मैं टीम में रहूं या नहीं । अंतिम एकादश में रहना मेरे हाथ में नहीं है लेकिन अपने खेल में सुधार लाना होगा । मुझे मौकों का इंतजार करना होगा ।’’

पुजारा ने कहा कि राहुल द्रविड़ की मौजूदगी का खिलाड़ियों पर सकारात्मक असर है । उन्होंने कहा ,‘‘ राहुल की कोचिंग में खेलने को लेकर सभी उत्साहित है । वह सभी का मार्गदर्शन कर रहे हैं । अपने कैरियर में वह काफी सफल रहे हैं और उन्हें खेल के सारे पहलुओं के बारे में पता है । सभी उनके साथ और कोचिंग का मजा ले रहे हैं ।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App