ताज़ा खबर
 

IPL की डेट्स के ऐलान के बाद ट्विटर पर ट्रेंड हुआ #BoycottIPL, लोगों ने कहा- दुनिया चीन का बहिष्कार कर रही, BCCI पनाह दे रहा

दरअसल, गवर्विंग काउंसिल की बैठक से पहले माना जा रहा था कि बीसीसीआई आईपीएल की मुख्‍य प्रायोजक चीनी कंपनी वीवो को झटका दे सकता है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: August 3, 2020 1:39 PM
IPL 2020 Boycott IPLआईपीएल के 13वें सीजन का आयोजन इस साल यूएई में 19 सितंबर से 10 नवंबर तक होगा।

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें सीजन की डेट्स का ऐलान हो चुका है। दुनिया की सबसे महंगी घरेलू क्रिकेट लीग इस साल यूएई में 19 सितंबर से 10 नवंबर खेली जाएगी। आईपीएल गवर्विंग काउंसिल की रविवार को हुई बैठक में इस पर मुहर लगी। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को आईपीएल के आयोजन के लिए खेल मंत्रालय से मंजूरी मिल गई है। हालांकि, देश से बाहर टूर्नामेंट का आयोजन कराने को लेकर अभी केंद्र सरकार से  अनुमति मिलना बाकी है। हालांकि, आईपीएल मीटिंग खत्‍म होने के बाद से ही बीसीसीआई की आलोचना शुरू हो गई। सोशल मीडिया पर #BoycottIPL2020 ट्रेंड करने लगा।

बता दें कि बीसीसीआई को एक साल में वीवो से 440 करोड़ रुपये मिलते हैं। चीनी कंपनी के साथ संबंध न तोड़ने के फैसले के बाद से ही बीसीसीआई और सौरव गांगुली ट्रोल रहे हैं। सोशल मीडिया यूजर्स ने लिखा कि बीसीसीआई शर्म करो। एक यूजर ने लिखा कि बीसीसीआई और आईपीएल को अब भी इस फैसले पर सोचना चाहिए। एक एक अन्य यूजर ने लिखा कि देश पहले होता है। बीसीसीआई सिर्फ पैसा कमाना चाहता है। सैनिकों को सम्‍मान दें और आईपीएल का बहिष्‍कार करें।

@ashwani_mahajan ने ट्वीट किया, ‘इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) एक कारोबार है और इस कारोबार को चलाने वाले देश के प्रति असंवेदनशील हैं। यह सुरक्षा की बात है। पूरी दुनिया चीन का बहिष्कार कर रही है, आईपीएल उन्हें पनाह दे रहा है। उन्हें समझना चाहिए कि कुछ भी राष्ट्र से ऊपर नहीं है, यहां तक कि क्रिकेट भी नहीं। लोग आईपीएल का बॉयकॉट करें।’ @gupta_vinod1211 ने लिखा, ‘यदि बीसीसीआई चीनी प्रायोजक का बहिष्कार नहीं कर सकता तो हम आईपीएल का बॉयकॉट करेंगे। हमारे लिए हमेशा राष्ट्र पहले है।’

@Adiashu1 ने @Suhelseth के ट्वीट पर रिट्वीट करते हुए लिखा, ‘क्योंकि बीसीसीआई आईपीएल पैसे के भूखे हैं, वे चीन द्वारा शहीद किए गए हमारे 20 सैनिकों का सम्मान नहीं करते हैं। लेकिन आईपीएल और जय शाह पैसे से प्यार करते हैं।’ @ParnayWala ने लिखा, ‘इस साल मैंने आईपीएल का बॉयकॉट किया है। मेरे लिए चीनी पैसे से ज्यादा भारतीय सेना और शहीद सैनिक पहले हैं। मैं अपने शहीद सैनिकों के शवों पर जश्न नहीं मना सकता। यदि आप भारत और भारतीय सेना के प्रति वफादार हैं और उससे प्यार करते हैं तो आईपीएल का बॉयकॉट करें।’

दरअसल बैठक में आईपीएल के आयोजन के साथ ही चीनी कंपनियों के साथ करार को लेकर बड़ा फैसला लिया गया। गवर्विंग काउंसिल की बैठक से पहले माना जा रहा था कि बीसीसीआई आईपीएल की मुख्‍य प्रायोजक चीनी कंपनी वीवो को झटका दे सकता है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। बीसीसीआई ने चीनी कंपनी के साथ करार बरकरार रखने का फैसला किया है। वीवो आईपीएल का टाइटल प्रायोजक है, जबकि पेटीएम, ड्रीम 11, बाईजूस और स्विगी में भी चीनी निवेश है। भारत और चीन के बीच मौजूदा तनाव को देखते हुए यह मुद्दा 10 सूत्री एजेंडे में सबसे अहम था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 IPL से पहले बीसीसीआई ने जारी की SOP: 60 साल से ज्यादा वाले नहीं बनेंगे ट्रेनिंग कैंप का हिस्सा, खिलाड़ियों को भरना होगा सहमति फॉर्म
2 IPL के दौरान सुबह 6 बजे तक पार्टी करते थे श्रीसंत, लड़कियां भी रहती थीं शामिल; भारतीय पेसर को लेकर अंडर-19 वर्ल्ड कप विजेता स्पिनर का खुलासा
3 पीटर चेज को नहीं मिला मौका, इंग्लैंड ने भी किया एक बदलाव; ये है दोनों टीमों की प्लेइंग इलेवन
IPL 2020 LIVE
X