bjp mp said being dalit vinod Kambli faced discrimination during his cricket career and demanded reservation in cricket-बीजेपी सांसद ने की क्रिकेट में आरक्षण की मांग, कहा- दलित होने के कारण विनोद कांबली खेल से बाहर हो गए - Jansatta
ताज़ा खबर
 

बीजेपी सांसद ने की क्रिकेट में आरक्षण की मांग, कहा- दलित होने के कारण विनोद कांबली खेल से बाहर हो गए

विनोद कांबली ने उदित राज की बात का खंडन करते हुए कहा कि उनके क्रिकेट करियर का उनकी जाति से कोई लेना-देना नहीं।

पूर्व क्रिकेटर विनोद कांबली की अक्सर उनके स्कूल के साथ और पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर से की जाती है।

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद और पार्टी के प्रमुख दलित नेता उदित राज ने क्रिकेटर विनोद कांबली पर दिए एक बयान के कारण विवादों में आ गए हैं। उदित राज ने पूर्व क्रिकेटर विनोद कांबली का उदाहरण देते हुए कहा कि दलितों के संग होने वाले भेदभाव को देखते हुए क्रिकेट में आरक्षण होना चाहिए। उदित राज ने कहा कि एक निजी चैनल से बातचीत में कहा कि दलितों को क्रिकेट टीम में शामिल होने का पूरा हक है। उदित राज में बाद में अपने ट्विटर अकाउंट से एक कांबली की तस्वीर के साथ एक पोस्टर शेयर किया जिस पर लिखा है, “हम नहीं चाहते कि फिर से किसी अर्जुन के लिए एकलव्य को कष्ट सहना पड़े।”

उदित राज ने टाइम्स नाउ चैनल से कहा, “मैं इस कदम के बारे में सोच रहा हूं ताकि हम भेदभाव का सामना कर सकें। जब काबिल और कुशल लोग हैं लेकिन मैं आश्वस्त नहीं हूं कि उनका चयन किया जाएगा और उन्हें खेलने के मौका मिलेगा। विनोद कांबली इसका एक उदाहरण हैं। भारत की 35 करोड़ आबादी में प्रतिभा को खोजना शुरू करना मेरे ख्याल से सबसे बेहतर और बेहतरीन होगा।”

उदित राज दिल्ली (नार्थ-वेस्ट) से सांसद हैं। उदित राज ने बाद में ट्विटर पर भी इस मुद्दे को उठाया। बीजेपी सांसद ने ट्वीट किया, “विनोद कांबली आपका ये स्वीकार करने में शर्माना नहीं चाहिए कि आप दलित हैं और इसलिए आप क्रिकेट से बाहर हो गए।” बाद में उदित राज ने ट्विटर पर कांबली की तस्वीर वाला एक पोस्टर भी शेयर किया जिसमें उनकी तुलना एकलव्य से की गई थी।

हालांकि कांबली ने उदित राज की बात का खंडन करते हुए कहा कि उनके क्रिकेट करियर का उनकी जाति से कोई लेना-देना नहीं। कांबली ने उदित राज को जवाब देते हुए ट्वीट किया, “मिस्टर राज, मैं आपके किसी बयान से सहमत नही हूं। इसलिए मैं आपसे गुजारिश करता हूं कि मेरे नाम का इस्तेमाल न करें!!!”

18 जनवरी 1971 में मुंबई में जन्मे कांबली ने अपने वनडे क्रिकेट करियर की शुरुआत 1991 में और टेस्ट क्रिकेट करियर की शुरुआत 1993 में की थी।  उन्हें अक्टूबर 2000 के बाद भारतीय टीम में नहीं चुना गया। 2009 में उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की। विनोद कांबली ने 17 टेस्ट मैचों की 21 पारियों में 54.20 के औसत से कुल 1084 बनाए। उनका अधिकतम स्कोर 227 रन रहा। उन्होंने अपने टेस्ट करियर में कुल चार शतक और तीन अर्ध शतक बनाए। एकदिवसीय क्रिकेट में कांबली ने 104 मैचों की 97 पारियों में 32.59 के औसत से कुल 2477 रन बनाए। वनडे क्रिकेट में उन्होंने 2 शतक और 14 अर्ध शतक बनाए। वनडे में उनका अधिकतम स्कोर 106 रन रहा।

उदित राज के बयान के बाद ट्विटर पर कई दलित समूहों ने उनका समर्थन किया। वहीं कई ट्विटर यूजर्स ने उनकी क्रिकेट में जातीय राजनीति के इस्तेमाल की कोशिश के लिए आलोचना भी की। हालांकि उदित राज इस बात पर कायम रहे कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की चयन प्रक्रिया में जातिगत भेदभाव होता है।

मध्य प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा- पार्टी के गद्दारों को जमीन में गाड़ दो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App