ताज़ा खबर
 

कोच के सिलेक्शन में राहुल द्रविड़ के नाम का गलत इस्तेमाल? भड़के बीसीसीआई सचिव

पूर्व सलामी बल्लेबाजी विक्रम राठौड़ को इस पद के लिए नियुक्त किया जाना था लेकिन फिलहाल हितों के टकराव के चलते उनकी नियुक्ति पर रोक लगा दी गई है।दरअसल, राठौड़ वर्तमान में अंडर- 19 टीम के मुख्य कोच आशीष कपूर के रिश्तेदार हैं ।

राहुल द्रविड़ (फोटो सोर्स -पीटीआई)

भारत ए और अंडर-19 टीम के कोच की नियुक्ति को लेकर विवाद होता नजर आ रहा है। पूर्व सलामी बल्लेबाजी विक्रम राठौड़ को इस पद के लिए नियुक्त किया जाना था लेकिन फिलहाल हितों के टकराव के चलते उनकी नियुक्ति पर रोक लगा दी गई है।दरअसल, राठौड़ वर्तमान में अंडर- 19 टीम के मुख्य कोच आशीष कपूर के रिश्तेदार हैं और उनकी नियुक्ति पर हितों के टकराव का मामला बन सकता है। खबर है कि सबा करीम ने ही प्रशासकों की समीति को विक्रम राठौड़ का नाम सुझाया था।

बीसीसीआई के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी ने नाराजगी जताते हुए राहुल द्रविड़ का नाम गलत इस्तेमाल की बात कही है मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल जौहरी को पत्र लिखते हुए उन्होंने कहा है कि राहुल द्रविड़ के नाम का इस पूरी प्रक्रिया में गलत इस्तेमाल किया गया है। लंबे समय तक क्रिकेट पर अधिकार जमाने वाले क्रिकेट में एक बार फिर जमींदार किस्म के लोग क्रिकेट में मनमानी करना चाहते हैं।

उनका कहना है कि वह किसी भी ऐसे इश्तेहार से अवगत नहीं हुए जिसमें अंडर 19 के कोच पद की भर्ती की बाद कही गई हो और अगर विक्रम राठौड़ की नियुक्ति अगर बिना इश्तेहार के हुई है तो यह नियमों का उल्लंघन हैं।पिछले ढाई साल से बीसीसीआई  से जुड़े कई हितो के टकराव का मामला सामने आया है। ऐसे में विक्रम राठौड़ के नाम को क्या समझकर सुझाया गया जब उनकी नियुक्ति के बाद हितों का टकराव होना ही था। इतना ही नही विक्रम राठौड़ के पास ब्रिटेन का पासपोर्ट है तो फिर विदेशी कोच की नियुक्ति का फैसला क्या सर्वसम्मित से लिया गया ?

 

आपत्ति के बाद विक्रम की नियुक्ति पर रोक
हितों के टकराव के मामले के सामने आने के बाद विक्रम राठौड़ की नियुक्ति को पर रोक लगा दी गई है। व्रिकम को वायनाड में  भारत ए के साथ अपना कार्यकाल शुरू करना था लेकिन फिलहाल यह संभव नहीं हो सका। कहा जा रहा है कि केवल नैतिक अधिकारी ही इस बात का फैसला ले सकता है कि विक्रम राठौड़ की नियुक्ति सही है या गलत लेकिन बीसीसीआई के पास नैतिक अधिकारी ना होने के चलते उनकी नियुक्ति से गलत संदेश जाएगा। ऐसे में राठौड़ की नियुक्ति पर अनिश्चितकाल के लिए रोक लग गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App