ताज़ा खबर
 

BCCI ने नहीं माना नाइकी का प्रस्ताव, किट प्रायोजन और ऑफिशियल सेल्स पार्टनर के लिए मांगे टेंडर; जानिए कब है आखिरी तारीख

कोरोना के कारण मार्च में भारत-दक्षिण अफ्रीका वनडे सीरीज रद्द करनी पड़ी थी। इसके अलावा भारतीय टीम का श्रीलंका और जिम्बाब्बे दौरा भी कैंसिल हो गया। नुकसान के कारण नाइकी डील को लेकर बीसीसीआई से रियायत चाह रही थी, लेकिन बोर्ड से उसकी बातचीत बेनतीजा रही।

Indian Cricket Team Kit Partnerनाइकी भारतीय क्रिकेट के साथ करीब 14 साल से जुड़ा हुआ है। दिसंबर 2005 में उसने रीबॉक और एडिडास को पछाड़कर किट पार्टनर बना था।

इस साल सितंबर में भारतीय क्रिकेट टीमों का नाइकी के साथ चला आ रहा चार साल का करार खत्म हो जाएगा,  क्योंकि उसने करार को रिन्यू नहीं करने का फैसला लिया है। ऐसे में बीसीसीआई ने टीमों के किट प्रायोजक और आधिकारिक बिक्री भागीदार (Official Merchandising Partner) के लिए बोलियां (टेंडर) आमंत्रित की हैं। रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई भारतीय क्रिकेट कंट्रोस बोर्ड (बीसीसीआई) की अपेक्स काउंसिल की मीटिंग में यह फैसला लिया गया।

बीसीसीआई के किट पार्टनर के रूप में नाइकी की मौजूदा डील 370 करोड़ रुपये की थी। स्पोर्ट्स किट बनाने वाली इस दिग्गज कंपनी ने बीसीसीआई के साथ 30 करोड़ की रॉयल्टी के साथ 370 करोड़ रुपए में चार साल का करार किया था। इसमें प्रति मैच 85 लाख रुपये का शुल्क शामिल था।

ईएसपीएनक्रिकइंफो के अनुसार, नाइकी करीब 14 साल से भारतीय क्रिकेट से जुड़ा है। उसने दिसंबर 2005 में रीबॉक और एडिडास को पछाड़ते हुए बीसीसीआई के साथ 43 मिलियन डॉलर के समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। रिपोर्टों के मुताबिक, लॉकडाउन के दौरान नाइकी का कारोबार प्रभावित हुआ था, इसलिए उसने समयावधि में छूट की मांग की थी। हालांकि, ऐसा लगता है कि बीसीसीआई नाइकी के प्रस्ताव पर सहमत नहीं हुआ है। इसी वजह से उसने टीम किट प्रायोजक और ऑफिशियल मर्केंडाइजिंग पार्टनर राइट्स के लिए बोलियां आमंत्रित की हैं।

आमंत्रित निविदा (आईटीटी) के तहत जीतने वाले बोलीदाता के पास किट प्रायोजक और/या आधिकारिक बिक्री भागीदार तथा इससे संबंधित विभिन्न अधिकार (जैसा कि आईटीटी में परिभाषित किया गया है) होंगे। बीसीसीआई के बयान के मुताबिक, ‘पात्रता आवश्यकताओं और दायित्वों समेत। बोलियों के प्रस्तुतीकरण और मूल्यांकन को नियंत्रित करने वाले नियम और शर्तें आईटीटी में निहित हैं। टेंडर फॉर्म एक लाख रुपये के शुल्क के भुगतान पर तीन अगस्त, 2020 से उपलब्ध होंगे।’ टेंडर भरने की आखिरी तारीख 26 अगस्त है।

बयान के मुताबिक, ‘बीसीसीआई अपने विवेकानुसार बिना किसी कारण के किसी भी स्तर पर बोली प्रक्रिया को रद्द करने या संशोधित करने का अधिकार सुरक्षित रखता है। सिर्फ आईटीटी खरीदने से बोली लगाने का अधिकार नहीं मिलेगा, लेकिन बोली लगाने वाले को बोली लगाने के इच्छुक व्यक्ति/संस्था के नाम पर आईटीटी खरीदना होगा।’

बता दें कि कोरोना के कारण मार्च में भारत-दक्षिण अफ्रीका वनडे सीरीज रद्द करनी पड़ी थी। इसके अलावा भारतीय टीम का श्रीलंका और जिम्बाब्बे दौरा भी कैंसिल हो गया। नुकसान के कारण नाइकी डील को लेकर बीसीसीआई से रियायत चाह रही थी, लेकिन बोर्ड से उसकी बातचीत बेनतीजा रही। नाइकी कंपनी डील के मुताबिक, भारतीय टीम को शूज, जर्सी और अन्य सामान मुफ्त में देती है। पहली बार बोर्ड की 2006 में कंपनी से डील हुई थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 उम्र छिपाने वाले क्रिकेटरों को BCCI ने दिया गलती सुधारने का मौका, फर्जी दस्तावेज देने वालों को 15 सितंबर तक करना होगा यह काम
2 बीसीसीआई ने MS Dhoni और रोहित शर्मा की टीमों को दिया झटका, जानिए क्यों नहीं दी 20 अगस्त से पहले यूएई जाने की मंजूरी
3 IPL की डेट्स के ऐलान के बाद ट्विटर पर ट्रेंड हुआ #BoycottIPL, लोगों ने कहा- दुनिया चीन का बहिष्कार कर रही, BCCI पनाह दे रहा
ये पढ़ा क्या?
X