शुरू से ही अनिल कुंबले को कोच नही बनना देना चाहते थे विराट कोहली- पूर्व बीसीसीआई सचिव ने दिया संकेत - BCCI ex secretary ajay shirke said virat kohli questioned over when anil kumble appointed as a team coach - Jansatta
ताज़ा खबर
 

शुरू से ही अनिल कुंबले को कोच नहीं बनना देना चाहते थे विराट कोहली- पूर्व बीसीसीआई सचिव ने दिया संकेत

शिरके ने कहा कि उस समय ऐसे कई बातें सुनने को मिल रही थीं, जिनमें कहा जा रहा था कि कोहली और कुंबले के बीच कुछ विवाद चल रहा है लेकिन फिर भी कुंबले को टीम का कोच नियुक्त किया गया।

Author नई दिल्ली | June 2, 2017 12:03 PM
भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली और हेड कोच अनिल कुंबले।(Photo: BCCI)

बीसीसीआई के पूर्व सचिव अजय शिरके ने संकेत दिए हैं कि भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली नहीं चाहते थे कि पूर्व क्रिकेटर अनिल कुंबले को टीम का कोच बनाया जाए। वहीं क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) चाहती थी कि अनिल कुंबले को कोच बनाया जाए इसलिए विराट कोहली को इसके लिए राजी करवाया गया और कुंबले को एक साल के कॉन्ट्रेक्ट पर भारतीय क्रिकेट टीम का कोच बनाया गया। आपको बता दें कि अजय शिरके पिछले साल कोच का चयन करने वाली समिति के सदस्य थे। शिरके ने कहा कि उस समय ऐसी कई बातें सुनने को मिल रही थीं, जिनमें कहा जा रहा था कि कोहली और कुंबले के बीच कुछ विवाद चल रहा है लेकिन फिर भी कुंबले को टीम का कोच नियुक्त किया गया।

शिरके ने बताया कि उस समय बीसीसीआई के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने पहल की और दोनों पार्टियों से बातचीत कर यह फैसला लिया कि सीएसी द्वारा कुंबले का नाम कोच के लिए रखा जा रहा हैं इसलिए हमें यह स्वीकार करना होगा। शिरके ने कहा कि मुझे लगता है कि कुंबले को एक साल के कॉन्ट्रेक्ट पर इसलिए ही रखा गया था ताकि हम साथ में काम कर यह समझ सकें कि उनके नेतृत्व में कैसा काम होता है, जिससे कि भविष्य में उनके लिए विकल्प खुला रखा जा सके। शिरके ने कहा कि वैसे तो विराट के कुंबले को लेकर अपने विचार थे लेकिन अनुराग ठाकुर ने पहल करते हुए कोहली से कहा कि कुंबले का समिति द्वारा सर्वसम्मित से चुनाव किया गया है। हमें समिति के फैसले का पालन करना होगा और कोहली को भी यह स्वीकार करना होगा।

सीएसी में पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण शामिल हैं। इन लोगों ने रवि शास्त्री की जगह कुंबले को टीम का कोच बनाने का फैसला किया जबकि शास्त्री ने दो साल टीम के निर्देशक के रूप में काम किया था। इसके बाद कुंबले अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कोच की भूमिका को पूरा नहीं कर पाए और उन्हें 21 सदस्यों की शॉर्टलिस्ट से बाहर कर दिया गया। शिरके ने बताया कि लिस्ट से नाम बाहर होने की बात पता चलने के बाद कुंबले ने उन्हें फोन कर भारतीय टीम का कोच बनने की इच्छा जाहिर की थी। जिसपर शिरके ने उनसे कहा था कि कोच का चयन किसी की सिफारिश पर नहीं किया जाएगा और इस सब की एक प्रक्रिया है और वह उसी प्रक्रिया के तरीके से ही काम कर रहे हैं।

देखिए वीडियो - विराट कोहली से आखिर क्यों नाराज हैं भारत का यह पूर्व क्रिकेटर?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App