ताज़ा खबर
 

इस बार नहीं होगी दलीप ट्रॉफी, देवधर और हजारे के प्रारूप में बदलाव

घरेलू और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के व्यस्त कार्यक्रम के कारण पिछले लगभग पांच दशक से चली आ रही दलीप ट्रॉफी अंतरक्षेत्रीय प्रतियोगिता को पहली बार आगामी सत्र...

Author July 21, 2015 10:57 AM
(पीटीआई फाइल फोटो)

घरेलू और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के व्यस्त कार्यक्रम के कारण पिछले लगभग पांच दशक से चली आ रही दलीप ट्रॉफी अंतरक्षेत्रीय प्रतियोगिता को पहली बार आगामी सत्र के लिए कैलेंडर में शामिल नहीं किया गया है।

बीसीसीआइ ने 2015-16 के लिए सोमवार को घरेलू कैलेंडर जारी किया। इसके मुताबिक वह एक अक्तूबर से शुरू होने वाले सत्र में छह महीने के अंदर 900 मैचों की मेजबानी करेगा लेकिन इसमें दलीप ट्रॉफी का जिक्र नहीं किया गया है। यह पहला अवसर होगा जबकि 1961-62 से शुरू हुई यह अंतर क्षेत्रीय प्रतियोगिता नहीं खेली जाएगी।

यह स्पष्ट नहीं हो पाया कि जिस टूर्नामेंट को देश और विदेशों में होने वाली टैस्ट शृंखलाओं के लिए वास्तविक चयन ट्रायल माना जाता था, वह 2016-17 के सत्र में होगा या नहीं। बीसीसीआइ ने अपने बयान में आगामी सत्र में इस तरह के प्रतिष्ठित टूर्नामेंट को हटाने के बारे में कुछ भी नहीं बताया है।

पुरुष और महिला वर्ग में विभिन्न आयु वर्गों में 900 मैचों की घोषणा के दौरान दलीप ट्रॉफी को हटाने के फैसले पर सवाल उठ रहे हैं क्योंकि इस टूर्नामेंट को एक समय चयन ट्रायल के रूप में देखा जाता था। यहां तक कि पिछले साल भी दलीप ट्रॉफी के आधार पर भारतीय टीम में चयन हुआ। मध्य क्षेत्र के खिलाफ फाइनल में दक्षिण क्षेत्र की ओर से दोनों पारियों में शतक जड़ने वाले केएल राहुल को ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए टैस्ट टीम में शामिल किया गया।

इसके अलावा देवधर ट्रॉफी और विजय हजारे ट्रॉफी जैसे सीमित ओवरों के टूर्नामेंट के प्रारूप में भी बदलाव किया गया है। बीसीसीआइ ने अनिल कुंबले की अगुआई वाली तकनीकी समिति के सुझावों पर अमल करने का फैसला किया जिसके तहत देवधर ट्राफी में 24 से 28 जनवरी के बीच पांच दिन में 50 ओवरों के चार मैच खेले जाएंगे।

यह एनकेपी साल्वे चैलेंजर ट्रॉफी की तरह होगी जिसमें तीन टीमें होती हैं। चैलेंजर सीरीज की तरह विजय हजारे ट्रॉफी चैंपियन एक टीम होगी जो बाकी दो टीमों से प्रतिस्पर्धा करेगी। ये दो टीमें विजय हजारे ट्राफी में प्रदर्शन के आधार पर चयनकर्ता चुनेंगे। बोर्ड के मुताबिक देवधर ट्रॉफी में तीन टीमें खेलेंगी जिनमें विजय हजारे ट्रॉफी की चैंपियन टीम और दो अन्य टीमें होंगी। इनका चयन राष्ट्रीय चयनकर्ता करेंगे।

विजय हजारे ट्रॉफी वनडे चैंपियनशिप के प्रारूप में भी बदलाव होगा। इसे नॉकआउट आधार पर खेला जाएगा और रणजी ट्राफी की तरह टीमों को प्रदर्शन के आधार पर समूहों में बांटा जाएगा। बयान में कहा गया कि इस साल से सीनियर पुरुष वनडे और टी20 टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी की तरह ग्रुप आधार पर खेला जाएगा। पहली बार टीमों को चार समूहों में बांटा जाएगा और ए समूह इस टूर्नामेंट में पिछले साल के प्रदर्शन के आधार पर बनाए जाएंगे।

इस साल जूनियर स्तर पर नया अंडर 19 चैलेंजर टूर्नामेंट शुरू किया जाएगा जिसमें जूनियर राष्ट्रीय चयनकर्ताओं द्वारा चुनी गई तीन टीमें होंगी। इस साल महिला क्रिकेटरों के लिए भी एक अंतर प्रांतीय और अंतर क्षेत्रीय वनडे अंडर 23 टूर्नामेंट शुरू किया जाएगा।

घरेलू कार्यक्रम इस प्रकार है:

रणजी ट्रॉफी लीग: एक अक्तूबर से चार दिसंबर 2015 तक,

विजय हजारे ट्रॉफी ग्रुप चरण: आठ से 16 दिसंबर 2015, विजय हजारे ट्रॉफी नॉकआउट: 21 से 25 दिसंबर 2015,

सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी ग्रुप चरण: दो से 10 जनवरी 2016, सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी सुपर लीग: 15 से 20 जनवरी 2016

देवधर ट्रॉफी: 24 से 28 जनवरी 2016

रणजी ट्रॉफी नॉकआउट: तीन से 28 फरवरी

ईरानी कप: छह से 10 मार्च 2016

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App