ताज़ा खबर
 

मोहम्‍मद शमी पर BCCI ने जताया भरोसा, अध्‍यक्ष ने कहा- सिर्फ मुझे ही नहीं, पूरे बोर्ड को यकीन था कि वो पाक साफ़ निकलेंगे

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के कार्यवाहक अध्यक्ष सीके खन्ना ने गुरुवार (22 मार्च) को कहा कि उन्हें और पूरे बोर्ड को आत्मविश्वास था कि तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी उनकी पत्नी के द्वारा लगाए गए आरोपों से पाक-साफ निकलेंगे।

तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी की फाइल फोटो।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के कार्यवाहक अध्यक्ष सीके खन्ना ने गुरुवार (22 मार्च) को समाचार एजेंसी एएनआई से कहा कि उन्हें और पूरे बोर्ड को आत्मविश्वास था कि तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी उनकी पत्नी के द्वारा लगाए गए आरोपों से पाक-साफ निकलेंगे। बीसीसीआई ने एक बयान में कहा, “सर्वोच्च न्यायालय द्वारा गठित क्रिकेट प्रशासकों की समिति (सीओए) ने दिल्ली के पूर्व पुलिस आयुक्त और बीसीसीआई की भ्रष्टाचार रोधी शाखा के प्रमुख नीरज कुमार से मोहम्मद शमी के मामले की जांच करने का आग्रह किया था, क्योंकि ये आरोप बीसीसीआई की भ्रष्टाचार रोधी संहिता के प्रावधानों से संबंधित हैं।” बोर्ड ने कहा, “इस आग्रह पर नीरज कुमार ने इस मामले की जांच से संबंधित एक गोपनीय रिपोर्ट सीओए को सौंप दी है। इस रिपोर्ट के निष्कर्ष के आधार पर सीओए का मानना है कि इस मामले में अब बीसीसीआई की भ्रष्टाचार विरोधी संहिता के तहत आगे किसी प्रकार की कार्रवाई और कार्यवाही की जरूरत नहीं है।” बयान में कहा गया है, “इस वजह से बीसीसीआई अब मोहम्मद शमी को बोर्ड की सालाना कॉन्ट्रैक्ट की लिस्ट के ग्रेड-बी में वार्षिक रिटेनरशिप का प्रस्ताव देगा।”

इससे पहले मैच फिक्सिंग के मामले में बीसीसीआई की भ्रष्टाचार रोधी इकाई के चार अधिकारियों ने हसीन जहां से बात की। अधिकारियों ने हसीन जहां के पिता और उनकी दो बेटियों से भी बात की। सूत्रों के मुताबिक, हसीन जहां ने अपने इस आरोप के संबंध में कुछ दस्तावेज अधिकारियों को सौंपे थे, जिसमें शमी पर दुबई में एक महिला से मिलने का आरोप लगाया गया। इस आरोप में यह कहा गया कि यह महिला शमी को ब्रिटेन से एक अन्य व्यक्ति से मिले पैसे देती थी। हसीन जहां ने इस संबंध में टेलीफोन की एक रिकॉर्डिग भी अधिकारियों को सौंपी थी जिसमें कहा जा रहा है कि शमी ने विवाहेत्तर संबंध के आरोप को सिरे से खारिज करते हुए कहा था कि उन्होंने दुबई में एक महिला अलिश्बा से मुलाकात की, जो उन्हें ब्रिटेन के मोहम्मद भाई से मिले पैसे देने वाली थी।

पत्नी हसीन जहां ने शमी पर अन्य महिलाओं के साथ संबंध रखने और उनके साथ मार-पीट करने के आरोप लगाए थे। इन आरोपों में फंसे शमी को बीसीसीआई ने इसी महीने की आठ तारीख को जारी हुए अपने सालाना कॉन्ट्रैक्ट की लिस्ट में शामिल नहीं किया था। बंगाल के तेज गेंदबाज शमी के खिलाफ पाकिस्तानी संपर्कों से पैसे लेने के आरोप की भी भ्रष्टाचार रोधी अफसर जांच कर रहे थे। लेकिन, बीसीसीआई की भ्रष्टाचार रोधी शाखा के प्रमुख नीरज कुमार ने जांच में शमी को दोषी नहीं पाया और इसके बाद सीओए ने कॉन्टैक्ट लिस्ट के ग्रेड बी में शमी को शामिल करने की सिफारिश की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App