ताज़ा खबर
 

‘ऑस्ट्रेलियाई मीडिया ने मुझे माइकल जैक्सन बना दिया था,’ मंकी गेट कांड पर फिर छलका हरभजन सिंह का दर्द

हरभजन ने कहा, ‘मुझे फंसा दिया गया। मुझे लगा कि यार यह हो क्या गया। मैं अदालत में बैठा हुआ हूं। बाहर का एक जज बैठा हुआ है। पूरी इंक्वायरी बैठी हुई है। मैं थोड़ा घबराया हुआ था कि यह हो क्या रहा है। सोच रहा था कि आखिरी हमेशा मैं ही क्यों?’

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: June 14, 2020 12:35 PM

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2008 सिडनी टेस्ट में हुए मंकी गेट मामले को लेकर भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह का फिर दर्द छलका। हरभजन ने आकाश चोपड़ा से उनके यूट्यूब चैनल पर कहा, वह एक ऐसा टेस्ट मैच था, जिसमें लगा रिकी पोंटिंग अंपायर भी खुद ही है। वह सब कुछ खुद ही थे। कैच पकड़कर आउट भी खुद ही दे रहे थे। उस मैच में बहुत सी चीजें हुईं।

हरभजन ने कहा, ‘वैसे तो ऑस्ट्रेलियन कहते हैं कि जो ग्राउंड में चीजें हो जाए, वह वहीं पर छोड़ देनी चाहिए, लेकिन उस केस में ऐसा नहीं हुआ। मेरे और एंड्रयू सायमंड्स के बीच में जो बाते हुईं वह यह तो मुझे मालूम हैं या उन्हें। यहां तक कि उस मैच में सबसे करीब मेरे सचिन तेंदुलकर थे, लेकिन उन्हें बहुत सी चीजें नहीं पता होंगी, जो हमारे और सायमंड्स के बीच हुईं थीं।’

हरभजन ने कहा, ‘लेकिन जब उस बात को लेकर हेयरिंग हुई तो मैथ्यू हेडन, एडम गिलक्रिस्ट, रिकी पोंटिंग, माइकल क्लार्क चारों ये गवाह वहां पर आ गए। सबने बोला कि मैंने सुना कि भज्जी ने क्या कहा है एंड्रयू सायमंड्स को। गिलक्रिस्ट ने कहा मैंने भी सुना है।’ मैंने कहा, ‘भाईसाहब आप तो पिक्चर में ही नहीं हो। अगर आप फुटेज कभी दोबारा देखो तो उस चीज की। कहीं, आजू-बाजू पता ही नहीं क्या है। पर जो बातें मेरे और एंड्रयू सायमंड्स के बीच हुईं, वह सिर्फ उसे और मुझे पता हैं। यहां तक कि सचिन तेंदुलकर इतने पास खड़े हैं, उनको भी कई बातें ऐसी होंगी जो उन्हें पता ही नहीं लगी होंगी कि क्या हम बात कर रहे हैं।’

हरभजन ने कहा, ‘मुझे फंसा दिया गया। मुझे लगा कि यार यह हो क्या गया। मैं अदालत में बैठा हुआ हूं। बाहर का एक जज बैठा हुआ है। पूरी इंक्वायरी बैठी हुई है। मैं थोड़ा घबराया हुआ था कि यह हो क्या रहा है। सोच रहा था कि आखिरी हमेशा मैं ही क्यों? मैं ही हमेशा मुसीबत में क्यों फंसता हूं। मुझे इसकी कोई आवश्यकता नहीं कि कैमरे मेरे पीछे रहें। मुझे इस तरह की अटेंशंस मिले। ऑस्ट्रेलियाई मीडिया ने तो मुझे माइकल जैक्सन बना दिया था। जहां भी मैं जाता, मेरे पीछे 3-4 कैमरे लगे हुए होते थे। ऐसा लग रहा था कि अचानक सुपर स्टार मैं बन गया हूं। इस टीम का सचिन तेंदुलकर मैं बन गया हूं।’

हरभजन ने कहा, ‘वह समय मुश्किल था, लेकिन उस वक्त भी टीम बहुत एकजुट रही। अनिल भाई ने वहां पर एक बहुत अच्छा फैसला लिया था, कि हम अपने टीममेट्स के साथ हैं। अगर इसने गलती नहीं की है तो हम इसके साथ खड़े रहेगे। हम अंत तक लड़ेंगे। मैं अनिल भाई और अपने टीम के सभी साथियों, बीसीसीआई और सभी भारतीयों का बड़ा शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने मेरे लिए लड़ाई लड़ी।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सुनील गावस्कर ने क्रिकेट के अंदाज में लड़ी कोरोना से जंग, 59 लाख रुपए दान करने की यह थी वजह
2 ‘लाइफ में स्पीड नहीं सही डायरेक्शन जरूरी,’ सचिन तेंदुलकर ने लार के बिना गेंद चमकाने का भी विकल्प दिया
3 चेन्नई सुपरकिंग्स ने पोस्ट की सुरेश रैना की शर्टलेस तस्वीर, वाइफ प्रियंका रैना ने ले लिए मजे
राशिफल
X