ताज़ा खबर
 

अब ‘पसीने’ से भी गेंद नहीं चमका पाएंगे ऑस्ट्रेलियाई बॉलर्स, इंग्लैंड सीरीज के लिए CA ने जारी किया फरमान

यह बदलाव ICC का कोई नियम नहीं है, बल्कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की ओर से अपने खिलाड़ियों को दी गई चिकित्सीय सलाह पर आधारित है। ऑस्ट्रेलिया के मिशेल स्टार्क ने कहा कि वह नियमों को और कड़ा करने से हैरान हैं।

Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: August 28, 2020 4:18 PM
ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क ने कहा कि वह व्हाइट-बॉल सीरीज के लिए नियमों को और कड़ा करने से हैरान हैं।

ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच 4 सितंबर से तीन टी20 और 3 वनडे मैचों की सीरीज खेली जानी है। सीरीज शुरू होने से पहले क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने अपने खिलाड़ियों को एक फरमान जारी किया है। इसमें कहा गया है कि वे इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज के दौरान गेंद को चमकाने के लिए अपने सिर, चेहरे या गर्दन के पसीने का इस्तेमाल नहीं करें।

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने COVID-19 (कोरोनावायरस) महामारी के दौरान पहले ही गेंद को चमकाने के लिए लार के इस्तेमाल पर बैन लगा रखा है। हालांकि, आईसीसी ने शरीर के किसी भी हिस्से के पसीने से गेंद चमकाने पर रोक नहीं लगाई है। बताया जा रहा है कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (Cricket Australia) ने ताजा प्रतिबंध कोविड-19 के संक्रमण का जोखिम कम करने के लिए अपने खिलाड़ियों से ऐसा कहा है।

www.cricket.com.au की रिपोर्ट के मुताबिक, बोर्ड ने अपने खिलाड़ियों को कहा कि वे मुंह या नाक के पास से पसीने का इस्तेमाल नहीं करें। ऐसे में सीरीज के दौरान खिलाड़ियों के पास गेंद चमकाने के लिए पेट या कमर के पास से ही पसीने के इस्तेमाल का विकल्प बचता है। इसका मतलब यह है कि सीरीज के दौरान किसी भी ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी को शर्ट उतारकर अपनी पीठ या पेट से पसीना इकट्ठा करते आराम से देखना एक सामान्य घटना होगी।जा सकेगा।

माना जा रहा है कि बदलाव ICC का कोई नियम नहीं है, बल्कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की ओर से अपने खिलाड़ियों को दी गई चिकित्सीय सलाह पर आधारित है। इस बीच ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क ने कहा कि वह आगामी व्हाइट-बॉल सीरीज के लिए नियमों को और कड़ा करने से हैरान हैं।

हालांकि, स्टार्क ने यह भी कहा कि इससे ऑस्ट्रेलियाई आक्रमण पर फर्क नहीं पड़ेगा। स्टार्क ने कहा, ‘व्हाइट बॉल क्रिकेट में यह इतना अहम नहीं है। एक बार नई गेंद से खेल शुरू होता है तो आप इसे सूखा रखने की कोशिश करते हैं। इसका (गेंद चमकाने) रेड बॉल क्रिकेट में ज्यादा महत्व है।’ उन्होंने कहा, ‘अभ्यास करते समय हम अपनी योजना पर विचार करेंगे। सीरीज से पहले हम लोगों को इसपर बात करनी होगी।’

बता दें कि कोरोनावायरस के कहर से किसी न किसी तरह सारी दुनिया प्रभावित हुई है। कोविड-19 के बाद से लोगों की रोजमर्रा की जिंदगी में काफी बदलाव आ गया है। खिलाड़ी भी इससे अछूते नहीं हैं। कई खेलों को पूरी तरह से टाल दिया गया है, तो कई खेलों को कड़ी सावधानी बरतते हुए खेला जा रहा है।

Next Stories
1 युजवेंद्र चहल को यूएई में सता रही मंगेतर की याद, जानिए क्या रहा धनश्री वर्मा का रिएक्शन
2 7 फीट लंबे पाकिस्तानी पेसर को खेल नहीं पा रहे थे विराट कोहली, तब युवराज सिंह ने दी थी खास सलाह
3 जब इरफान पठान को लड़की बन युवराज सिंह को करना पड़ा फोन, कपिल शर्मा के शो पर भारतीय दिग्गज ने खोली थी पोल
ये  पढ़ा क्या?
X