ताज़ा खबर
 

एडिलेड टेस्ट में कोहली के शतक के बावजूद हारा भारत

कप्तान विराट कोहली के मैच में दूसरे शतक से बेहद मजबूत स्थिति में होने के बावजूद भारत को बल्लेबाजी क्रम के ध्वस्त होने के कारण ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले क्रिकेट टेस्ट के पांचवें और अंतिम दिन 48 रन से शिकस्त का सामना करना पड़ा। ऑस्ट्रेलिया के 364 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय […]

Author December 13, 2014 2:50 PM
175 गेंद का सामना करते हुए कोहली ने 16 चौके और 1 छक्के की मदद से 141 रनों की पारी खेली। (फ़ोटो-एपी)

कप्तान विराट कोहली के मैच में दूसरे शतक से बेहद मजबूत स्थिति में होने के बावजूद भारत को बल्लेबाजी क्रम के ध्वस्त होने के कारण ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले क्रिकेट टेस्ट के पांचवें और अंतिम दिन 48 रन से शिकस्त का सामना करना पड़ा।

ऑस्ट्रेलिया के 364 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय टीम एक समय दो विकेट पर 242 रन बनाकर बेहद मजबूत स्थिति में दिख रही थी लेकिन इसके बाद ऑस्ट्रेलिया ने 73 रन के भीतर आठ विकेट चटकाते हुए चार मैचों की श्रृंखला में 1-0 की बढ़त बना ली।

भारतीय टीम अंतत: 87.1 ओवर में 315 रन पर सिमट गई। टीम इंडिया की ओर से कोहली (141) और सलामी बल्लेबाज मुरली विजय (99) ही टिककर खेल पाए। टीम के सात बल्लेबाज दोहरे अंक तक भी नहीं पहुंच पाए। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया ने अपनी दूसरी पारी कल के स्कोर पांच विकेट पर 290 रन पर घोषित की।

कोहली कप्तान के रूप में पदार्पण करते हुए टेस्ट की दोनों पारियों में शतक जड़ने वाले सिर्फ दूसरे बल्लेबाज बने लेकिन साथी बल्लेबाजों के घुटने टेकने के कारण उनकी इस उपलब्धि के बावजूद भारत हार गया।

ऑस्ट्रेलिया की ओर से आफ स्पिनर नाथन लियोन ने 152 रन देकर सात विकेट चटकाए। लियोन ने मैच में 12 विकेट चटकाए जिसके लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया।

भारत की हार से कोहली काफी निराश होंगे जिन्होंने विजय के साथ टीम को बेहद मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया था लेकिन अंतिम सत्र में आठ विकेट गंवाने के कारण टीम इंडिया मैच हार गई। कोहली को लियोन ने आउट किया।

कोहली ने अपने करियर का आठवां टेस्ट शतक जमाया। उन्होंने विजय के साथ तीसरे विकेट के लिए 185 रन की साझेदारी की। विजय सिर्फ एक रन से शतक से चूक गए। कोहली ने अपनी पारी के दौरान 175 गेंद का सामना करते हुए 16 चौके और एक छक्का मारा। उन्होंने पहली पारी में भी 115 रन बनाए थे।

कोहली एडीलेड में टेस्ट की दोनों पारियों में शतक जड़ने वाले विजय हजारे (116 और 148, 1947-48 में) के बाद दूसरे भारतीय बल्लेबाज बने। वह किसी टेस्ट की दोनों पारियों में शतक जड़ने वाले चौथे भारतीय बल्लेबाज हैं। उनसे पहले हजारे, सुनील गावस्कर (तीन बार) और राहुल द्रविड़ (दो बार) यह उपलब्धि हासिल कर चुके हैं।

लियोन ने मैच में 286 रन देकर 12 विकेट चटकाए जो ऑस्ट्रेलिया में भारत के खिलाफ किसी स्पिनर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। वह घरेलू सरजमीं पर भारत के खिलाफ 10 या इससे अधिक विकेट चटकाने वाले पहले ऑस्ट्रेलियाई स्पिनर हैं। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी सात विकेट पर 517 रन बनाने के बाद घोषित की थी जिसके जवाब में भारत ने 444 रन बनाए।

लियोन को मिशेल जॉनसन (45 रन पर दो विकेट) और रेयान हैरिस (49 रन पर एक विकेट) का अच्छा साथ मिला। चाय तक भारत का स्कोर दो विकेट पर 205 रन था और उसे अंतिम सत्र में 159 रन की दरकार थी। कोहली और विजय ने भारत की जीत की उम्मीद जगा दी थी।

चाय के बाद भी इन दोनों बल्लेबाजों ने स्पिनरों पर आक्रमण और तेज गेंदबाजों को सतर्कता से खेलने की रणनीति जारी रखी। इस बीच कोहली ने 135 गेंद में अपना आठवां टेस्ट शतक पूरा किया।

इसके साथ ही उन्होंने कप्तान के रूप में अपने पहली ही टेस्ट की दोनों पारियों में शतक के ग्रेग चैपल के रिकॉर्ड की बराबरी की। ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज ने 1975-76 में ब्रिसबेन में यह उपलब्धि हासिल की थी।

अगले ओवर में नजरें विजय पर टिकी थी जिन्हें शतक पूरा करने के लिए एक रन की जरूरत थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। वह लियोन की गेंद को बैकफुट पर फ्लिक करने की कोशिश में पूरी तरह चूक गए और अंपायर ने उन्हें पगबाधा आउट करार दिया। उन्होंने 234 गेंद का सामना करते हुए 10 चौके और दो छक्के मारे।

विजय के विकेट ने ऑस्ट्रेलिया को वापसी का मौका दिया और टीम इंडिया ने 73 रन से भीतर आठ विकेट गंवाए जिससे उसका स्कोर दो विकेट पर 242 रन से 315 रन पर आल आउट हो गया। अजिंक्य रहाणे :00: अंपायर के खराब फैसले का शिकार हुए। उन्होंने लियोन की गेंद पर शॉर्ट लेग पर कैच आउट दिया गया लेकिन रीप्ले में साफ दिखा कि गेंद बल्ले से नहीं टकराई थी।

रोहित शर्मा (06) शुरुआत से ही असहज दिखे और लियोन की गेंद पर बैकवर्ड शॉर्ट लेग पर डेविड वॉर्नर को कैच दे बैठे। रिद्धिमान साहा (13) ने लियोन पर कुछ अच्छे साथ खेले लेकिन इसकी ऑफ स्पिनर की गेंद पर बोल्ड हो गए।

इसके बाद भारत को जीत दिलाने की जिम्मेदारी कोहली के कंधों पर थी। ऑस्ट्रेलिया ने नयी गेंद नहीं ली और कोहली लियोन की गेंद को उठाकर मारने की कोशिश में बाउंड्री पर कैच दे बैठे। मोहम्मद शमी (05), इशांत शर्मा (01) और वरुण आरोन (01) भी मेजबान टीम के गेंदबाजों का सामना नहीं कर पाए।

इससे पहले विजय और कोहली ने लंच से पहले 48 रन की साझेदारी की जबकि ऑस्ट्रेलिया ने दो विकेट चटकाए जिससे मैच के ड्रॉ होने की संभावना बढ़ गई थी लेकिन इस जोड़ी ने दूसरे सत्र में कोई भी विकेट नहीं गंवाते हुए भारत की जीत की उम्मीद बनाई।

दोनों बल्लेबाजों में कोहली ने अधिक आक्रामक रूख अपनाया और शुरू से ही लियोन को निशाने पर रखा। उन्होंने लंच के बाद लियोन पर छक्का भी मारा लेकिन इस स्पिनर ने इस बल्लेबाज के खिलाफ पगबाधा की विश्वसनीय अपील भी की जिसे अंपायर ने ठुकरा दिया।

कोहली ने पारी के 45वें अ‍ेवर में 69 गेंद में अपना 10वां टेस्ट अर्धशतक पूरा किया जबकि विजय ने भी ठोस बल्लेबाजी करते हुए 131 गेंद में अपना आठवां अर्धशतक बनाया।

इससे पहले ऑस्ट्रेलिया को पारी के 44वें ओवर में झटका लगा जब क्षेत्ररक्षण करते हुए कप्तान माइकल क्लार्क की दायें पैर की मांसपेशियों में खिंचाव आ गया और उन्हें मैदान से बाहर जाना पड़ा। चार ओवर बाद कोहली और विजय ने शतकीय साझेदारी पूरी की।

विजय ने चाय से पूर्व 59वें ओवर में जानसन की गेंद पर मिशेल मार्श को शॉर्ट कवर पर मौका दिया लेकिन क्षेत्ररक्षक इसका फायदा नहीं उठा पाया। विजय इस समय 85 रन बनाकर खेल रहे थे। उन्होंने कोहली के साथ मिलकर 60वें ओवर में टीम का स्कोर 200 रन तक पहुंचाया।

इससे पहले भारतीय सलामी जोड़ी का खराब प्रदर्शन जारी रहा और एक बार फिर 2011 के बाद से भारतीय जोड़ी पहली बार 50 रन की साझेदारी करने में नाकाम रही। शिखर धवन ने नौ रन बनाने के बाद जॉनसन की गेंद पर विकेटकीपर ब्रेड हैडिन को कैच थमाया। रीप्ले में हालांकि दिखा कि गेंद उनके कंधे पर लगकर विकेटकीपर के पास गई है।

चेतेश्वर पुजारा (21) को लियोन का सामना करने के काफी परेशानी हुई और अंतत: वह इसी गेंदबाज की गेंद पर विकेटकीपर को कैच दे बैठे। पुजारा ने 38 गेंद का सामना करते हुए चार चौके मारे।

ऑस्ट्रेलिया पहली पारी: सात विकेट पर 517 रन (पारी घोषित)
भारत पहली पारी: 444

ऑस्ट्रेलिया दूसरी पारी: पांच विकेट पर 290 रन (पारी घोषित)

भारत दूसरी पारी:

मुरली विजय पगबाधा बो लियोन 99
शिखर धवन का हैडिन बो जॉनसन 09
चेतेश्वर पुजारा का हैडिन बो लियोन 21
विराट कोहली का मार्श बो लियोन 141
अजिंक्य रहाणे का रोजर्स बो लियोन 00
रोहित शर्मा का वॉर्नर बो लियोन 06
रिद्धिमान साहा बो लियोन 13
कर्ण शर्मा नाबाद 04
मोहम्मद शमी का जॉनसन बो हैरिस 05
वरुण आरोन पगबाधा बो जॉनसन 01
इशांत शर्मा स्टंप हैडिन बो लियोन 01

अतिरिक्त: 15
कुल: 87.1 ओवर में सभी विकेट खोकर: 315 रन
विकेट पतन: 1-16, 2-57, 3-242, 4-242, 5-277, 6-299, 7-304, 8-309, 9-314

गेंदबाजी:
जॉनसन 16-2-45-2
हैरिस 19-6-49-1
लियोन 34.1-5-152-7
सिडल 9-3-21-0
वॉटसन 2-0-6-0
स्मिथ 3-0-18-0
मार्श 4-1-11-0

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App