ताज़ा खबर
 

सानिया और हिंगिस बनी ऑस्‍ट्रेलियन ओपन की चैंपियन, लगातार तीसरा ग्रैंडस्‍लैम जीता

सानिया और हिंगिस अब साथ में लगातार 36 मैच जीत चुकी है और लगातार आठ खिताब अपनी झोली में डाले हैं।

Author मेलबर्न | Updated: January 29, 2016 5:52 PM
Sania Mirza, martina hingis, Sania Mirza Martina Hingis, Sania Hingis, Aus Open, Australian Open, Australian Open 2016, Aus Open Tennis, Tennis Aus Open, Tennis News, Tennis, सानिया मिर्जा, मार्टिना हिंगिस, ऑस्‍ट्रेलियन ओपनसानिया और हिंगिस ने 2015 में अमेरिकी ओपन से लेकर अब तक लगातार पांच खिताब जीते हैं। (Photo:AP)

सानिया मिर्जा और मार्टिना हिंगिस ने ऑस्ट्रेलियाई ओपन का महिला युगल खिताब जीत लिया है। सानिया और हिंगिस ने फाइनल में चेक गणराज्य की आंद्रिया लावाकोवा और लूसी राडेका को सीधे सेटों में हराया। शीर्ष वरीयता प्राप्त जोड़ी ने एक घंटे 45 मिनट तक चले मैच में सातवीं वरीयता प्राप्त चेक प्रतिद्वंद्वियों को 7-6, 6-3 से हराया। यह उनका लगातार तीसरा ग्रैंडस्लैम खिताब हैं। दोनों 2015 में विम्बलडन और अमेरिकी ओपन जीत चुकी हैं। सानिया और हिंगिस अब साथ में लगातार 36 मैच जीत चुकी है और लगातार आठ खिताब अपनी झोली में डाले हैं। उन्होंने 2015 में अमेरिकी ओपन से लेकर अब तक लगातार पांच खिताब जीते हैं।

सानिया का यह दूसरा ऑस्ट्रेलियाई ओपन खिताब है। इससे पहले वह 2009 में महेश भूपति के साथ मिश्रित युगल भी जीत चुकी है। दुनिया की नंबर एक जोड़ी के लिए फाइनल हालांकि आसान नहीं था और चेक टीम ने पहले सेट में बेहतरीन प्रदर्शन किया। दोनों टीमें सर्विस बरकरार रखने में नाकाम रही। आंद्रिया ने जहां बेसलाइन पर जबर्दस्त खेल दिखाया, वहीं लूसी ने कुछ जबर्दस्त विनर लगाए। पहले सेट में दोनों टीमें सिर्फ दो बार सर्विस बरकरार रख सकी। पहले सेट में हिंगिस के लगातार दो डबलफाल्ट से चेक टीम को शुरूआती ब्रेक मिला। हिंगिस 11वें गेम में सर्विस बरकरार रखने में कामयाब रही। सानिया और हिंगिस ने 6-5 की बढ़त बना ली थी। टाइब्रेक में सिर्फ एक अंक गंवाकर सानिया और हिंगिस ने पहला सेट जीता। दूसरे सेट में उन्होंने चेक टीम को दबाव बनाने का मौका ही नहीं दिया।

सानिया ने जीत के बाद कहा,‘मैं उन सभी को धन्यवाद देना चाहूंगी जिन्होंने हमारा समर्थन किया। मेरे लिए ऑस्ट्रेलियाई ओपन खास है क्योंकि यहां की खास यादें जुड़ी है। हमने पूरे साल अच्छा प्रदर्शन किया। मार्टिना शानदार चैम्पियन और इंसान है और उसके साथ खेलना मेरे लिये सम्मान की बात है।’ हिंगिस ने चेक टीम की तारीफ करते हुए कहा, ‘उन्होंने हमें कड़ी चुनौती दी। यह टूर्नामेंट कठिन था। हम अगले साल भी यहां खिताब जीतने की कोशिश करेंगे।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 उत्तर प्रदेश: विपक्ष की नारेबाजी के चलते राज्यपाल नहीं पढ़ पाये पूरा अभिभाषण
2 Railway ने बदले ऑनलाइन बुकिंग के नियम, 1 महीने में 6 से ज्‍यादा टिकट बुकिंग नहीं
3 मुजफ्फरनगर उपचुनाव: BJP के लिए मुसीबत बने शिवसेना-हिंदू महासभा
ये पढ़ा क्या?
X