ताज़ा खबर
 

एशियन गेम्स 2018 में इस रणनीति के साथ उतरीं थीं विनेश फोगाट, अब जीत लिया गोल्ड

Asian Games 2018 Medal Tally, Medal Table: विनेश ने कहा था कि वह अपने देश के लिए खेलती हैं। उन्होंने कहा, 'हम यहां रहते हैं, देश की मिट्टी से जुड़े हैं। मैं समझ सकती हूं कि हर किसी के लिए देश बहुत जरूरी है। हर किसी के पास देश के प्रति प्यार दिखाने का अपना तरीका है।'

Asian Games 2018 में गोल्ड जीतने वाली विनेश फोगट (फोटो सोर्स- ट्विटर/@Phogat_Vinesh)

18वें एशियाई खेलों के दूसरे दिन भारत की महिला पहलवान विनेश फोगाट ने 50 किलोग्राम भारवर्ग फ्रीस्टाइल स्पर्धा में गोल्ड जीत कर देश का परचम लहरा दिया है। उन्होंने 20 अगस्त को इस स्पर्धा के फाइनल में जापान की युकी इरी को 6-2 से मात देते हुए पहली बार एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक हासिल किया। इसके साथ ही वह एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान भी बन गईं। विनेश ने पिछले एशियाई खेलों में कांस्य जीता था और 18वें एशियाई खेलों में शानदार प्रदर्शन कर उन्होंने अपने पदक का रंग भी बदल लिया।

एशियन गेम्स में जाने से पहले विनेश फोगाट ने कहा था कि वह अपनी तरफ से अच्छा प्रदर्शन करने की पूरी कोशिश करेंगी। टीओआई को दिए एक इंटरव्यू में विनेश ने एशियन गेम्स को लेकर अपनी रणनीति पर बात की थी। उन्होंने ओलंपिक गेम्स और एशियन गेम्स पर बात करते हुए कहा था, ‘ओलंपिक पूरी तरह से अलग होता है। उससे किसी अन्य खेल की तुलना ही नहीं की जा सकती, लेकिन अब समय दूसरा है। मैं एशियन गेम्स में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दूंगी और फिर अच्छे नतीजों की उम्मीद करूंगी। यहां भी प्रतियोगी कठिन हैं, इसलिए मैं इसे एक मेरिट की तरह ट्रीट करूंगी और उम्मीद है कि मैं इसे ओलंपिक 2020 की रेस के लिए इस मौके का अच्छा इस्तेमाल कर सकूंगी।’

विनेश ने कहा था कि वह अपने देश के लिए खेलती हैं। उन्होंने कहा, ‘हम यहां रहते हैं, देश की मिट्टी से जुड़े हैं। मैं समझ सकती हूं कि हर किसी के लिए देश बहुत जरूरी है। हर किसी के पास देश के प्रति प्यार दिखाने का अपना तरीका है। हम एथलीट्स के लिए अच्छा प्रदर्शन ही देश के प्रति अपना प्यार दिखाने का एक तरीका है। हमारा फोकस हमेशा देश पर होता है और हम पूरी कोशिश करते हैं कि हम देश का प्रतिनिधित्व करने के लायक बनें। देश का झंडा पकड़ने और देश का प्रतिनिधित्व करने की फीलिंग बाकी सारी फीलिंग से अलग होती है। यह वह फीलिंग है, जो हमें एशियन गेम्स में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित कर रही है।’ हरियाणा की विनेश फोगाट ने पहलवानों के मामले में अपने राज्य की सफलता को लेकर भी बड़ी अहम बात कही है। उन्होंने कहा, ‘पिछले कुछ सालों में हरियाणा के पहलवानों का आत्मविश्वास काफी बढ़ा है। यहां हर एथलीट का फोकस ओलंपिक मेडल जीतने पर होता है। जब आपका लक्ष्य बड़ा होता है तो आप उसे पाने के लिए खुद को काफी पुश करते हैं।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App