ताज़ा खबर
 

महिला तैराकों के वीडियो उतारता था अर्जुन अवार्डी पैरा-स्विमर, 3 साल के लिए हुआ सस्‍पेंड

पैरा-स्विमर प्रशांत करमाकर को 3 साल के लिए बर्खास्त कर दिया है। दरअसल प्रशांत पिछले साल जयपुर में एक इवेंट के दौरान महिला तैराकों की वीडियो बनाते पकड़ा गया था। जिसके बाद प्रशांत के खिलाफ अनुशासनात्मक कारवाई की गई है।

प्रशांत पिछले साल जयपुर में एक इवेंट के दौरान महिला तैराकों की वीडियो बनाते पकड़ा गया था। जिसके बाद प्रशांत के खिलाफ अनुशासनात्मक कारवाई की गई है। (Image source- Youtube))

पैरालम्पिक कमेटी ऑफ इंडिया (PCI) ने पैरा-स्विमर प्रशांत करमाकर को 3 साल के लिए बर्खास्त कर दिया है। दरअसल प्रशांत पिछले साल जयपुर में एक इवेंट के दौरान महिला तैराकों की वीडियो बनाते पकड़ा गया था। जिसके बाद प्रशांत के खिलाफ अनुशासनात्मक कारवाई की गई है। पैरालम्पिक कमेटी ने कहा है कि प्रशांत करमाकर के खिलाफ दुराचार संबंधी एक लिखित शिकायत मिली थी। पैरालम्पिक कमेटी ने अपने बयान में बताया कि पिछले साल जयपुर में हुए एक तैराकी इवेंट के दौरान करमाकर ने अपने एक सहयोगी को कैमरा दिया और उसे महिला तैराकों की वीडियो बनाने को कहा। जब महिला तैराकों के परिजनों ने इस पर एतराज जताया तो डॉ. वी.के.डबास, जो कि पैरा स्विमिंग के चेयरमैन हैं, ने आरोपी व्यक्ति से पूछताछ की तो पता चला कि वह ये वीडियो प्रशांत करमाकर के कहने पर बना रहा था और यह कैमरा भी प्रशांत ने ही उसे दिया है।

इस घटना के कुछ दिन बाद फिर से ऐसा वाक्या हुआ। इस बार खुद करमाकर महिला तैराकों की वीडियो बनाते पकड़ा गया। इसके बाद तैराकों के परिजनों ने इस पर विरोध जताया और करमाकर से वीडियो डिलीट करने को कहा तो उसने इंकार कर दिया। जब पैरालम्पिक कमेटी के अधिकारियों ने करमाकर से वीडियो डिलीट करने को कहा तो करमाकर उल्टा अधिकारियों पर ही भड़क गया और उन्हें खुद के अर्जुन अवॉर्डी होने की धमकी दी। इस दौरान प्रशांत करमाकर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया, हालांकि करमाकर के वीडियो डिलीट करने के बाद उसे रिहा कर दिया गया।

अब पैरालम्पिक कमेटी ने प्रशांत करमाकर को 3 साल के लिए बर्खास्त करने का फैसला किया है। करमाकर 20-1-2018 से लेकर अगले 3 सालों तक पैरालम्पिक कमेटी द्वारा प्रायोजित किसी भी खेल स्पर्धा में भाग नहीं ले सकेगा। इसके साथ ही पैरालम्पिक कमेटी ने हरियाणा स्पोर्ट्स विभाग को भी करमाकर के खिलाफ कड़ी कारवाई करने की अनुशंसा की है। दरअसल करमाकर हरियाणा स्पोर्टस विभाग में ही नौकरी करता है। उल्लेखनीय है कि करमाकर को साल 2014 में भीम अवॉर्ड, 2015 में मेजर ध्यानचंद अवॉर्ड दिया जा चुका है। इसके साथ ही करमाकर साल 2009 और 2015 में स्विमर ऑफ द ईयर का अवॉर्ड भी जीत चुका है। अर्जुन अवॉर्डी यह खिलाड़ी अर्जेटीना में हुई वर्ल्ड स्विमिंग चैंम्पियनशिप में भी पदक विजेता है और साल 2016 में रियो पैरालम्पिक में गई स्विमिंग टीम को कोचिंग भी दे चुका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App