ताज़ा खबर
 

2007 टी20 वर्ल्ड कप में सानिया मिर्जा के पति शोएब मलिक को मालूम ही नहीं था बॉल-आउट, बोले- इरफान पठान

रॉबिन उथप्पा ने बताया कि तब हर अभ्यास सत्र से पहले टीम इंडिया वॉर्म-अप के बाद फुटबॉल या कोई और गेम खेलती थी। उसी दौरान वेंकटेश प्रसाद ने हमें फुटबॉल की बजाय बॉल-आउट खेलने का आइडिया दिया।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: August 14, 2020 7:35 PM
Shoaib Malik Sania Mirza Irfan Pathan2007 टी20 वर्ल्ड कप के ग्रुप स्टेज और फाइनल में भारत ने पाकिस्तान को हराया था।

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर इरफान पठान ने सानिया मिर्जा के पति शोएब मलिक की एक कमी उजागर की है। इरफान ने स्टॉर स्पोर्टस के एक कार्यक्रम में पहले टी20 वर्ल्ड कप की यादों को साझा किया। इस दौरान उन्होंने बताया, 2007 में खेले गए टी20 विश्वकप में पाकिस्तान के कप्तान को बॉल-आउट के बारे में कुछ जानकारी ही नहीं थी। पाकिस्तान के कप्तान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्वीकारा था कि उन्हें बॉल-आउट के बारे में पता नहीं था।

इरफान पठान ने बताया, ‘उन्हें यह तक नहीं पता था कि बॉल-आउट के दौरान गेंदबाजों को पूरा रन-अप लेना चाहिए या आधा। इसी वजह से ग्रुप स्टेज में जब हमारे खिलाफ मैच टाई हुआ, तो वे तैयार नहीं थे। हमने इसकी अच्छी से तैयारी की थी। तैयारी बेहतर होने के कारण हमें जीत मिली।’ बता दें कि 2007 टी20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान की कमान शोएब मलिक के हाथों में थी। भारत ने 2007 टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल में पाकिस्तान को 5 रन से हराया था।

इससे पहले दोनों टीमें ग्रुप स्टेज में भी आमने-सामने हुईं थीं। तब भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 9 विकेट के नुकसान पर 141 रन बनाए। उस मैच में रॉबिन उथप्पा ने अर्धशतक लगाया था। लक्ष्य का पीछा करते हुए पाकिस्तान भी 20 ओवर में 7 विकेट पर 141 रन ही बना पाया। पाकिस्तान ने शुरुआत में तेजी से विकेट गंवाए थे, लेकिन फिर निचले क्रम में मिस्बाह-उल-हक ने 53 रन की पारी खेली थी, जिससे स्कोर लेवल हो गया था। हालांकि, बाद में बॉल-आउट में भारत ने पाकिस्तान को हरा दिया।

इसी कार्यक्रम में रॉबिन उथप्पा ने बताया, ‘तब हर अभ्यास सत्र से पहले टीम इंडिया वॉर्म-अप के बाद फुटबॉल या कोई और गेम खेलती थी। उसी दौरान वेंकटेश प्रसाद ने हमें फुटबॉल की बजाय बॉल-आउट खेलने का आइडिया दिया। हम उसकी काफी प्रैक्टिस करते थे। जब पाकिस्तान के खिलाफ मैच टाई हुआ, तो हम बहुत उत्साहित थे। हमें इस बात की खुशी थी कि हम मैच हारते-हारते टाई कराने में कामयाब रहे। बॉल-आउट में हमारे पास मौका था और हमार वर्ल्ड कप जीत की राह प्रशस्त हुई।’

उथप्पा ने कहा, ‘इस जीत का श्रेय मुझे महेंद्र सिंह धोनी को देना होगा। अपने पहले वर्ल्ड कप में टीम की कमान संभाल रहे धोनी ने गजब का आत्मविश्वास दिखाया। टीम का एक साथी जो कि रेगुलर गेंदबाज नहीं था, धोनी के पास गया और कहा कि उसे गेंदबाजी करनी है। वह स्टंप्स को हिट कर सकता है। धोनी ने बिना वक्त गंवाए उसे गेंद फेंकने की मंजूरी दे दी और नतीजा सबके सामने है। श्रीसंत ने वास्तव में अच्छी गेंदबाजी की और मैच टाई हो गया था।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 डोप टेस्ट में फेल एथलीट काट रहा ‘मलाई,’ एशियन गोल्ड मेडलिस्ट स्वप्ना बर्मन से छीनी गई टॉप्स सुविधा
2 माइकल जॉर्डन के जूतों ने बनाया फिर रिकॉर्ड, 4.60 करोड़ में बिके 35 साल पुराने स्नीकर्स
3 बारिश और खराब रोशनी दूसरे दिन भी बनी बाधा, सिर्फ 40.2 ओवर का ही हो पाया खेल
ये पढ़ा क्या?
X