ताज़ा खबर
 

5 महत्वपूर्ण चीजें जो आप कभी ना करें नौकरी छोड़ते वक्त

कई लोग अपनी नौकरी से खुश नहीं होते और उसे छोड़ना चाहते हैं। अगर आप भी उन लोगों में से एक हैं तो आपके लिए ये बातें जानना बेहद जरूरी है।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर। (Source: Agency)

नौकरी छोड़ना कोई मामूली बात नहीं होती। कई लोग अपनी नौकरी से खुश नहीं होते और उसे छोड़ना चाहते हैं। अगर आप भी उन लोगों में से एक हैं तो आपके लिए कई बातें जानना बेहद जरूरी है। नौकरी मिलना आसान नहीं होता और ऐसे में उसे छोड़ने का फैसला जल्दबाजी में लेना गलत साबित हो सकता है। कभी नौकरी छोड़ने में जल्दबाजी न करें। बिना प्लानिंग के नौकरी छोड़ने का फैसला कभी न लें। हम आपको बताएंगे 5 ऐसी जरूरी बातें जो नौकरी छोड़ते समय आपको हमेशा ध्यान में रखनी चाहिए।

इस्तीफा- कभी भी नौकरी छोड़ने से पहले अपने मैनेजर से पहले बात करें और उसके बाद इस्तीफा भेजें। हो सकता है मैनेजर आपकी बात सुने और आपकी समस्या का समाधान करने की कोशिश करे। बात करने से बात बन सकती है। ऐसे में कभी भी सीधे इस्तीफा न भेजें। मैनेजर से डिस्कस करें। कई बार ऐसा भी होता की ऑफिस के माहोल से तंग आ कर हम सीधे इस्तीफा दे डालते हैं। ऐसा न करें। वहीं अगर इस्तीफा देने का इरादा कर लिया है तो तरीके से इस्तीफा दें। इस्तीफे में ऐसी कोई बात न लिखें जिससे गलत मैसेज जाए। साथ ही कंपनी के नोटिस पीरियड को भी पूरा करें। ऐसा नहीं करने पर कंपनी आपका एनओसी या रिलीज लेटर रोक सकती है जिससे आगे नौकरी मिलने में परेशानी हो सकती है।

फ्यूचर प्लानिंग- नौकरी छोड़ने से पहले सही प्लानिंग कर लें। अपने भविष्य के बारे में सोचें। नौकरी बदलने से पहले दूसरी नौकरी ढूंढ लें और उसका पुख्ता इंतजाम करें। दूसरी कंपनी से ऑफर लेटर लिए बिना इस्तीफा कभी न दें। हमेशा ऑफर लेटर कुबूल करने के बाद ही इस्तीफा दें। जल्दबाजी में कोई कदम न उठाएं।

कंपनी का सामान- ज्यादातर कंपनियां अपने कर्मचारियों को काम के लिए लैपटॉप, टैबलेट, मोबाइल फोन और अन्य कई सामान उपलब्ध कराती हैं। ये सब चीजें आपके नाम पर इश्यू होती हैं और निश्चित तौर पर आपको इसे वापस करना होता है। ऐसे में जो चीज आपकी नहीं है उसे ले जाने की कोशिश न करें। इससे आपकी खराब छवि तो बनेगी ही, साथ ही एनओसी मिलने में भी दिक्कत आ सकती है। इसके अलावा कुछ कंपनियां ऐसे मामलों में कानूनी कार्रवाई तक करने के लिए तौयार रहती हैं और हो सकता है आपको कोर्ट के चक्कर काटने पड़ जाएं। नौकरी छोड़ते वक्त कंपनी की चीजों को लौटा कर जाएं।

अच्छी छवि- हमेशा प्रोफेशनल बनें। पर्सनल डिफरेंसिस को दफ्तर में ना घसीटें। इसके लिए आपको अपनी अच्छी छवि बनाने की जरूरत है। नौकरी छोड़ते वक्त भी अपनी छवि को नकारात्मक न होने दें। हो सकता है आपको दोबारा उस कंपनी में नौकरी करनी पड़े। नकारात्मक छवि बनने से कंपनी के दरवाजे आपके लिए हमेशा के लिए बंद हो सकते हैं। नकारात्मक छवि न बने इसके लिए सभी से अच्छे से बातचीत करें और अच्छे से पेश आएं। काम भी पहले की तरह करते रहें। नोटिस पीरियड में भी अपना बेस्ट दें। इसके अलावा नौकरी छोड़ने के बाद कोशिश करें कि पुराने साथियों से आपका संपर्क बना रहे।

बॉस से बनाएं रखें कॉन्टैक्ट- कई कंपनियां नए कर्माचारी की भर्ती से पहले उसका फीडबैक पुरानी कंपनी से लेती है। इस काम में आपके पुराने बॉस की अहम भूमिका होती है। सिर्फ इतना ही नहीं, नई कंपनी में आपके पुराने बॉस की रेकमेंडेशन काम आ सकती है। इसलिए हमेशा ध्यान रखें की नौकरी करते वक्त और छोड़ते वक्त भी बॉस से रिलेशन खराब न हो। नौकरी छोड़ते वक्त पुरानी कंपनी के बॉस से कभी भी संपर्क में रहें। यह आपकी करियर ग्रोथ में काफी मदद कर सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App