ताज़ा खबर
 

तीन सालों में सबसे ज्यादा जॉब देने जा रही TCS, कैम्पस से चुनेगी 28,000 युवा

टीसीएस ने कहा है कि वह करीब 28,000 आवेदकों को नौकरी की पेशकश करेगी, जिनका चयन नेशनल क्वालिफायर टेस्ट के जरिए होगा। ये टेस्ट टीसीएस ने पहली बार शुरू किया है।

टीसीएस डिजिटल स्किल वाले उम्मीदवारों को डबल सैलरी दे रही है। (Photo: www.tcs.com)

भारतीय कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विस इस बार पिछले साल के मुकाबले 40 फीसदी ज्यादा नए इंजीनियर स्नातकों को नौकरी की पेशकश कर सकती है। प्रमुख क्षेत्रों में मजबूत मांग को देखते हुए कंपनी ऐसा करने जा रही है। डेक्कन हेराल्ड में प्रकाशित खबर के मुताबिक, टीसीएस ने कहा है कि वह करीब 28,000 आवेदकों को नौकरी की पेशकश करेगी, जिनका चयन नेशनल क्वालिफायर टेस्ट के जरिए होगा। ये टेस्ट टीसीएस ने पहली बार शुरू किया है। पिछले साल कंपनी ने करीब 20,000 नई नौकरियों की पेशकश की थी। ये चयन कैंपस में साक्षात्कार के जरिए किए गए थे। हालांकि साल 2016 और 2015 में कंपनी ने क्रमश: 35,000 और 40,000 नवोदितों को नौकरी की पेशकश की थी।

कंपनी ने कहा कि उम्मीदवारों के चयन के लिए राष्ट्रीय स्तर पर परीक्षा आयोजित किए जाने से चयन प्रक्रिया को लोकतांत्रिक बनाए जाने में मदद मिलेगी। इसके जरिए देश भर की अग्रणी प्रतिभाओं तक पहुंच बनाना आसान होगा।

टीसीएस ने कहा कि उदाहरण के लिए 1,800 इंजीनियरिंग कॉलेज के करीब 2.70 लाख छात्रों ने परीक्षा में हिस्सा लिया। इसके बाद परीक्षा में उनके अंकों के आधार पर करीब 50,000 लोगों को साक्षात्कार के लिए चुना गया। इस तरह से कुल मिलाकर 25,000 से 28,000 लोगों के नाम छांटे गए और इसमें से 1,000 अग्रणी छात्रों को फ्रेशर्स के मुकाबले दोगुने वेतन की पेशकश की गई। पिछले मॉडल में टीसीएस 400 चुनिंदा कॉलेजों से कैंपस साक्षात्कार के जरिए फ्रेशर्स की नियुक्ति करती थी।

कंपनी के मुख्य परिचालन अधिकारी एन गणपति सुब्रमण्यम ने कहा, वास्तव में पहले हम करीब 300-400 कॉलेजों से ही नियुक्ति कर रहे थे यानी हम देश की अग्रणी प्रतिभा गंवा रहे थे। अब हम देश के पूर्वोत्तर राज्यों और देश के दूरदराज कॉलेजों में पहुंचकर भी ऐसी प्रतिभाओं की पहचान कर सकते हैं। सामान्य तौर पर ज्यादातर फ्रेशर्स वित्त वर्ष की पहली दो तिमाही में नौकरी जॉइन करते हैं। प्रबंधन ने कहा कि वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में कुल 10,227 नौकरियों में प्रशिक्षुओं की संख्या करीब आधी रही।

सुब्रमण्यम ने कहा कि जांच परीक्षा का ढांचा ऐसा बनाया गया है कि कंपनी उम्मीदवार की ताकत व कमजोरियों का आकलन कर पाए और फीडबैक के आधार पर उसे दोबारा परीक्षा देने की पेशकश कर सके और विशिष्ट प्रतिभा हो तो उसे प्रशिक्षण की पेशकश की जा सके। टीसीएस की डिजिटल परीक्षा में पास करने वालों को कंपनी सालाना करीब 7 लाख रुपये का पैकेज दे रही है, जो फ्रेशर्स के 3.5 लाख रुपये के मुकाबले दोगुनी है। सुब्रमण्यम ने कहा कि टीसीएस ने अपनी विपणन टीम को पिछले कुछ सालों में दोबारा ट्रेनिंग दी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App