ताज़ा खबर
 

इस सेक्‍टर में 2017 में मिलेंगी 20 लाख नौकरियां

हाल ही में एक रिपोर्ट में सामने आया है कि नए सर्विस प्रोवाइडर आने और डेटा पेनेटरेशन बढ़ने की वजह से टेलीकॉम क्षेत्र में नौकरी की बहार आने वाली है।

रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि इंफ्रास्टक्चर में 2020-21 तक 92 हजार नौकरियां और 2021 तक अन्य 8 लाख नौकरियां आने के आसार हैं।

नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर है। टेलीकॉम सेक्टर में इस साल करीब 20 लाख नौकरियां आने वाली है। हाल ही में एक रिपोर्ट में सामने आया है कि नए सर्विस प्रोवाइडर आने और डेटा पेनेटरेशन बढ़ने की वजह से टेलीकॉम क्षेत्र में नौकरी की बहार आने वाली है। रिपोर्ट के अनुसार नए प्रोवाइडर आने और मेक इन इंडिया जैसी सरकारी योजनाएं और सरकारी पहल होने की वजह से इस क्षेत्र में अच्छा उछाल आने वाला है। इस क्षेत्र में आने वाले इस उछाल की वजह से कई लोगों की नौकरी मिलेगी। इसमें करीब 10 लाख 76 हजार हेंडसेट बनाने वाले कंपनियां देंगी जबकि 37 हजार भर्तियां सर्विस प्रोवाइडर कंपनियों में होंगी। यह रिपोर्ट टेलीकॉम सेक्टर स्किल काउंसिल के साथ टीम लीज ने प्रस्तुत की है।

वहीं रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि इंफ्रास्टक्चर में 2020-21 तक 92 हजार नौकरियां और 2021 तक अन्य 8 लाख नौकरियां आने के आसार हैं। टीम लीज सर्विसेज के वरिष्ठ उपाध्यक्ष नीति शर्मा ने कहा कि उपभोक्ताओं को सुविधा देने, हैंडसेट की कीमतें घटाने और नेटवर्क में सुधार करने, नोटबंदी और डिजिटल वॉलेट की वजह से भी इस क्षेत्र में उछाल आएगा और नौकरी के कई अवसर पैदा होंगे। बता दें कि इस सेक्टर में नौकरी पाने के लिए आईओटी, मोबिलिटी सोल्यूशन, टेलीकॉम इंफ्रास्ट्रक्चर, सेल्स आदि की जानकारी होनी चाहिए।

टाइम्स की ओर से करवाए एक सर्वे के अनुसार आईटी में 25 फीसदी नौकरियां मिल सकती है। डिजिटाइजेशन की वजह से आईटी क्षेत्र पिछली साल की तुलना में ज्यादा ग्रोथ कर सकता है और इस क्षेत्र में नौकरियां बढ़ेगी। वहीं सेल्स क्षेत्र में करीब 20 फीसदी नौकरियां बढ़ सकती है और रिसर्च एंड डवलपेंट क्षेत्र में 20 फीसदी नौकरियों के ज्यादा अवसर पैदा हो सकते हैं। वहीं अन्य क्षेत्रों की बात करें तो मार्केटिंग और एडवरटाइजिंग क्षेत्र में 15 फीसदी, एडमिनिस्ट्रेशन में 10 फीसदी, एचआर में 5 फीसदी और फाइनेंस में 5 फीसदी नौकरियों में ग्रोथ हो सकती है।

कानपुर रेल हादसे ISI के इशारे पर हुए थे; रेल पटरी उड़ाने के लिए दिए गए थे 3 लाख रुपये

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App