ताज़ा खबर
 

ज्‍यादा कमाना चाहते हैं तो आईटी नहीं, बल्कि इस फील्‍ड में करें जॉब

डाटा एनालिस्ट फ्रेशर लेवल पर औसत सैलरी सात लाख रुपए वार्षिक पा रहा है, जबकि सॉफ्टवेयर इंजीनियर केवल 3.2 लाख रुपए का सालाना पैकेज पा रहा है।

डाटा एनालिस्ट फ्रेशर लेवल पर मिलने वाली सालाना सैलरी का आंकड़ा दस लाख से ऊपर भी जा सकता है। (Representative Image: Thinkstock)

अगर आप ज्यादा सैलरी के लिए आईटी फिल्ड में जाना चाहते हैं तो आपकी च्वाइस गलत है। आप आईटी की बजाय डाटा एनालिसिस फिल्ड में जाकर भी ज्यादा सैलरी पा सकते हैं। एक सर्वे में सामने आया है कि सॉफ्टवेयर इंजीनियर की बजाय डाटा एनालिस्ट ज्यादा सैलरी पा रहे हैं। रिपोर्ट में बताया गया है कि एक डाटा एनालिस्ट फ्रेशर लेवल पर औसत सैलरी सात लाख रुपए वार्षिक पा रहा है, जबकि सॉफ्टवेयर इंजीनियर केवल 3.2 लाख रुपए का सालाना पैकेज पा रहा है। यह आंकड़ा दस लाख से ऊपर भी जा सकता है। यह आपकी जॉब प्रोफाइल और मिलने वाले भत्तों पर निर्भर करता है। यह रिपोर्ट कोक्‍यूबस टेक्‍नॉलॉजिज द्वारा जारी की गई है।

Read Also: Google CEO सुंदर पिचाई की सैलरी सुन हो जाएंगे आप हैरान

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘डाटा एनालिस्ट सॉफ्टवेयर इंजीनियर से ज्यादा कमा रहा है। यह इस ओर इशारा करता है डिमांड और सप्लाई में काफी फासला है। कंपनियां टियर-1 कॉलेजों की बजाय टियर-2 और टियर-3 कॉलेज से डाटा एनालिस्ट हायर करते हैं। इसके पीछे वजह है कि कंपनियां चाहती हैं कि फ्रेशर उनके साथ लंबे समय तक काम करें। कुछ कंपनियां अपने ऑफिस में मौजूद लोगों को ही ट्रेनिंग देकर डाटा एनालिसिस का काम करवा रही हैं।

Read Also: 20 पेज का रिज्यूमे देख लंदन की कंपनी ने बिना इंटरव्यू दे दी नौकरी

रिपोर्ट के मुताबिक डाटा एनालिसिस में ज्यादा नोलेज और क्लाइंट से संवाद जैसी स्कील्स नहीं चाहिए। इसमें केवल आपको डाटा मैनेजमेंट करना होता है।

जॉब्स से संबंधित अन्य खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App