90 lakh jobs to generate in Food processing sector - Jansatta
ताज़ा खबर
 

यहां आने वाली है नौकरी की बहार, 90 लाख लोगों को मिलेगा रोजगार!

भारतीय फूड प्रोसेसिंग सेक्टर में 33 अरब डॉलर का निवेश होने की संभावना है, जिससे यह क्षेत्र 2024 तक 90 लाख लोगों को रोजगार प्रदान कर सकता है।

भारत में 2024 तक फूड प्रोसेसिंग सेक्टर में 90 लाख लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है।

नौकरी पाने की कोशिश कर रहे बेरोजगार युवाओं के लिए अच्छी खबर है। इन युवाओं के लिए साल 2024 तक रोजगार के कई अवसर खुल सकते हैं। दरअसल भारतीय फूड प्रोसेसिंग सेक्टर में 33 अरब डॉलर का निवेश होने की संभावना है, जिससे यह क्षेत्र 2024 तक 90 लाख लोगों को रोजगार प्रदान कर सकता है। उद्योग संगठन एसोचैम ने एक रिसर्च के आधार पर यह जानकारी दी है। ‘फूड रिटेल इन्वेस्टमेंट इंफ्रास्ट्रक्चर’ पर एसोचैम-ग्रांट थॉर्नटन की संयुक्त रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 2024 तक फूड प्रोसेसिंग सेक्टर में 90 लाख लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है और राज्यों में प्रत्यक्ष तौर पर 8,000 और अप्रत्यक्ष तौर पर 80,000 रोजगारों के सृजन होने की संभावना है।

इस रिसर्च के अनुसार अनुमानित तौर पर 121 से 130 अरब डॉलर मूल्य का भारत का फूड प्रोसेसिंग उद्योग वैश्विक स्तर पर दूध, दाल, गन्ना और चाय का सबसे बड़ा उत्पादक है और गेहूं, फल व सब्जियों का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है। एसोसिएटेड चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया ने कहा कि केला, अमरूद, अदरक, पपीता इत्यादि के उत्पादन में भारत शीर्ष बाजारों में से एक है, हालांकि देश में प्रसंस्करण का स्तर सीमित है। यह खाद्य प्रसंस्करण उद्योग में व्यापक अवसरों की ओर संकेत करता है। बता दें कि भारत चीन के बाद फूड प्रोसेसिंग में दुनिया का दूसरा बड़ा देश है और भारत के पास फूड प्रोसेसिंग के लिए सबसे ज्यादा रॉ फूड है।

वहीं अगले साल तक केंद्र सरकार में करीब 2.83 लाख नौकरियां पैदा होने का अनुमान है। वित्त मंत्री अरूण जेटली की ओर से पेश किए गए आम बजट के अनुसार साल 2018 में केंद्र सरकार के कर्मचारियों की संख्या 35.67 लाख होने का अनुमान है जो 2016 की 32.84 लाख संख्या के मुकाबले 2.83 लाख अधिक है। सरकार की योजना के अनुसार गृह मंत्रालय 2018 में अपने कर्मचारियों की संख्या 6,076 बढ़ाकर 24,778 करेगा। अगले साल तक पुलिस विभागों में करीब 1.06 लाख भर्तियां की जाएंगी ताकि इनकी संख्या को बढ़ाकर 11,13,689 तक पहुंचाया जा सके। दस्तावेज के अनुसार विदेश मंत्रालय भी अपने कार्यबल में 2109 लोगों की बढ़ोतरी कर सकता है। साल 2016 के आंकड़ों के मुताबिक यह संख्या अभी 9,294 है।

(एजेंसी इनपुट के साथ)

IPL 2017: ये 5 रहे सबसे महंगे, इन 5 को नहीं मिला खरीदार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App