ताज़ा खबर
 

7th Pay Commission: “सरकार टीचर्स की सैलरी बढ़ाने से नहीं रोक रही”

7th Pay Commission: लगभग 150 स्कूलों में पर्याप्त राशि थी और उन्हें फीस बढ़ोतरी के लिए अनुमति नहीं दी गई। शेष आवेदन प्रक्रिया के तहत हैं।

7th Pay Commission: जिन स्कूलों में अधिशेष निधि थी और जो शिक्षकों के वेतन में बढ़ोतरी के बोझ को पूरा कर सकते थे, उन्हें किसी भी फीस बढ़ाने की अनुमति नहीं थी।

निजी स्कूलों और दिल्ली सरकार के बीच फीस बढ़ाने को लेकर चल रही खींचतान तेज हो गई है, दिल्ली  उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि फीस बढ़ोतरी का सातवें वेतन आयोग के अनुसार शिक्षकों की बढ़ने वाली सैलरी से कोई लेना-देना नहीं है। दिल्ली उच्च न्यायालय ने भी सोमवार तक किसी भी फीस बढ़ोतरी पर अंतरिम रोक लगा रखी है। इससे पहले, एक एकल न्यायाधीश के आदेश ने स्कूलों को फीस बढ़ाने की अनुमति दी थी, जबकि उनके खातों का सरकार द्वारा ऑडिट किया जा रहा था। दिल्ली की उप मुख्यमंत्री ने कहा कि “सातवें वेतन आयोग के अनुसार, दिल्ली सरकार स्कूलों को उच्च वेतन देने की अनुमति नहीं दे रही है। यह गलत है।”

2016 में, सरकार द्वारा रियायती दरों पर उन्हें दी गई जमीन पर बनाए गए स्कूलों को मौजूदा प्रावधानों के अनुसार फीस बढ़ोतरी से पहले सरकार से अनुमति लेने के लिए कहा गया था। रिकॉर्ड बताते हैं कि 325 स्कूलों में से 260 ने आवेदन किया था। इनमें से 32 ने अपने आवेदन वापस ले लिए। सरकार ने तब स्कूलों के खातों थर्ड पार्टी से ऑडिट का आदेश दिया। जिन स्कूलों में अधिशेष निधि थी और जो शिक्षकों के वेतन में बढ़ोतरी के बोझ को पूरा कर सकते थे, उन्हें किसी भी शुल्क वृद्धि की अनुमति नहीं थी।

दिल्ली सरकार द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है, लगभग 150 स्कूलों में पर्याप्त राशि थी और उन्हें फीस बढ़ोतरी के लिए अनुमति नहीं दी गई। शेष आवेदन प्रक्रिया के तहत हैं। दिल्ली सरकार के नियमों के अनुसार, सरकारी जमीन पर बने निजी स्कूल इसकी मंजूरी के बिना फीस बढ़ोतरी नहीं कर सकते। अन्य सभी निजी स्कूलों को फीस बढ़ाने की अनुमति मांगनी होगी यदि वे इसे मिड-सेशन करते हैं।

सिसोदिया ने कहा कि “इस प्रतिबंध के पीछे दो कारण हैं। पहला ये कि स्कूल डीडीए द्वारा आवंटित भूमि पर बने हैं और इसलिए कुछ सामाजिक दायित्वों को वहन करते हैं। दूसरी बात, सरकार हायर फी स्ट्रक्चर के कारण पेरंट और स्टूडेंट्स के शोषण के खिलाफ है। भूमि के कानून के अनुसार, शिक्षण संस्थानों को लाभदायक संस्थाओं में परिवर्तित करना अवैध है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App