ताज़ा खबर
 

सच में, यहां शख्स के मरने के बाद उसकी अस्थियां सूप में मिला कर पीते हैं लोग

हिंदुओं में मरने वाले/वाली की अस्थियां पवित्र नदियों में प्रवाहित की जाती हैं। जब कि इस जनजाति में...

समय के पहिए संग जिंदगी और मौत भी चलती रहती है। उनसे जुड़ी परंपराएं आज भी आजमाई जा रही हैं। उन्हीं में एक अटपटी और अनोखी परंपरा है। इसमें मरने वाले की अस्थियां लोग सूप में मिला कर पीते हैं। मानते हैं कि ऐसा करने से उसकी आत्मा को शांति मिलेगी।

वेनेजुएला और ब्राजील में यानोमामी नाम की जनजाति पाई जाती है। यहां इसे ‘यनम’, ‘यानोमानो’ और ‘सेनेमा’ नाम से भी जाना जाता है। दक्षिण वेनेजुएला में इनकी आबादी तकरीबन 10 हजार है। जबि उत्तरी पश्चिमी ब्राजील में इनकी संख्या करीब नौ हजार है।

हिंदुओं में मरने वाले/वाली की अस्थियां पवित्र नदियों में प्रवाहित की जाती हैं। जब कि इस जनजाति में मरने वालों की अस्थियां सहेज कर रखी जाती हैं। फिर एक प्रथा के तहत नाच-गाना होता है। वे चेहरों और शरीर पर कालिख पोतते हैं। उसके बाद ये लोग अस्थियां एक खास किस्म के सूप में मिलाकर पीते हैं।

आप सोच रहे होंगे कि अस्थियां सूप में मिलाकर पीने का क्या तुक है। दरअसल, यहां मान्यता है कि ऐसा करने से मरने वाले की आत्मा हमेशा उनके साथ बनी रहेगी। हर किसी को दफ्नाया जाना चाहिए, क्योंकि यानोमामी मानते हैं कि लाश अगर गलने और सड़ने वाली हालत में छोड़ दी जाए, तो वह भयावह हो सकती है।

यही नहीं, अगर आत्मा को उस शरीर में ठीक जगह नहीं मिलती, तो वह भटकती रहती है और नाखुश रहती है। मौत के बाद जल्द से जल्द अंतिम संस्कार किया जाता है, ताकि वह बाकी लोगों को आकर परेशान न करे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App