ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान में इस जगह, 90 साल की उम्र तक पिता बनते हैं 165 साल तक जिंदा रहने वाले लोग, यूं सबके सामने आया सच

हुंजा घाटी में इनकी पॉपुलेशन करीब 87 हजार ही है। ये लोग शून्य के भी नीचे के तापमान पर बर्फ के ठंडे पानी में नहाते हैं।
कहते हैं कि यहां रहने वाले कुछ लोग तो 165 साल तक भी जि़न्दा हैं।(फोटो सोर्स- यूट्यूब)

दुनिया में कई ऐसी चीजें हैं जिन पर विश्वास करना भी मुश्किल होता है। क्या आप विश्वास कर सकते हैं कि कोई 65 साल की उम्र में भी 30 साल का दिख सकता है। यहां एक नहीं बल्कि कई लोग ऐसे हैं जो 65 की उम्र में भी जवान नजर आते हैं, माना जाता है कि यहां के लोग 165 साल की उम्र तक भी जिंदा रहते हैं, यकीन करना मुश्किल है लेकिन ये सच है।

उत्तरी पाकिस्तान के अधिकृत कश्मीर के पहाड़ी इलाके गिलगित-बल्टिस्तान में रहने वाले लोग औसतन 120 से 130 साल तक जिंदा रहते हैं। जिसकी वजह है इनकी जीवनशैली और खानपान। भारत-पाकिस्तान सीमा के पास बसे इस गांव में हुंजा समुदाय के लोग रहते हैं। इस जगह को शुमाली के नाम से भी जाना जाता है।

यहां के पुरुष 90 की उम्र तक पिता बनते हैं। हुंजा कम्युनिटी के लोग फिजिकली और मेंटली बहुत स्ट्रॉन्ग होते हैं। ये लोग सुबह 5 बजे उठ जाते हैं और रोजाना 15-20 किलोमीटर पैदल चलते हैं उनकी लाइफस्टाइल ही इनके लंबे जीवन का रहस्य है। साथ ही इनके खान-पान में सबसे ज्यादा सूखे मेवे, स्थानीय फल, सब्जियां, बाजरा, जौ आदि शामिल होता है इसके साथ ही ये लोग खूब मात्रा में खूबानी खाते हैं जिससे इनके शरीर को प्रचुर मात्रा में विटामिन बी-17 मिलता है। यह विटामिन कैंसर जैसी बीमारियों से इन्हें बचाता है।

इस समुदाय के लोगों को बुरुशो भी कहते हैं। इनकी भाषा बुरुशास्की है। कहा जाता है कि ये कम्युनिटी अलेक्जेंटडर द ग्रेट की सेना के वंशज हैं, जो चौथी सदी में यहां आए थे। ये कम्युनिटी पूरी तरह मुस्लिम है। ये समुदाय पाकिस्तान के बाकी समुदायों से कहीं ज्यादा शिक्षित है। हुंजा घाटी में इनकी पॉपुलेशन करीब 87 हजार ही है।

कुछ लोग इन लोगों को किसी यूरोपीय नस्ल से जोड़ते हैं। वास्तव में यहां के लोग गोरे-चिट्टे, जवान, हंसमुख और आसपास की आबादी के बिल्कुल अलग दिखते हैं.

आपको जानकर हैरानी होगी कि हुंजा समुदाय की औरतें को 65 साल तक मासिक धर्म होता हैं। वे इस उम्र तक बच्चों को भी जन्म देती हैं। इन लोगों की खूबसूरती भी देखने लायक होती है। ये लोग इतने सुंदर दिखाई देते हैं जैसे ये इस धरती के नहीं, बल्कि आसमान से आए कोई देवता या अप्सरा हों।

कहते हैं कि यहां रहने वाले कुछ लोग तो 165 साल तक भी जि़न्दा हैं। इन लोगों ने तो ट्यूमर जैसी बीमारी का नाम तक नहीं सुना। हुंजा के लोग शून्य के भी नीचे के तापमान पर बर्फ के ठंडे पानी में नहाते हैं। ये लोग वही खाना खाते हैं जो ये खुद उगाते हैं साथ ही साथ हंसना भी इनकी जीवनशैली में शामिल होता है। इनकी सेहत राज इनकी जीवनशैली में ही छुपा है। ये लोग

हुंजा समुदाय के लोगों के बारे में कैसे पता चला ये वाकया भी बड़ा दिलचस्प है, जब सन् 1984 में हुंजा कम्युनिटी के अब्दुल म्बुंदु लंदन एयरपोर्ट पर सिक्यूरिटी चेक करवाने पहुंचे तो ऑफिसर्स उनका बर्थ इयर 1832 देखकर हैरान रह गए। उन्होंने कई बार उनकी उम्र क्रॉसचेक की। इसके बाद से ही हुंजा लोगों का किस्सा मशहूर हो गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.