ताज़ा खबर
 

पीरियड्स के दौरान ये 5 गलतियां भूलकर भी न करें महिलाएं

पीरियड्स के दौरान महिलाओं के शरीर में कई तरह के हॉर्मोनल बदलाव होते हैं। इस दौरान महिलाओं को अपनी शारीरिक और मानसिक स्थिति पर विचार करते हुए कुछ कामों से दूर रहना चाहिए।
पीरियड के दौरान कुछ सावधानियां बरतना जरूरी होता है।

पीरियड्स के दौरान महीने के वो दिन हर औरत के लिए अलग होते हैं। कुछ महिलाओं को इन दिनों में तेज दर्द सहना पड़ता है तो कुछ के लिए ये सामान्य होता है। लेकिन लगभग हर औरत पीरियड्स के दौरान बेचैन रहती है।

पीरियड्स के दौरान महिलाओं के शरीर में कई तरह के हॉर्मोनल बदलाव होते हैं। इस दौरान महिलाओं को अपनी शारीरिक और मानसिक स्थिति पर विचार करते हुए कुछ कामों से दूर रहना चाहिए। पीरियड के दौरान चिड़चिड़ाहट महसूस होता है। पीरियड के दौरान कुछ सावधानियां बरतना जरूरी होता है। आइए जानते हैं ऐसी ही कुछ जरूरी बातें-

1. थ्रेडिंग या वैक्सिंग करवाना- मासिक धर्म के दौरान त्वचा नाजुक हो जाती है। इसलिए, कोई तीखी क्रीम नहीं लगाना चाहिए। पीरियड के दौरान थ्रेडिंग या फेशियल नहीं कराना चाहिए। इस समय संक्रमण, और त्वचा में सूजन की आशंका अधिक होती है। कई महिलाओं की त्वचा लाल हो जाती है, इसलिए उनको सावधान रहने की जरूरत होती है।

2. बाहर निकलना- इस समय के दौरान, दबाव और चिड़चिड़ाहट आम बात होती है। कोशिश करें कि घर पर ही रहे। इस समय उन चीजों को पढ़े जो आपको पसंद है। जिन महिलाएं को BP की समस्या होती है, इस समय में उनका BP बढ़ सकता है। ऐसे समय में स्वीमिंग नहीं करनी चाहिए।

3.योगा और व्यायाम- मासिक धर्म के दौरान योगा, व्यायाम या दौड़ना नहीं चाहिए। लेकिन फिर भी कई महिलाएं यह क्रियाकलाप करती है। लेकिन ऐसा करने से ब्लीडिंग की समस्या ज्यादा होती है। इससे पेट का दर्द भी बढ़ता है। ऐसे समय में ज्यादा से ज्यादा आराम करना चाहिए।

4. पर्सनल हाइजीन को ध्यान में न रखना- अपने सेनेटरी नेपकिन को हर पांच घंटे में बदलें। निजी स्वच्छता भी अनिवार्य है। एक दिन में दो बार नहाएं। केवल धुले हुए कपड़े ही पहनें। इस दौरान अधिक से अधिक पानी पिएं। फल, मछली, मेवे, बाजरा का सेवन न करें। खाना बनाने के लिए जैतून का तेल प्रयोग करें।

5. बहुत तंग कपड़े पहनना – पीरियड्स के दौरान बहुत तंग कपड़े पहनना सही नहीं है। इन दिनों ऐसे कपड़े पहनें जिन्हें पहनकर आप आराम महसूस करें। वरना चिड़चिड़ापन होने की आशंका बढ़ जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.