ताज़ा खबर
 

50 हजार रुपये में मिल रही है ‘पलंग तोड़’ खटिया, ये है खासियत

गांव में ज्यादा पैसा ना मिलने की वजह से चारपाई बनाने वाले इसे शहरों में बेचना ज्यादा सही समझते हैं।
उठाने में हल्की लंबे समय तक साथ देने वाली चारपाई को यहां के लोग काफी पसंद कर रहे हैं।(फोटो सोर्स- फाइनेंशियल एक्सप्रेस)

आपने अक्सर गांव में लोगों को चारपाई(खटिया) का प्रयोग करते हुए देखा होगा। कई बार आप इसे खरीदने के लिए बाजार भी गए होंगे। गांव में ज्यादा पैसा ना मिलने की वजह से चारपाई बनाने वाले इसे शहरों में बेचना ज्यादा सही समझते हैं। लेकिन आजकल एक ऑस्ट्रेलियन की वजह से चारपाई सुर्खियों में बनी हुई है। भले ही भारत के लोगों के लिए अब चारपाई ज्यादा अहमियत नहीं रखती हो लेकिन ऑस्ट्रेलिया में लोग इसे खरीदने के लिए बैचेन रहते हैं। उठाने में हल्की लंबे समय तक साथ देने वाली चारपाई को यहां के लोग काफी पसंद कर रहे हैं। इन दिनों सोशल मीडिया पर एक चारपाई की तस्वीर बड़ी तेजी के साथ वायरल हो रही है। इस विज्ञापन में चारपाई की कीमत को पचास हजार बताया गया है। साथ ही इसकी बहुत सारी खूबियां भी बताई गई है। इतना ही नहीं उस शख्स ने इसे भारतीय सभ्यता की पहचान भी बताया है।

विज्ञापन में दावा किया गया है कि इसको हाथ से बनाया गया है। सिडनी के रहने वाले डेनियल बलोरे ऑस्ट्रेलिया में फर्नीचर का काम करते हैं। वो पिछले कई सालों से बेड बनाते आ रहे हैं। जब वो 2010 में भारत आए थे तो उन्होंने दो चारपाई खरीदी थी।

एक चारपाई तो उन्होंने खुद रखा तथा दूसरा अपने दोस्त को यूज करने के लिए दे दिया। अब वो इसे बेचना चाहते हैं और इसके लिए इन्होंने ये अनोखा तरीका अपनाया। सोशल मीडिया पर इस विज्ञापन को देखकर लोग तरह-तरह के कमेंट कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.