ताज़ा खबर
 

19 साल की उम्र में 6 महीने की बच्ची समेत 15 लोगों को जला कर मारा, कुंग फू से इतना प्यार की इस लीजंड का नाम तक चुराया

इस कुख्यात किलर का असली नाम पीटर डिन्सडेल है। इसने कुंग-फू के प्रति प्यार की वजह से अपना बदलकर ब्रूस ली कर लिया था।

ब्रूस ली ने एक अजन्में बच्चे को मारने के लिए रोज फेन्टन नाम की महिला को जलाने की कोशिश की थी।(फोटो सोर्स – यूट्यूब)

महज 19 साल की उम्र में जिस ब्रूस ली ने 15 लोगों को जिंदा जलाकर दर्दनाक मौत दी अब वो ब्रिटेन की सड़कों पर आजाद घूम रहा है। जिस ब्रूस ली को ब्रिटेन के इतिहास का सबसे खतरनाक सीरियल किलर माना जाता है वो खुले आसमान के नीचे सड़कों पर घूम रहा है। लोगों को जलाकर मारना इसका शौक था

दरअसल, इंग्लैंड में एक वक्त ऐसा था जब लगातार हो रही दर्दनाक मौतों से हर कोई खौफ जदा था, ये समय था सन् 1976 से 1978। इन सालों में लोग एक ऐसे अपराधी के डर के साय में जी रहे थे जो लोगों को जिंदा जलाकर मार देता था। इस कुख्यात किलर का असली नाम पीटर डिन्सडेल है। इसने कुंग-फू के प्रति प्यार की वजह से अपना बदलकर ब्रूस ली कर लिया था। लगातार दो साल तक चली इस हैवानियत का आखिरी शिकार तीन भाई थे। ब्रूस ली ने 4 दिसंबर 1979 को 8 से 15 साल के बीच के 3 भाईयों को भी जिंदा जला दिया था। इसके बाद पुलिस ने इसे गिरफ्तार कर लिया और अदालत ने 1981 में मेंटल हेल्थ एक्ट के तहत उम्र कैद की सजा सुनाई।

ब्रूस ली का जन्म 1961 में हुआ था। इस कुख्यात किलर ने एक बार अपनी मां से कहा था कि वो ज्यादा से ज्यादा लोगों को मारकर अपना नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज कराना चाहता है। 19 साल की उम्र तक ये 15 लोगों को जलाकर मार चुका था। इन दो सालों में 6 महीने की बच्ची से लकर 46 साल तक के लोगों को अपना शिकार बनाया था। कहा जाता है कि ब्रूस ली इतना सनकी था कि वो अपने इस सनकीपन को पूरा करने के लिए हमेशा माचिस और पैराफिन की बोतल साथ लेकर चलता था। ये ज्यादातर छोटे बच्चों को ही मारता था।

हाल ही में एक अदालत ने उसे एक दिन के लिए कैद से मुक्त करते हुए बाहर घूमने की इजाजत दी है। अदालत के इस फैसले का कुछ लोग समर्थन कर रहें हैं तो दूसरी ओर कुछ लोग खुलकर इस फैसले का विरोध भी कर रहे हैं।

ब्रूस ली ने एक अजन्में बच्चे को मारने के लिए रोज फेन्टन नाम की महिला को जलाने की कोशिश की थी। इस महिला का कहना है कि जिसकी वजह से मैंने अपने अपने बच्चे को खो दिया मैं उसे कैसे ऐसे घूमता देख सकती हूं। वहीं कुछ लोगों का कहना है कि इतने खूंखार और भयावह अपराधी को सड़कों पर घूमने देना खतरनाक हो सकता है। अदालत के इस फैसले से 1981 के बाद आर्सोनिस्ट ब्रूस ली पहली बार जेल से छूटकर खुली सड़कों पर घूम रहा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App