scorecardresearch

सुकेश चंद्रशेखर की कहानी: चड्ढी बनाने वालों से लेकर नेताओं तक, कभी IAS तो कभी PMO का अफसर बन ठगा, बंगले में घुसते ही फटी रह गई थीं ED अफसरों की आंखें

सुकेश चंद्रशेखर (Sukesh Chandrashekhar) पहली बार अपने पारिवारिक दोस्त से ठगी के मामले में जेल गया था। उसके बाद कभी नहीं रुका।

सुकेश चंद्रशेखर की कहानी: चड्ढी बनाने वालों से लेकर नेताओं तक, कभी IAS तो कभी PMO का अफसर बन ठगा, बंगले में घुसते ही फटी रह गई थीं ED अफसरों की आंखें
सुकेश चंद्रशेखर (Sukesh Chandrashekhar), बालाजी और शेखर रेड्डी के नाम से भी जाना जाता है। Illustration: Suvajit Dey

ठग सुकेश चंद्रशेखर (Sukesh Chandrashekhar) एक बार फिर चर्चा में है। 200 करोड़ रुपए की ठगी के आरोप में जेल में बंद सुकेश चंद्र शेखर ने आरोप लगाया है कि आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल और सत्येंद्र जैन पर आरोप लगाने के बाद जेल के अंदर उसे प्रताड़ित किया जा रहा है। अब इस मामले में कोर्ट ने रिपोर्ट तलब कर ली है।

कौन है सुकेश चंद्रशेखर? Who is Sukesh Chandrashekhar

सुकेश चंद्रशेखर (Sukesh Chandrashekhar) की कहानी दिलचस्प है। 100 से ज्यादा ठगी की घटनाओं को अंजाम देने वाला सुकेश कभी मुख्यमंत्री का बेटा बन गया तो कभी पुलिस ऑफिसर, कभी PMO का अधिकारी बन गया तो कभी केंद्रीय मंत्री का करीबी। यहां तक कि सुप्रीम कोर्ट का जज बन कर भी ठगी की। ताज्जुब की बात यह है कि सुकेश ने ठगी की ज्यादातर घटनाओं को जेल में रहते हुए अंजाम दिया। आपको बता दें कि सुकेश, साल 2017 के बाद से लगातार जेल में है। 2017 में एआईएडीएमके के बगावती नेता टीटीवी दिनाकरण को ठगने के आरोप में जेल गया था।

17 साल की उम्र में पहली ठगी, पार्टी पर उड़ाए थे पैसे

सुकेश चंद्रशेखर (Sukesh Chandrashekhar) पहली बार 17 साल की उम्र में जेल गया। तब उसने खुद को कर्नाटक के तत्कालीन मुख्यमंत्री एचडी कुमार स्वामी के बेटे का दोस्त बता दिया था और अपने एक पारिवारिक मित्र से कहा कि उनका प्लॉट खाली करवा देगा। इसके बदले 1.14 करोड़ रुपए ठग लिये थे। पुलिस के मुताबिक सुकेश ने इन पैसों से लग्जरी पार्टी की, गाड़ी खरीदी, महंगे कपड़े खरीदे, ज्वेलरी के साथ दूसरी एसेसरीज ली।

Lamborghini से लेकर Rolls Royce का मालिक

पुलिस अधिकारी बताते हैं सुकेश को स्कूल के दिनों से ही लग्जरी गाड़ियों का शौक था। वह बेंगलुरु के जिस स्कूल में पढ़ता था वहां उसके दोस्त एक से बढ़कर एक गाड़ियों में आते थे। चूंकि सुकेश के पिता पार्ट टाइम मैकेनिक और सेल्समैन का काम करते थे, ऐसे में उनकी हैसियत इतनी नहीं थी कि उसे लग्जरी गाड़ी दिला सकें। बाद में मुकेश ने एक से बढ़कर एक गाड़ियां लीं। आईटी डिपार्टमेंट ने उसके कब्जे 8 लग्जरी गाड़ियां रिकवर की थीं। जिसमें लेंबोर्गिनी (Lamborghini), पोर्स (Porsche Cayenne), बेंटले (Bentley), रेंज रोवर (Range Rover), रॉल्स रॉयस (Rolls Royce), बीएमडब्ल्यू,जैगुआर और लैंड क्रूजर शामिल हैं।

दोस्त से शादी और फिर बनी क्राइम पार्टनर

साल 2009 में सुकेश चंद्रशेखर (Sukesh Chandrashekhar) की मुलाकात लीना मारिया पॉल (Leena Maria Paul) से हुई। पहले दोस्ती हुई और फिर दोनों ने शादी कर ली। देखते ही देखते लीना, सुकेश की क्राइम पार्टनर बन गई। साल 2011 में सुकेश ने येदियुरप्पा का सचिव बनकर एक ठगी को अंजाम दिया। इस मामले में जब उसे जेल हुई तो लीना से कुछ दिनों के लिए ब्रेकअप हो गया, लेकिन बाद में दोनों फिर साथ आ गए। आपको बता दें कि सुकेश के पिता चंद्रशेखर और मां माला भी साल 2007 और 2011 में ठगी के केस में जेल जा चुके हैं।

200 करोड़ का वो केस जिससे मचा हड़कंप

सुकेश चंद्रशेखर ने एक ऐसी ठगी को अंजाम दिया जिसे सुन अफसरों के हाथ-पांव फूल गए थे, क्योंकि मामला पीएमओ व गृहमंत्री से जुड़ा था। साल 2021 में फोर्टिस हेल्थकेयर के पूर्व प्रमुख शिविंदर सिंह की पत्नी अदिति सिंह दिल्ली पुलिस के पास पहुंचीं और कहा कि एक शख्स ने ‘लॉ सेक्रेटरी’ बनकर उनसे 200 करोड रुपए ठग लिए। उसने वादा किया था कि अगर वह पार्टी फंड में पैसे देती हैं तो कानूनी पचड़े में फंसे उनके पति की मदद करेंगे।

लैंडलाइन से करता था फोन, Trucaller पर बताया था PMO का अफसर

अदिति सिंह ने बताया था कि शख्स लैंडलाइन से फोन करता था और ट्रूकॉलर पर उसका नाम पीएमओ के अधिकारी के तौर पर आता था। उसने कहा कि वो (अदिति सिंह) पार्टी ऑफिस या नॉर्थ ब्लॉक आकर पूर्व कानून मंत्री या वर्तमान गृह मंत्री से मिल सकती हैं। बस यहीं सुकेश गलती कर बैठा। दिल्ली की स्पेशल सेल ने मुकदमा दर्ज किया और सुकेश को रोहिणी जेल से गिरफ्तार कर लिया, जहां वो पहले से ही बंद था। बाद में केस EOW को ट्रांसफर हो गया और इस मामले में रोहिणी जेल के कई अधिकारियों पर भी गाज गिरी थी।

चड्डी बनाने वालों से लेकर नेताओं तक को लूटा

हिंदी, अंग्रेजी और दक्षिण की लगभग सभी भाषाओं के जानकार सुकेश के बारे में पुलिस अफसर कहते हैं कि एक बार कि उसे देखकर लगेगा ही नहीं कि वह ऐसा शातिर ठग है और ऐसी घटना को अंजाम दे सकता है। सुकेश ने पोल्ट्री फार्म से लेकर अंडरवियर बनाने वाली कंपनियों, प्रेशर कुकर मैन्युफैक्चरर, बैंक कर्मियों, पार्किंग सिस्टम बनाने वालों, ड्राई फ्रूट पैकेजिंग से लेकर सरकारी कर्मचारियों और नेताओं तक को ठगा।

नोरा फतेही (Nora Fatehi) से लेकर जैकलिन फर्नांडीज (Jacqueline Fernandez) जैसी एक्ट्रेस को भी जाल में फंसा लिया। खास बात यह है कि सुकेश अपने टारगेट से खुद कभी नहीं मिलता था। इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में बेंगलुरु पुलिस के अफसर देवराज कहते हैं कि वह पहले इंटरनेट पर सरकारी ठेकों, कंपनियों आदि की जानकारी खंगाल लेता था। उसके बाद टारगेट को फोन करता था।

फटी रह गई थीं ED अफसरों की आंखें

सुकेश चंद्रशेखर का चेन्नई के ईस्ट कोस्ट रोड पर शानदार लग्जरी बंगला है। इस बंगले पर रेड डालने वाली ईडी टीम के एक अधिकारी कहते हैं कि हम लोग इससे पहले बहुत जगह पर डाल चुके हैं, सर्च किया है लेकिन सुकेश के बंगले में पहुंचते ही दंग रह गए थे। डिजाइनिंग से लेकर डेकोरेशन में पानी की तरह पैसा बहाया गया था। शुरुआत में हम लाइट्स और लैंप जैसी चीजों का प्राइस एस्टीमेट ही तैयार नहीं कर पाए। बाद में ऑनलाइन खंगालकर एस्टीमेट तैयार किया गया।

ED अफसरों के मुताबिक सुकेश चंद्रशेखर के बंगले में एक से बढ़कर एक सजावटी चीजें, पेंटिंग, आर्ट वर्क और चांदी-पीतल की मूर्तियां थीं। ठोस तांबे का बना घोड़े का सिर रखा था। इसके अलावा Mercedes-Benz 300 SLR का एक रेप्लिका भी था। सर स्टर्लिंग मॉस (Sir Stirling Moss ) ने 1955 के अपने मशहूर माइल मिगलिया रेस (Mille Miglia race) में यही कार चलाई थी।

पढें विशेष (Jansattaspecial News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 20-12-2022 at 04:09:07 pm
अपडेट