ताज़ा खबर
 

15 साल से ज्‍यादा की लड़कियों को बीवी नहीं बनाते आईएस आतंकी, बच्‍चा पैदा होते ही पहना देते हैं वर्दी- दाई ने बताई अंदर की बातें

नस्र उन लाखों पीड़ितों में से एक हैं जो आतंकियों के कब्जे वाले इराक और सीरिया में रही हैं। इस्लामिक लड़ाकों की अनगिनत पत्नियों की डिलिवरी कराने वाली नस्र (66) कहती हैं कि आतंकी 15 साल से ज्यादा उम्र की लड़कियों को बीवी नहीं बनाते हैं।

इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

सीरिया के रक्का में करीब चार दशकों से दाई का काम कर रही समीरा अल-नस्र ने वहां के हालात की जानकारी दी है। उन्होंने आईएसआईएस के आतंकियों को लेकर भी कुछ चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। अल-नस्र ने कहा है कि उन्होंने हजारों बच्चों की डिलिवरी कराई, लेकिन पिछले दो सालों में यहां के हालात बदल गए हैं। उन्होंने कहा कि यहां आतंकी बच्चे का जन्म होते ही उसे वर्दी पहना देते हैं। अल-नस्र ने बताया कि हाल के दिनों एक तुर्की इस्लामिक लड़ाके के यहां एक बच्चे का जन्म हुआ। जन्म के बाद बच्चे को तुरंत आतंकियों वाली ड्रेस पहना दी गई। इस दौरान उस बच्चे का पिता खुद पर गर्व करते हुए कहता है कि उसका बच्चा भी इस्लामिक लड़ाका बनेगा। अल-नस्र कहती हैं कि मैंने मना किया, क्योंकि बच्चे की नाजुक त्वचा के लिए इतनी मोटी ड्रेस नुकसानदेह होगी, लेकिन वो नहीं माना। नस्र उन लाखों पीड़ितों में से एक हैं जो आतंकियों के कब्जे वाले इराक और सीरिया में रही हैं। इस्लामिक लड़ाकों की अनगिनत पत्नियों की डिलिवरी कराने वाली नस्र (66) आगे कहती हैं कि आतंकी 15 साल से ज्यादा उम्र की लड़कियों को बीवी भी नहीं बनाते हैं।

नस्र ने कहा, “मैंने कई बार आतंकियों का विरोध करने और वहां से भागने की कोशिश की, लेकिन ऐसा नहीं कर सकी।  यहां पकड़े जाने पर हमेशा के लिए जेल या बीच चौराहे पर मौत तक की सजा दी जाती है। उन्होंने मेरे रिटायर्ड अरबी टीचर को भी जेल में डाल रखा है।” नस्र कहती हैं कि ये आतंकी 13 साल से कम और 15 साल से अधिक उम्र की लड़कियों को अपनी बीवी नहीं बनाते हैं। हालांकि, मैंने आमतौर पर देखा है कि सीरिया में पत्नियों की उम्र कभी 18 साल से कम नहीं होती थी। लेकिन रक्का में अब नए उदाहरण देखने को मिल रहे हैं। यहां अधिकतर लोग विदेशी हैं, जिन्होंने स्थानीय लोगों को खूब लूटा। इस्लामिक लड़ाकों के बारे में बात करते हुए नस्र कहती हैं कि वो इंसान नहीं हैं। वो तो अलग ही तरह के प्राणी हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App