ताज़ा खबर
 

World Happiness Report: दुनिया का सबसे खुश देश फिनलैंड, चीन को 84वां और भारत को 139वां स्थान; पाकिस्तान की स्थिति भी बेहतर

युनाइटेड नेशन्स सस्टेनेबल डेवलपमेंट सोल्यूशन्स नेटवर्क द्वारा शुक्रवार को जारी की गई वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट 2021 के मुताबिक लगातार चौथे साल फिनलैंड को दुनिया का सबसे खुशहाल देश घोषित किया गया है।

finlandफिनलैंड को दुनिया का सबसे खुशहाल देश बताया गया है।(AP)।

युनाइटेड नेशन्स सस्टेनेबल डेवलपमेंट सोल्यूशन्स नेटवर्क द्वारा शुक्रवार को जारी की गई वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट 2021 के मुताबिक लगातार चौथे साल फिनलैंड को दुनिया का सबसे खुशहाल देश घोषित किया गया है। इस बीच, सूची में शामिल 149 देशों में से भारत 139 वें स्थान पर है। भारत की रैंकिंग में पिछले साल से इस बार मामूली सुधार हुआ है। पिछले साल भारत 140 वें स्थान पर था। वहीं पड़ोसी देश चीन को 84 वां स्थान, पाकिस्तान को 105 वां स्थान और बांग्लादेश को 101वां स्थान दिया गया है।

इस रिपोर्ट को लेकर आम आदमी पार्टी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया, ‘देश में सब कुछ बर्बाद करके, भाजपा का ‘नीरो’ चुनावी रैलियों में झूठे विकास की बांसुरी बजा रहा है।’ बता दें कि सूची में 10 शीर्ष देशों में से नौ यूरोप के हैं। फिनलैंड के बाद डेनमार्क, स्विट्जरलैंड, आइसलैंड, नीदरलैंड, नॉर्वे, स्वीडन, लक्जमबर्ग, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रिया का नंबर आता है। रिपोर्ट में जीडीपी, सामाजिक समर्थन, व्यक्तिगत स्वतंत्रता, और प्रत्येक देश में भ्रष्टाचार के स्तर जैसे कारकों को ध्यान में रखते हुए खुशी के स्तरों का मूल्यांकन किया गया है। लेकिन इस साल, रिपोर्ट तैयार करने वालों के आगे एक अनूठी नई चुनौती थी। दुनिया भर के देश कोविड -19 महामारी और इसके असर को झेल रहे हैं।

रिपोर्ट तैयार करने वालों में से एक जेफ्री सैक्स ने कहा, ‘महामारी हमें वैश्विक पर्यावरण के खतरों, सहयोग की तत्काल जरूत और प्रत्येक देश और वैश्विक स्तर पर सहयोग प्राप्त करने की कठिनाइयों की याद दिलाती है।’ ‘वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट 2021 हमें याद दिलाती है कि हमें सिर्फ कमाई करने के बजाय भलाई करने का लक्ष्य रखना चाहिए। रिपोर्ट के मुताबिक ऐसी कमाई का कोई फायदा नहीं होगा अगर हम सस्टेनेबल डेवलपमेंट की चुनौतियों का सामना करने के लिए बेहतर काम नहीं करते हैं।’


दुनिया भर में महामारी के कहर के बीच इस साल की रिपोर्ट ने रैंकिंग के दो अलग-अलग सेट तैयार किए। गैलप द्वारा 2018-2020 में किए गए सर्वे के तीन सालों के औसत के आधार पर एक सामान्य सूची तैयार की गई। जबकि दूसरी सूची साल 2020 पर बनाई गई कि कैसे कोविड ने देशों में व्यक्तिगत जीवन को प्रभावित किया?

रिपोर्ट के लेखकों के मुताबिक, भरोसा हर देश में खुशी को मापने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला महत्वपूर्ण कारक था। वे देश जहां नागरिकों को अपने संस्थानों पर अधिक भरोसा था और जहां ज्यादा आय की समानता है, महामारी का मुकाबला करने में वे देश अधिक सफल रहे।

सूची के मुताबिक, अफगानिस्तान दुनिया का सबसे कम खुशहाल देश है। इस बीच, अमेरिका एक स्थान फिसलकर 19 वें स्थान पर आ गया।

 

Next Stories
1 COVID-19: चीन की वैक्सीन लगवाने के दो दिन बाद ही कोरोना पॉजिटिव मिले इमरान खान, आइसोलेशन में भेजे गए
2 नहीं बाज आ रहा चीन! US अफसर का दावा- हिंद-प्रशांत क्षेत्र में पहले से अधिक आक्रामक रुख अपना लिया
3 भारत से सुलह के मूड में PAK? भाषण में आर्मी चीफ बोले- ये अतीत को भुलाकर आगे बढ़ने का समय, नहीं किया कश्मीर में 5 अगस्त की घटना का जिक्र
ये पढ़ा क्या?
X