ताज़ा खबर
 

हाफिज सईद के साले अब्दुल रहमान मक्की का वीडियो आया सामने, मारे गए आतंकियों के लिए पढ़ी नमाज

शनिवार (24 जून) को सीआरपीएफ के एक सब-इंस्पेक्टर की हत्या और दो जवानों को घायल करने वाले आतंकियों को 24 घंटे के अंदर मुठभेड़ में मार गिराया गया था।

अब्दुल रहमान मक्की (दाएं) जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद का साला है। (इंडिया टुडे के वीडियो का स्क्रीनग्रैब)

पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद के साले अब्दुल रहमान मक्की का एक वीडियो सामने आया है जिसमें वो अपने साथियों के साथ रविवार (25 जून) को कश्मीर में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए आतंकवादियों के लिए नमाज पढ़ रहा है। इन दोनों आतंकवादियों ने शनिवार (24 जून) को भारतीय केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के काफिले पर हमला किया करने के बाद एक स्थानीय स्कूल में छिप गए थे। टीवी चैनल इंडिया टुडे के एक्सक्लुसिव वीडियो में रविवार (25) जून को मुठभेड़ में मारे गए लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों के लिए गायबाना नमाज-ए-जनाजा पढ़ी जा रही है। वीडियो में जमात-उद-दावा का प्रमुख नेता सैफुल्ला खालिद मारे गए आतंकवादियों की तारीफ करता नजर आ रहा है। आतंकवादी हाफिज सईद को पाकिस्तान सरकार ने नजरबंद कर रखा है। हाफिज की गैर-मौजूदगी  में जमात-उद-दावा और लश्कर-ए-तैयबा का नेतृत्व मक्की ही कर रहा है। हाफिज सईद साल 2008 में हुए मुंबई हमलों का मुख्य आरोपी है। लश्कर-ए-तैयबा कश्मीर घाटी में भी आतंकवाद फैलाने का काम करता रहा है।

लाहौर स्थित जमात-उद-दावा के मुख्यालय पर सैफुल्ला खालिद लोगों से कहता नजर आ रहा है कि श्रीनगर में पिछले 24 घंटे से लड़ाई जारी है। लश्कर के सिपाही भारतीय सेना से कश्मीर में लड़ रहे हैं। वीडियो में कहा जा रहा है कि अगर आप कश्मीर में लड़ रहे लश्कर के लोगों के लिए कुछ और न कर सकें तो उनके लिए दुआ करें। रविवार को सेना ने श्रीनगर के डीपीएस स्कूल में छिपे दो आतंकवादियों को 14 घंटे के नाकेबंदी के बाद मार गिराया था। शनिवार (24 जून) को आंतकवादियों ने सीआरपीएफ की 29वीं बटालियन की जवानों पर हमला कर दिया था जिसमें एक सब-इंस्पेक्टर मारा गया और दो अन्य सुरक्षाबल घायल हो गए।

अमेरिका ने साल 2014 में ही जमात-उद-दावा को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी संगठन घोषित कर दिया था लेकिन संगठन पाकिस्तान में खुले आम अपनी गतिविधियां चलाता रहा है। माना जाता है कि अमेरिका के दबाव में ही नवाज शरीफ सरकार ने 30 अप्रैल को हाफिज सईद को नजरबंद किया। पिछले कुछ सालों में भारतीय सुरक्षा बलों और उनके कैंपों पर आतंकवादी हमलों की घटनाएं बढ़ी हैं। उरी आर्मी कैम्प पर हमला, पठानकोट एयरबेस पर हुआ हमला शामिल हैं। इस दौरान पाकिस्तान ने दो दर्जन से ज्यादा बार सीज फायर उल्लंघन करके गोलीबारी की। वहीं भारतीय सुरक्षा बलों ने भी नवंबर 2016 में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में नियंत्रण रेखा पार कर के सर्जिकल स्ट्राइक करके कई आतंकवादी ठिकानों को नष्ट कर दिया था।

एक हफ्ते पहले भी मक्की का एक वीडियो यूट्यूब पर सामने आया था जिसमें वो भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनौती देते हुए कश्मीर को “आजादी” दिलाने की बात कहता नजर आया था। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार वो वीडियो पाकिस्तान के फैसलाबाद का था जहां मक्की पत्रकारों से बात कर रहा था। वीडियो में मक्की ने पत्रकारों से कहा कि अगर मीडिया चाहे तो कश्मीर को दो-तीन से हफ्ते में “आजादी” मिल सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App