ताज़ा खबर
 

नवाज शरीफ के सामने आईएसआई डीजी से भिड़ गए पंजाब के सीएम, दिया साफ संदेश- आतंकियों को रोकिए, वरना अलग-थलग पड़िए

प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने जांच एजेंसियों से पठानकोट हमले की जांच पूरी करने के लिए जरूरी कदम उठाने और मुंबई हमलों से संबंधित मुकदमों की रावलपिंडी के आतंकवादनिरोधी अदालत में जल्द ट्रायल शुरू कराने के निर्देश दिए हैं।
सीनियर अफसरों और नेताओं के साथ बैठक करते पाकिस्तान के पीएम नवाज शरीफ (फाइल फोटो)

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के सीएम शाहबाज शरीफ ने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की मौजूदगी में ही आईएसआई के महानिदेशक जनरल रिजवान अख्तर को सख्त चेतावनी भरे अंदाज में कहा कि अगर आपने आतंकियों पर नकेल नहीं लगाई तो अंतर्राष्ट्रीय जगत पाकिस्तान को अलग-थलग कर देगा। पंजाब सरकार ने कई अहम मुद्दों पर देशभर में एकराय बनाने की भी मांग की। इस्लामाबाद में सोमवार को हुई सर्वदलीय बैठक में दो अहम मुद्दों पर सहमति बनी है। पहली ये कि आईएसआई के डीजी को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार नासिर जंजुआ के साथ चार सीमाई प्रांतों का दौरा करेंगे। यह दौरा लाहौर से शुरू भी हो गया है। इनसे कहा गया है कि अपने दौरे के दौरान आईएसआई डीजी प्रांतीय सरकारों को यह संदेश दें कि सेना के नेतृत्ववाली एजेंसियां एन्फोर्समेन्ट एक्ट के तहत हस्तक्षेप नहीं करेंगी जहां आतंकवादी समूह पर प्रतिबंध लगाया गया है फिर वहां ऐसी नागरिक कार्रवाई के लिए मामले लंबित हैं।

दूसरे अहम फैसले के तहत प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने जांच एजेंसियों से पठानकोट हमले की जांच पूरी करने के लिए जरूरी कदम उठाने और मुंबई हमलों से संबंधित मुकदमों की रावलपिंडी के आतंकवादनिरोधी अदालत में जल्द ट्रायल शुरू कराने के निर्देश दिए हैं। पाकिस्तान के अखबार डॉन के सूत्रों के मुताबिक ये दोनों कदम शरीफ सरकार ने उस बैठक में पंजाब के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ और आईएसआई के डीजी रिजवान अख्तर के बीच हुई गरमागरम बहस के बाद उठाया है।

वीडियो देखिए: सेना के हंदवाड़ा कैम्प पर आतंकी हमला

गौरतलब है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने नियंत्रण रेखा के पार आतंकी ठिकानों पर भारत के सर्जिकल स्ट्राइक के जवाब में एकजुट होकर फैसला लेने के लिए सोमवार को सर्वदलीय विशेष बैठक की अध्यक्षता की थी। इस बैठक में पाकिस्तान ने लक्षित हमले के भारत के दावे को सीमा पार से की गयी गोलीबारी को खारिज कर दिया था। बैठक में विदेश सचिव एजाज अहमद चौधरी ने कश्मीर और नियंत्रण रेखा की हालिया स्थिति के बारे में बैठक में शामिल सदस्यों को अवगत कराया। भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर प्रधानमंत्री को हटाने की मांग कर रहे इमरान खान बैठक से दूर रहे लेकिन पूर्व विदेश सचिव शाह महमूद कुरैशी ने बैठक में उनके दल का प्रतिनिधित्व किया। इस बैठक से पहले विदेश सचिव एजाज चौधरी ने पीएमओ में सेना के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों को एक प्रजेंटेशन भी दिया था।

Read Also-नवाज शरीफ के पांच कोट्स: भारत में खेतों पर टैंक चलाकर दूर नहीं हो सकती गरीबी

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.